बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर ने उन्नाव पीड़िता के पूरे परिवार को खत्म करवाया, सड़क हादसे में भी उसका हाथ, चाचा का दावा

उन्नाव रेप पीड़िता के चाचा ने कहा कि बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर मेरे पूरे परिवार को खा गया, अब सिर्फ मैं ही बचा हूं। पीड़िता के चाचा ने दावा किया कि कुलदीप सेंगर ने ही हादसा करवाया है। बता दें कि एक दिन के पैरोल पर पीड़िता के चाचा अपनी पत्नी का अंतिम संस्कार करने गांव पहुंचे थे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

उन्नाव रेप केस में पीड़िता के चाचा ने सारी घटनाओं के लिए बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को जिम्मदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि सेंगर मेरे पूरे परिवार को खा गया, अब सिर्फ मैं ही बचा हूं। पीड़िता के चाचा ने दावा किया कि कुलदीप सेंगर ने ही हादसा करवाया है। बता दें कि एक दिन के पैरोल पर पीड़िता के चाचा अपनी पत्नी का अंतिम संस्कार करने गांव पहुंचे थे। इस दौरान कड़ी सुरक्षा व्यवस्था थी। अंतिम संस्कार के बाद चाचा को पुलिस ने रायबरेली जेल भेज दिया है।

उन्नाव कांड की रेप पीड़िता की चाची का शव जैसे ही गंगा घाट के मिश्रा कॉलोनी घाट पर पहुंचा माहौल गमगीन हो गया। पीड़िता के चाचा अपनी पत्नी के शव देख कर रोने लगे। पीड़िता का भाई भी अपने चाचा से लिपट कर रोने लगा। जिसके बाद चाचा ने घरवालों को हिम्मत बंधाई और बोले कि इस लड़ाई में हम पूरी मजबूती के साथ खड़े हैं। न्याय की लड़ाई में पीछे नहीं हटेंगे। विधायक कुलदीप सिंह सेंगर समेत सभी आरोपितों को सजा दिलाकर ही दम लेंगे।

उन्नाव रेप पीड़िता की चाची भी हादसे की शिकार हुई थी, जिसमें उनकी मौत हो गई थी। आज उनका अतिंम संस्कार कर दिया गया। पीड़िता के चाचा को हाई कोर्ट के आदेश पर एक दिन के पेरोल पर पत्नी के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए लाया गया। 11:00 बजे कड़ी सुरक्षा के बीच पीड़िता के चाचा ने पत्नी को मुखाग्नि दी । बुधवार को तड़के ही पीड़िता के चाचा को रायबरेली जेल से कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच लाया गया था। सुबह करीब 8:00 बजे वह शुक्लागंज पहुंच गए थे।

प्रशासन ने मीडिया के लिए अलग बैरिकेडिंग कर दी थी। मीडिया के लोगों ने संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन पीड़िता के चाचा से प्रशासन ने बात करने नहीं दी। मीडिया ने कई बार पीड़िता के चाचा से बात करने की कोशिश की लेकिन प्रशासन ने बात करने नहीं दिया। डीएम ने कहा कि पीड़िता का चाचा न्यायिक अभिरक्षा में है। ऐसे में उसकी सुरक्षा जरूरी है इस वजह से किसी से बात नहीं कर सकता। वह सिर्फ अपनी परिवार के लोगों और रिश्तेदारों से ही बात कर सकता है।

प्रशासनिक अफसर भले ही मीडिया को रोक रहे थे लेकिन पीड़िता का चाचा अपना संदेश मीडिया तक पहुंचाने में नहीं चुके। वह घाट पर पहुंचे तो करीब 1 घंटे तक अपने परिवार को लोगों से बात करते रहे। वह जो बोल रहे थे वह बातें मीडिया के लोगों को सुनाई भी दे रही थी। उसने सीधे तौर पर कहा कि विधायक ने यह घटना कराई है। उनके आदमी हमेशा पीड़िता और उनके घर वालों के पीछे पड़े हैं। न्यायालय से न्याय की पूरी उम्मीद है। वह इस मुश्किल घड़ी में हिम्मत नहीं हारेंगे।

Published: 31 Jul 2019, 4:30 PM
लोकप्रिय