अर्थ जगत: 2,000 रुपए के 97.38 फीसदी नोट वापस आ गए और अप्रैल-दिसंबर में जीएसटी कलेक्शन 12 फीसदी बढ़ा

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने सोमवार को कहा कि 2000 रुपए के 97.38 प्रतिशत बैंक नोट अब बैंकों में वापस आ गए हैं। केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि सरकार का जीएसटी कलेक्शन दिसंबर, 2023 में साल-दर-साल 10 फीसदी बढ़कर 1.65 लाख करोड़ रुपए हो गया।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

2,000 रुपए के 97.38 फीसदी नोट वापस आ गए : आरबीआई

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने सोमवार को कहा कि 29 दिसंबर को कारोबार बंद होने पर बैंक से बाहर 2,000 रूपए के बैंक नोटों का कुल मूल्य घटकर 9,330 करोड़ रूपए रह गया। इस तरह 2000 रुपए के 97.38 प्रतिशत बैंक नोट अब बैंकों में वापस आ गए हैं।

19 मई, 2023 को कारोबार बंद होने पर प्रचलन में 2,000 रुपये के बैंक नोटों का कुल मूल्य 3.56 लाख करोड़ रुपये था, जब इसे बैंकों में जमा करने की घोषणा की गई थी।

2,000 रुपये के बैंक नोटों को बदलने की सुविधा 19 मई, 2023 से रिजर्व बैंक के 19 दफ्तरों में अभी भी उपलब्ध है। 9 अक्टूबर, 2023 से, आरबीआई के कार्यालय भी व्यक्तियों/संस्थाओं से उनके बैंक खातों में जमा करने के लिए 2,000 रुपए के बैंक नोट स्वीकार कर रहे हैं।

इसके अलावा, आरबीआई के बयान के अनुसार, देश के अंदर जनता अपने बैंक खातों में क्रेडिट के लिए किसी भी डाकघर से आरबीआई के किसी भी कार्यालय में इंडिया पोस्ट के माध्यम से 2,000 रूपए के नोट भेज रही है।

अप्रैल-दिसंबर में जीएसटी कलेक्शन 12 फीसदी बढ़कर 14.97 लाख करोड़ रुपए हुआ

अर्थ जगत: 2,000 रुपए के 97.38 फीसदी नोट वापस आ गए और अप्रैल-दिसंबर में जीएसटी कलेक्शन 12 फीसदी बढ़ा

केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि सरकार का जीएसटी कलेक्शन दिसंबर, 2023 में साल-दर-साल 10 फीसदी बढ़कर 1.65 लाख करोड़ रुपए हो गया। इसके साथ ही अप्रैल-दिसंबर 2023 के लिए पूरा जीएसटी कलेक्शन अब 14.97 लाख करोड़ रुपए हो गया है, जो पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में 12 प्रतिशत की वृद्धि है।

यह लगातार दसवां महीना है जब मासिक जीएसटी कलेक्शन 1.5 लाख करोड़ रुपए से अधिक हो गया है।

पिछले कुछ वर्षों में मासिक जीएसटी कलेक्शन में वृद्धि हुई है। यह 2017-18 में प्रति माह औसतन 1 लाख करोड़ रुपए से कम था। महामारी से प्रभावित 2020-21 के बाद कलेक्शन तेजी से बढ़कर 2022-23 में औसतन 1.51 लाख करोड़ रुपए हो गया।


ओला इलेक्ट्रिक ने दिसंबर 2023 में अब तक का सबसे अधिक मासिक रजिस्ट्रेशन दर्ज किया, 30 हजार का आंकड़ा पार

अर्थ जगत: 2,000 रुपए के 97.38 फीसदी नोट वापस आ गए और अप्रैल-दिसंबर में जीएसटी कलेक्शन 12 फीसदी बढ़ा

