अर्थतंत्र की 5 बड़ी खबरें: भारतीय होटल उद्योग में 53 फीसदी राजस्व गिरावट और सेंसेक्स 300 अंक चढ़ा

भारत के आतिथ्य उद्योग में कोविड-19 महामारी के प्रभाव के कारण पिछले साल की समान अवधि में जनवरी से सितंबर 2020 के दौरान राजस्व प्रति उपलब्ध कमरे (रेवप्र) में 52.8 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

विनय कुमार

भारत के आतिथ्य उद्योग में कोविड-19 महामारी के प्रभाव के कारण पिछले साल की समान अवधि में जनवरी से सितंबर 2020 के दौरान राजस्व प्रति उपलब्ध कमरे (रेवप्र) में 52.8 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। संपत्ति सलाहकार जेएलएल की रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है। जेएलएल के होटल मोमेंटम इंडिया (एचएमआई) 2020 की तीसरी तिमाही के अनुसार, कुल मिलाकर इन्वेंट्री वॉल्यूम के लिहाज से ब्रांड साइनिंग में 2020 की तीसरी तिमाही में वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही के तुलना में 19 फीसदी की गिरावट आई है।

भारत के सभी प्रमुख 11 बाजारों ने पिछले वर्ष की इसी अवधि में 2020 की तीसरी तिमाही में रेवप्र के प्रदर्शन में कमी दर्ज की गई।

पिछले 2020 में इसी अवधि में 88.1 फीसदी की गिरावट के साथ, बेंगलुरू ने 2020 की तीसरी तिमाही में रेवप्र में सबसे तेज गिरावट देखी।

होटल एंड हॉस्पिटैलिटी ग्रुप (इंडिया), जेएलएल के प्रबंध निदेशक जयदीप डांग ने कहा, "निवेशक व्यवसाय और अवकाश (लीशर) दोनों स्थानों में परिचालन होटल के अवसरों की खोज करने में रुचि ले रहे हैं। 2020 की तीसरी तिमाही में अर्थव्यवस्था की चरणबद्ध अनलॉकिंग के साथ, हम विशेष रूप से सप्ताहांत बढ़ोतरी के साथ अवकाश बाजार की मांग में क्रमिक वृद्धि देख रहे हैं।"

सेंसेक्स 300 अंक चढ़ा, निफ्टी में 100 अंकों की बढ़त

भारतीय शेयर बाजार में तेजी का सिलसिला बुधवार को लगातार आठवें सत्र में भी जारी रहा। बाजार की शुरूआत बढ़त के साथ हुई और आरंभिक कारोबार के दौरान सेंसेक्स 300 अंकों से ज्यादा की उछाल के साथ 43,600 से ऊपर चला गया जबकि निफ्टी 100 अंकों से ज्यादा की बढ़त के साथ 12,750 से ऊपर पहुंच गया। बाजार के जानकार बताते हैं कि हालांकि वैश्विक बाजारों से कोई बहुत उत्साहवर्धक संकेत नहीं मिले फिर भी घरेलू शेयर बाजार में निवेशकों में तेजी का रुझान बना हुआ है जिससे जोरदार लिवाली देखी जा रही है। बैंकिंग और वित्तीय सेक्टरों में लिवाली बनी हुई थी।

सेंसेक्स सुबह 9.25 बजे पिछले सत्र से 322.64 अंकों यानी 0.75 फीसदी की तेजी के साथ 43,600.29 पर बना हुआ था जबकि निफ्टी बीते सत्र से 96.25 अंकों यानी 0.76 फीसदी की बढ़त के साथ 12,727.35 पर कारोबार कर रहा था।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स बीते सत्र से 166.41 अंकों की बढ़त के साथ 43,444.06 पर खुला और आरंभिक कारोबार के दौरान 43,675.59 तक उछला जबकि इसका निचला स्तर 43,347.64 रहा।

वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी बीते सत्र से 49.50 अंकों की तेजी के साथ 12,680.60 पर खुला और आरंभिक कारोबार के दौरान 12,752.90 तक उछला जबकि इसका निचला स्तर 12,656.60 रहा।

जानकार बताते हैं कि निवेशकों की नजर फिलहाल घरेलू कंपनियों द्वारा जारी होने वाले वित्तीय नतीजों पर होगी क्योंकि बुधवार को 600 से ज्यादा कंपनियां चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के अपने वित्तीय नतीजे जारी करेंगी।


