सीबीआई ने जज को सुनाई सेंगर की हैवानियत, जानिए कैसे नौकरी के नाम पर निलंबित बीजेपी विधायक ने बनाया शिकार   

सीबीआई ने चार्जशीट में विधायक सेंगर के खिलाफ दर्ज किए गए आरोपों को दोहराते हुए कहा कि उन्नाव रेप पीड़िता के आरोप सही हैं। विधायक कुलदीप सेंगर ने अपने सहयोगी शशि सिंह के साथ मिलकर पीड़िता के साथ दुष्कर्म किया था।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

उन्नाव रेप कांड को लेकर तीस हजारी कोर्ट में सुनवाई हो रही है। सीबीआई ने चार्जशीट में विधायक सेंगर के खिलाफ दर्ज किए गए आरोपों को दोहराते हुए कहा कि उन्नाव रेप पीड़िता के आरोप सही हैं। विधायक कुलदीप सेंगर ने अपने सहयोगी शशि सिंह के साथ मिलकर पीड़िता के साथ दुष्कर्म किया था।

सीबीआई ने बताया कि शशि सिंह ने पीड़िता को नौकरी दिलाने के बहाने कुलदीप सिंह सेंगर के घर ले गया। सीबीआई ने पीड़िता द्वारा दिए गए बयान को जज के समाने रखा। सीबीआई ने कहा कि घटना के वक्त विधायक के घर पर कोई मौजूद नहीं था। वहां पर सुरक्षा कर्मी भी नहीं थे। पीड़िता अपने घर पर भी किसी को नहीं बताई थी कि को सेंगर से मिलने जा रही है। कुलदीप सिंह सेंगर का सहयोगी शशि पीड़िता को पीछे ते दरवाजे से अंदर ले गया था। घर में प्रवेश करते ही सेंगर आया और पीड़िता का हाथ खींच के कमरे के अंदर ले गया।

सीबीआई सेंगर पर लगातार शिकंजा कसती जा रही है। कुछ दिन पहले ही आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को उत्तर प्रदेश से दिल्ली के तिहाड़ जेल में शिफ्ट कर दिया गया था। इस मामले की सुनवाई अब तीस हजारी कोर्ट में चल रही है। इसी के तहत विधायक कुलदीप सिंह सेंगर समेत 9 आरोपियों को अदालत में पेश किया गया था।

इधर पीड़िता को भी इलाज के लिए दिल्ली के एम्स लाया गया है। कोर्ट ने सीबीआई को एम्स के आस-पास पीड़िता के परिवार वालों के रहने की उचित व्यवस्था करने के आदेश दिए थे। इसके साथ ही सीबीआई से गवाहों की सुरक्षा पर सील बंद रिपोर्ट मांगी गई थी।

Published: 7 Aug 2019, 3:00 PM
लोकप्रिय