अर्थ जगत: शेयर बाजार में बिकवाली से भूचाल और नई नौकरी पर विचार कर रहे हैं 88 प्रतिशत भारतीय पेशेवर

घरेलू शेयर बाजार में बुधवार को 2 फीसदी की गिरावट आई। एक ताजा रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि भारत में लगभग 10 में से नौ (88 प्रतिशत) पेशेवर आर्थिक अनिश्चितता के बावजूद 2024 में नई नौकरी पर विचार कर रहे हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

एशियन पेंट्स ने अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में शुद्ध लाभ में 35 फीसदी की वृद्धि की दर्ज

अर्थ जगत: शेयर बाजार में बिकवाली से भूचाल और नई नौकरी पर विचार कर रहे हैं 88 प्रतिशत भारतीय पेशेवर

देश की सबसे बड़ी पेंट निर्माता कंपनी एशियन पेंट्स ने बुधवार को मजबूत बिक्री के दम पर चालू वित्त वर्ष की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में समेकित शुद्ध लाभ में 35 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 1,447.72 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी दर्ज की।

पिछले साल की समान तिमाही में कंपनी ने 1,072.67 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया था।

डेकोरेटिव सेगमेंट में 12 फीसदी की वॉल्यूम ग्रोथ से कंपनी का टर्नओवर 5 फीसदी से ज्यादा बढ़कर 9,075 करोड़ रुपये हो गया।

सीईओ और प्रबंध निदेशक अमित सिंगले ने एक बयान में कहा, "त्योहारी सीजन के बढ़ने से विकास को समर्थन मिला, हालांकि हमने तिमाही के उत्तरार्ध में मांग में कुछ कमी देखी।"

शेयर बाजार बुधवार को 2 फीसदी से अधिक टूटा

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के प्रमुख (रिटेल रिसर्च) सिद्धार्थ खेमका ने कहा कि वैश्विक स्तर पर कमजोर माहौल और एचडीएफसी बैंक के शेयर में भारी बिकवाली के बीच घरेलू शेयर बाजार में बुधवार को 2 फीसदी की गिरावट आई।

बिकवाली तेज होने से निफ्टी में भी भारी गिरावट देखी गई और यह 460 अंक (2.1 फीसदी) की गिरावट के साथ 21,572 पर बंद हुआ। उन्होंने कहा कि भारी उतार-चढ़ाव के बीच आईटी सेक्टर को छोड़कर सभी सेक्टर लाल निशान में बंद हुए।

उन्होंने कहा कि बैंक निफ्टी में 4 फीसदी की गिरावट के साथ बैंकिंग सेक्टर को सबसे ज्यादा झटका लगा। एचडीएफसी बैंक के तीसरी तिमाही के नतीजे कंपनी के लिए उम्मीद से कमजोर रहे। 22,000 अंक से ऊपर हाल ही में नई ऊंचाई बनाने के बाद, निफ्टी में भारी गिरावट देखी गई और नकारात्मक वैश्विक और घरेलू संकेतों से प्रभावित होकर कमजोर हो गया।

उन्होंने कहा, फेड की टिप्पणी, मध्य पूर्व में बढ़ते तनाव और बॉन्ड यील्ड में बढ़ोतरी ने निवेशकों के सेंटीमेंट्स को प्रभावित किया है।


2022 की तुलना में 2023 में 5.2 प्रतिशत बढ़ी चीन की जीडीपी

अर्थ जगत: शेयर बाजार में बिकवाली से भूचाल और नई नौकरी पर विचार कर रहे हैं 88 प्रतिशत भारतीय पेशेवर

चीनी राज्य परिषद सूचना कार्यालय ने संवाददाता सम्मेलन आयोजित कर वर्ष 2023 की राष्ट्रीय आर्थिक स्थिति का परिचय दिया। परिचय के अनुसार वर्ष 2023 में चीन का सकल घरेलू उत्पाद 1260 खरब 58 अरब 20 करोड़ युवान रहा, जो पिछले साल से 5.2 प्रतिशत बढ़ा।