अक्टूबर में घरेलू यात्री वाहनों की बिक्री में 14 फीसदी की बढ़ोतरी

इस फेस्टिव सीजन में साल-दर-साल के आधार पर अक्टूबर में होने वाली घरेलू यात्री वाहनों की बिक्री में तेजी आई है। बुधवार को जारी हुए इण्डस्ट्री के आंकड़ों के अनुसार, अक्टूबर में यात्री वाहनों की बिक्री 14.19 प्रतिशत बढ़ी। इस श्रेणी में कारें, यूटिलिटी व्हीकल्स और वैन शामिल हैं। 2019 की इसी अवधि में घरेलू बाजार में 2,71,737 यूनिट बेचीं गईं थीं, जबकि इस साल 3,10,294 यात्री वाहन बेचे गए।

सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्च र्स (सियाम) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार भी अक्टूबर के दौरान बिक्री में क्रमिक वृद्धि देखी गई। वहीं इससे पहले सितंबर में कुल 2,72,027 यात्री वाहन घरेलू बाजार में बेचे गए थे।

देश भर में दिवाली की खरीदारी, 60 हज़ार करोड़ रुपए के व्यापार का अनुमान

कोरोना महामारी के साये में इस बार मन रही दिवाली की चहल पहल बाजारों में शुरू हो गई है। इस त्योहार की ख़रीदारी के लिए दिल्ली सहित देश भर के बाज़ारों में ग्राहकों की भीड़ दिखने लगी है। इससे व्यापारी भी उत्साहित दिखाई दे रहे हैं। इन्हें उम्मीद है कि आठ महीने के व्यापारिक वनवास से उन्हें अब मुक्ति मिल जाएगी। इसे देखते हुए कारोबारियों ने इस बार देश भर में 60 हजार करोड़ रुपये के व्यापार का अनुमान लगाया है।


होटल और ट्रैवेल उद्योग में लौटी नौकरियां : नौकरी डॉट कॉम

लॉकडाउन से सबसे ज्यादा प्रभावित होटल और ट्रैवल उद्योग में रिकवरी होने लगी है। अक्टूबर के महीने में इस सेक्टर में सितंबर महीने की तुलना में 33 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की गई है। नौकरी डॉट कॉम की एक रिपोर्ट में बुधवार को इसका खुलासा हुआ। टिकटिंग/यात्रा/एयरलाइंस और आतिथ्य (हॉस्पिटैलिटी) क्षेत्रों में पेशेवरों की मांग में सितंबर की तुलना में अक्टूबर में 35 प्रतिशत और 28 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई।

ओयो, ट्रैवल ट्रायंगल, क्लब महिंद्रा, सोडेक्सो और फ्रैंकफिन एविएशन जैसी कंपनियां पेशेवरों की तलाश कर रही हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि दिल्ली (24 फीसदी), मुंबई (7 फीसदी), बेंगलुरु (6 फीसदी), हैदराबाद, चेन्नई और कोलकाता सहित 6 महानगरों ने इस सेक्टर में नौकरियों में 50 फीसदी का योगदान दिया है।

इसके अलावा, पुणे, जयपुर और अहमदाबाद जैसे शहरों में भी वृद्धि दर्ज की गई है। लॉकडाउन में जून से प्रतिबंधों में छूट और जुलाई में मामूली गिरावट के बाद से रिकवरी में लगातार तेजी देखी जा रही है। हालांकि, कोविड के पहले की स्थिति में लौटने की राह अभी लंबी है।

रिपोर्ट ने कहा, "जब हम कोविड के पहले और बाद की स्थिति को देखते हैं, तो फरवरी की तुलना में अक्टूबर में इस सेक्टर में 61 प्रतिशत की गिरावट देखी गई है।" जिस काम के लिए सबसे ज्यादा हायरिंग हो रही है उसमें मार्केटिंग, बिजनेस डेवलपमेंट मैनेजर, फ्रंट ऑफिसर, गेस्ट रिलेशनशिप मैनेजर, ट्रैवेल एजेंट, ग्राउंड स्टाफ और एकाउंटेंट शामिल हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि फैसिलिटी मैनेजर, हाउस कीपिंग और इलेक्ट्रिकल मेंटेनेंस जैसे सेक्टरों में 400 फीसदी, 279 फीसदी और 21 फीसदी की वृद्धि है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia