लाल किले से चुनावी भाषण

लाल किले से अपने चौथे भाषण के दौरान प्रधानमंत्री के जोश, भाषा और आत्मविश्वास में कोई कमी नहीं थी, लेकिन इसमें कुछ भी नया नहीं था। जनता तीन साल से यह सब बातें सुनती आ रही है।

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बच्चों ने खूबसूरत दृश्य पेश किया / फोटो : Getty Images
स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बच्चों ने खूबसूरत दृश्य पेश किया / फोटो : Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

प्रधानमंत्री ने जहां सुदर्शन चक्र, अर्जुन और राम का उल्लेख किया वहीं अंत में उन्होंने भारत माता की जय और वंदे मातरम के नारे लगाए।

अपने इस भाषण से उन्होंने साफ कर दिया कि वह अब 2019 के आम चुनावों की तैयारी में व्यस्त हैं। पूरी तरह से अपने चुनावी भाषण में प्रधानमंत्री ने तीन तलाक का मुद्दा उठाया। यह वह मुद्दा है जो पहले से ही अदालत में लंबित है और यह बड़ा सवाल है कि जो मामला अदालत में लंबित हो उसे प्रधानमंत्री को अपने संबोधन में उठाना चाहिए या नहीं। उन्होंने कहा जिन बहनों ने तीन तलाक के मामले को आंदोलन की शक्ल दी है उसमें पूरा भारत उनके साथ है।

भीड़ की हिंसा पर उन्होंने कोई सीधी बात नहीं की न ही इसकी निंदा की, बस इशारों में कहा कि आस्था के नाम पर हिंसा की कोई जगह नहीं है। प्रधानमंत्री ने लाल किले से चीन और पाकिस्तान को तो कोई संदेश नहीं दिया, लेकिन कश्मीर के मामले में एक नया नारा ज़रूर दिया है "गोली न गाली, समस्या का समाधान होगा कश्मीरियों को गले लगाने से।" उन्होंने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई जारी रखने का जिक्र करते हुए कहा कि इस लड़ाई में पूरी दुनिया भारत के साथ है।

गोरखपुर में मासूम बच्चों की मौत पर सीधा कुछ नहीं कहा। बल्कि उसे प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले जानी नुकसान से जोड़कर खेद व्यक्त किया। उन्होंने इस पर न तो सीधे किसी प्रकार चिंता जताई और न ही ऐसा वादा किया कि भविष्य में ऐसी दुर्घटनाएं नहीं होंगी।

उन्होंने एक बार फिर यह साबित करने की कोशिश की कि पिछली सरकारों के दौर में कुछ नहीं हो रहा था और देश की गाड़ी को उन्होंने अब सही ट्रैक पर मोड़ा है। उन्होंने कहा कि अब चलता है का ज़माना चला गया, अब तो बदला है, बदल रहा है और बदलेगा का ज़माना है। इस अवसर पर उन्होंने नोटबंदी और काले धन के खिलाफ की जाने वाली कार्रवाई पर फिर से वही पुरानी बातें दोहरायीं। अपने संबोधन में जहां उन्होंने सरकार की तमाम योजनाओं पर प्रकाश डाला वहीं किसानों के प्रति अपनी चिंता व्यक्त की।

दो साल बाद होने वाले 2019 के चुनाव को ध्यान में रखते हुए समाज के हर वर्ग से मुखातिब होने की कोशिश की। उन्होंने जीएसटी को एक बड़ा कदम बताते हुए कहा कि इससे देश को बड़ा लाभ होगा। पाकिस्तान की ओर से होने वाली आतंकवादी गतिविधियों में भले ही कोई कमी न आई हो लेकिन प्रधानमंत्री ने सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र करते हुए कहा कि पूरी दुनिया ने भारत का लोहा माना है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 15 Aug 2017, 1:36 PM