यूपीः अतीक अहमद के बाद उसके भाई पर भी शिकंजा, बरेली जेल में अशरफ की मदद करने वाले दो गिरफ्तार

गिरफ्तार किए गए लोगों में जेल गार्ड शिवहरि अवस्थी और जेल कैंटीन में सब्जियां सप्लाई करने वाले दयाराम शामिल हैं। पुलिस ने इनके कब्जे से दो मोबाइल फोन और 3920 रुपये नगद बरामद किए हैं। अशरफ जुलाई 2020 से बरेली जिला जेल में बंद है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में उमेश पाल हत्याकांड के बाद गैंगस्टर से नेता बने अतीक अहमद के परिवार और सहयोगियों पर शिकंजा कसने के बाद अब यूपी पुलिस ने उसके भाई अशरफ पर कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस ने अशरफ और उसके करीबी सहयोगियों के बीच बरेली जेल में अवैध रूप से मुलाकात कराने के आरोप में एक जेल गार्ड और एक सब्जी विक्रेता को गिरफ्तार कर लिया है।

पूर्व विधायक अशरफ वर्तमान में बरेली जिला जेल में बंद है। गिरफ्तार किए गए लोगों में जेल गार्ड शिवहरि अवस्थी और जेल कैंटीन में सब्जियां सप्लाई करने वाले दयाराम शामिल हैं। पुलिस ने इनके कब्जे से दो मोबाइल फोन और 3920 रुपये नगद बरामद किए हैं। अशरफ जुलाई 2020 से बरेली जिला जेल में बंद है।


अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राहुल भाटी ने कहा कि दयाराम अपने टेम्पो से जेल कैंटीन में सब्जी और अन्य सामान सप्लाई करते समय नकदी और अन्य सामान लेकर अशरफ को दे देता था।
एएसपी ने कहा कि प्रारंभिक जांच में खुलासा हुआ है कि शिवहरि अवस्थी अपने अधिकारियों के आदेश पर जेल के अंदर निर्धारित क्षेत्र के अलावा अन्य जगहों पर सप्ताह में दो या तीन बार एक ही आईडी पर छह-सात लोगों की बैठक करवाता था।

एएसपी ने आगे कहा कि अशरफ और उसके रिश्तेदारों और सहयोगियों के बीच बैठक एक-दो घंटे तक चलती थी और शिकायत के अनुसार अवस्थी इसकी व्यवस्था करने के लिए पैसे लेता था। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि अशरफ के नाम पर 52 मामले दर्ज हैं। उन्होंने कहा कि हम इस बात की जांच कर रहे हैं कि क्या उमेश पाल को खत्म करने की योजना बरेली जेल में बनी थी।


वर्तमान में गुजरात की जेल में बंद अतीक अहमद 2005 में बीएसपी विधायक राजू पाल की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी है। अतीक और अशरफ पर हाल ही में हत्याकांड के मुख्य गवाह उमेश पाल की हत्या के सिलसिले में भी मामला दर्ज किया गया है। यूपी पुलिस ने इस हत्याकांड से जुड़े दो लोगों को एनकाउंटर में मार गिराया है, जबकि अतीक का बेटा फरार चल रहा है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;