अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: भारत में OLX ने की 250 कर्मियों की छंटनी और जानें क्या रहेगी शेयर बाजार को दिशा

घरेलू शेयर बाजार को इस सप्ताह देसी कंपनियों द्वारा जारी होने वाले दूसरी तिमाही के वित्तीय नतीजों और प्रमुख आर्थिक आंकड़ों से दिशा मिलेगी। ओएलएक्स ने भारत में 250 लोगों की छंटनी की है और ऐसा संगठन की रणनीति में बदलाव के एक हिस्से के रूप में किया गया है।

: IANS
: IANS
user

रवि प्रकाश

दूसरी तिमाही के नतीजे, आर्थिक आंकड़ों से इस हफ्ते मिलेगी शेयर बाजार को दिशा


घरेलू शेयर बाजार को इस सप्ताह देसी कंपनियों द्वारा जारी होने वाले दूसरी तिमाही के वित्तीय नतीजों और प्रमुख आर्थिक आंकड़ों से दिशा मिलेगी। हालांकि कोरोनावायरस संक्रमण के प्रकोप का साया बना रहेगा, लेकिन इससे मिल रही आर्थिक चुनौतियों से निपटने के लिए वैश्विक स्तर पर किए जा रहे उपायों और कोरोना के टीके तैयार करने की दिशा में हो रही प्रगति का असर शेयर बाजार पर देखने को मिलेगा। खासतौर से अमेरिका के प्रोत्साहन पैकेज पर बाजार की नजर टिकी रहेगी। देश की प्रमुख आईटी कंपनियां -- विप्रो, इन्फोसिस और एचसीएल टेक्नोलोजी समेत कई अन्य कंपनियां चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के वित्तीय नतीजे इस सप्ताह जारी करने वाली हैं। विप्रो के वित्तीय नतीजे सप्ताह के आरंभ में सोमवार को ही जारी होंगे जबकि इन्फोसिस की वित्तीय नतीजे बुधवार को और एचसीएल टेक्नोलोजी के नतीजे सप्ताह के आखिर में शुक्रवार को जारी होंगे।

दिल्ली : जुलाई-सितंबर में सीपी, खान मार्केट में औसत खुदरा किराया 14 फीसदी घटा


कोरोना महामारी ने चूंकि व्यापार पर बुरा प्रभाव डाला है, इसलिए महंगी कॉमर्शियल जगहों के किराए में भी गिरावट आई है। राष्ट्रीय राजधानी के प्रमुख रिटेल स्थानों--कनॉट प्लेस, खान मार्केट और साउथ एक्सटेंशन (प्रथम व द्वितीय) में औसत मासिक खुदरा किराए में पिछले साल की समान अवधि की तुलना में जुलाई-सितंबर तिमाही के दौरान 14 प्रतिशत की गिरावट आई है। 'कुशमैन एंड वेकफील्ड' की एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। साल 2020 में तीसरी तिमाही के दौरान खान मार्केट में एक महीने का औसत खुदरा किराया 1,200 रुपये प्रति वर्ग फीट था। इसी तरह, कनॉट प्लेस और साउथ एक्सटेंशन (प्रथम व द्वितीय) में औसत खुदरा किराए क्रमश: 900 रुपये और 600 रुपये थे।

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) के अन्य वाणिज्यिक क्षेत्रों में भी किराए पर असर पड़ा। गुरुग्राम के सेक्टर-29 और नोएडा के सेक्टर-18 में औसत खुदरा किराए में क्रमश: 23 फीसदी और 28 फीसदी की गिरावट आई।

इस त्यौहारी मौसम में लोगों का रुझान ऑनलाइन खरीदारी की ओर


त्यौहारों के मौसम की शुरूआत अब बस होने ही वाली है। इसे लेकर तैयारियां भी शुरू हो गई हैं। इसी बीच एक सर्वे के मुताबिक, इस बार ऑनलाइन शॉपिंग में 51 फीसदी तक की तेजी आई है। साल 2019 में हुए लोकल सर्कल्स में केवल 27 फीसदी ही ग्राहक ऐसे थे, जिनकी पहली प्राथमिकता ऑनलाइन शॉपिंग रही थी, हालांकि इस बार यह कुछ अलग है।