प्राथमिक उद्योग का अतिरिक्त मूल्य 89 खरब 75 अरब 50 करोड़ युवान रहा, जो पिछले साल से 4.1 प्रतिशत बढ़ा। द्वितीयक उद्योग का अतिरिक्त मूल्य 482 खरब 58 अरब 90 करोड़ युवान रहा, जो पिछले साल से 4.7 प्रतिशत बढ़ा। तृतीयक उद्योग का अतिरिक्त मूल्य 688 खरब 23 अरब 80 करोड़ युवान रहा, जो पिछले साल से 5.8 प्रतिशत बढ़ा।

इसके अलावा वर्ष 2023 में चीन के अनाज का कुल उत्पादन 69 करोड़ 54 लाख 10 हजार टन रहा, जो पिछले साल से 1.3 प्रतिशत बढ़ा। वर्ष 2023 में नागरिक उपभोग कीमतों का सूचकांक (सीपीआई) पिछले साल से 0.2 प्रतिशत बढ़ा।

2024 में नई नौकरी पर विचार कर रहे हैं 88 प्रतिशत भारतीय पेशेवर : रिपोर्ट

एक ताजा रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि भारत में लगभग 10 में से नौ (88 प्रतिशत) पेशेवर आर्थिक अनिश्चितता के बावजूद 2024 में नई नौकरी पर विचार कर रहे हैं।

पेशेवर नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म लिंक्डइन के अनुसार, 2023 की तुलना में संख्या में चार प्रतिशत की (वर्ष-दर-वर्ष) वृद्धि हुई है। रिपोर्ट में कहा गया, ''यह दृष्टिकोण में बदलाव का संकेत देता है, जहां पेशेवर अपने करियर के मालिक खुद हैं और अपने करियर विकास पर ध्यान केंद्रित करके खोए हुए समय की भरपाई करना चाहते हैं।''

24 नवंबर, 2023 से 12 दिसंबर, 2023 के बीच पूरे भारत में फुल टाइम और पार्ट टाइम जॉब वाले 1,097 पेशेवरों का सर्वेक्षण किया गया। लिंक्डइन की करियर एक्सपर्ट और सीनियर मैनेजिंग एडिटर निरजिता बनर्जी ने कहा, "अपनी नौकरी की तलाश में सफल होने के लिए, पेशेवरों के लिए यह आवश्यक है कि वे अपनी प्रोफाइल को बेहतर बनाने, अपने कौशल को उजागर करने और उद्योग के विकास के बारे में सूचित रहने के लिए टाइम दें।"


गूगल पे इंडिया वैश्विक स्तर पर यूपीआई भुगतान के विस्तार के लिए एनपीसीआई इंटरनेशनल से जुड़ा

अर्थ जगत: शेयर बाजार में बिकवाली से भूचाल और नई नौकरी पर विचार कर रहे हैं 88 प्रतिशत भारतीय पेशेवर

गूगल इंडिया डिजिटल सर्विसेज आउट लिमिटेड ने बुधवार को नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी एनपीसीआई इंटरनेशनल पेमेंट्स लिमिटेड (एनआईपीएल) के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए जिसका उद्देश्य दूसरे देशों में यूपीआई के परिवर्तनकारी प्रभाव का विस्तार करना है।

यह समझौता भारत के बाहर यात्रियों के लिए यूपीआई भुगतान के उपयोग को व्यापक बनाने का प्रयास करता है, जिससे वे विदेश में आसानी से लेनदेन कर सकें।

टेक दिग्गज ने एक बयान में कहा कि एमओयू का उद्देश्य अन्य देशों में यूपीआई जैसी डिजिटल भुगतान प्रणाली स्थापित करने में सहायता करना है, जो निर्बाध वित्तीय लेनदेन के लिए एक मॉडल प्रदान करता है। इसके अलावा, यह यूपीआई बुनियादी ढांचे का उपयोग करके देशों के बीच प्रेषण की प्रक्रिया को आसान बनाने पर ध्यान केंद्रित करता है, जिससे सीमा पार वित्तीय आदान-प्रदान सरल हो जाएगा।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;