साल 2020 में त्यौहारों के इस मौसम में लोकल सर्कल्स द्वारा किए गए सर्वेक्षण में यह बात सामने आई है कि इस बार 51 फीसदी लोग शॉपिंग के लिए ई-कॉमर्स साइट या तरह-तरह के ऐप का इस्तेमाल करेंगे क्योंकि पिछले साल की तुलना में इस बार कुछ बदलाव आया है।

इसके अलावा, अगर हम लघु, मझले व कुटीर उद्योगों से खरीददारी की बात करें, तो 80 फीसदी लोगों ने इसके लिए हांमी भरी है, केवल 10 फीसदी ही ऐसे रहे हैं, जिन्होंने अपना जवाब ना में दिया है और 10 फीसदी इस बारे में अनिश्चित दिखे हैं।

दिल्ली में इलेक्ट्रिक वाहनों पर लगने वाला रोड टैक्स माफ


दिल्ली में इलेक्ट्रिक वाहनों पर लगने वाला रोड टैक्स माफ कर दिया गया है। दिल्ली सरकार ने यह आदेश जारी किया है। इसको लेकर गजट नोटिफिकेशन जारी किया गया है। गजट नोटिफिकेशन जारी किए जाने के बाद दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा, दिल्ली को बधाई। जैसा कि सीएम अरविंद केजरीवाल ने लैंडमार्क इलेक्ट्रिक वाहन पॉलिसी को लेकर वादा किया था, दिल्ली सरकार ने इलेक्ट्रिक वाहनों पर रोड टैक्स समाप्त कर दिया है। बैट्री ऑपरेटेड व्हीकल्स को सही प्रोत्साहन और सहायक इन्फ्रा के साथ, हम यह सुनिश्चित करने के लिए ²ढ़ हैं कि दिल्ली में इलेक्ट्रिक वाहनों का तेजी से प्रसार हो।

गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने इलेक्ट्रिक व्हीकल्स पॉलिसी-2019 का नोटिफिकेशन जारी कर चुकी है। यह तीन साल के लिए वैध होगी।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के मुताबिक इस पॉलिसी का मुख्य उद्देश्य दिल्ली की अर्थव्यवस्था को गति देना और प्रदूषण को कम करना है। दिल्ली में 2024 तक जितने भी नए वाहन पंजीकृत होंगे, उसमें से 25 प्रतिशत नए वाहन इलेक्ट्रिक के होंगे।

भारत में ओएलएक्स ने की 250 कर्मियों की छंटनी


सेकेंड हैंड सामानों की बिक्री के लिए बनाए गए प्लेटफॉर्म ओएलएक्स ने भारत में 250 लोगों की छंटनी की है और ऐसा संगठन की रणनीति में बदलाव के एक हिस्से के रूप में किया गया है। इस छंटनी से प्रभावित होने वाले अधिकतर कर्मचारी सेल्स और सपोर्ट टीम से हैं।

ओएलएक्स के एक प्रवक्ता ने रविवार को आईएएनएस संग हुई बातचीत में कहा, "अपनी रणनीति पर पुर्नविचार करते हुए हमने पिछले हफ्ते कुछ नई रूपरेखा के निर्माण का फैसला लिया, जिससे सेल्स और सपोर्ट टीम से हमारे 250 सहकर्मी प्रभावित हुए हैं।"

साल 2009 में भारत आए ओएलएक्स का कहना है कि भारत के बाजार में इसने काफी निवेश किया है और निरंतर विकास के लिए ये प्रतिबद्ध हैं और साथ ही स्थानीय रूप से ये निवेश करना जारी रखेंगे ताकि अपने ग्राहकों को बेहतर अनुभव दिला सकें।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय
next