ओला इलेक्ट्रिक ने सोमवार को घोषणा की, कि उन्होंने दिसंबर 2023 में अपना अब तक का सबसे अधिक मासिक पंजीकरण दर्ज किया। वाहन पोर्टल के मुताबिक कंपनी ने 30,219 पंजीकरण दर्ज किए और ईवी 2डब्ल्यू सेगमेंट में 40 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी हासिल की।

कंपनी ने 2022 के इसी महीने की तुलना में साल-दर-साल 74 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की। इसके अलावा, दिसंबर में समाप्त तिमाही के दौरान 83,963 पंजीकरणों के साथ इसने 48 प्रतिशत की तिमाही-दर-तिमाही वृद्धि दर्ज की और 2022 की समान तिमाही की तुलना में 68 प्रतिशत की साल-दर-साल वृद्धि दर्ज की।

ओला इलेक्ट्रिक टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य विपणन अधिकारी अंशुल खंडेलवाल ने एक बयान में कहा, ''हमारा मानना है कि हमने एस1 प्रो, एस1 एयर और एस1 एक्स प्लस सहित अपने मजबूत प्रोडक्ट लाइनअप के दम पर एक और तिमाही के लिए अपना बाजार नेतृत्व जारी रखा है। हमारा 'दिसंबर टू रिमेम्बर' कैंपेन भारी सफल रही है, जिससे हजारों लोग ईवी के दायरे में आ गए हैं।''

आरबीआई डिप्टी गवर्नर ने बैंकिंग क्षेत्र में एआई के उपयोग के जोखिमों से किया आगाह

अर्थ जगत: 2,000 रुपए के 97.38 फीसदी नोट वापस आ गए और अप्रैल-दिसंबर में जीएसटी कलेक्शन 12 फीसदी बढ़ा

आरबीआई के डिप्टी गवर्नर एम. राजेश्वर राव ने सोमवार को कहा कि बैंकिंग क्षेत्र में एआई की तैनाती से होने वाले जोखिमों को लेकर मानव पर्यवेक्षण की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि एआई पर कुछ चिंताएं डिजाइन को लेकर हैं, जबकि कुछ अन्य अधिक डेटा गोपनीयता, साइबर सुरक्षा, उपभोक्ता संरक्षण और वित्तीय स्थिरता को संरक्षित करने को लेकर है।

उन्होंने कहा कि इन मुद्दों को तीन व्यापक श्रेणियों - डेटा बायस और मजबूती, गवर्नेंस और पारदर्शिता में रखा जा सकता है। “जैसे-जैसे एआई का चलन बढ़ रहा है, इसके उपयोग को निर्देशित करने में मदद करने के लिए नियामक ढांचे को विकसित करने के वैश्विक प्रयास भी बढ़ रहे हैं और इस प्रक्रिया में अधिक सहयोग की आवश्यकता होगी।

राव ने इंडियन इकोनोमिक एसोसिएशन के वार्षिक सम्मेलन में कहा, "हमारा सामूहिक प्रयास इस विकास को सावधानी और जिम्मेदारी के साथ अपनाने का होना चाहिए, साथ ही एक ऐसे भविष्य के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए जहां प्रौद्योगिकी बड़े पैमाने पर समाज के लिए एक सक्षमकर्ता के रूप में काम करेगी।"


सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स की विदेशी शुद्ध खरीदारी अब तक के उच्चतम स्तर पर

शेयर बाजार के सोमवार के आंकड़ों से पता चला कि सेमीकंडक्टर इंडस्ट्री में सुधार की बढ़ती उम्मीदों के चलते विदेशी निवेशकों की सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स शेयरों की शुद्ध खरीदारी पिछले साल अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई।

कोरिया एक्सचेंज (केआरएक्स) के आंकड़ों के मुताबिक, ऑफशोर निवेशकों ने पिछले साल दुनिया की सबसे बड़ी मेमोरी चिप निर्माता कंपनी सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स के शेयरों से शुद्ध रूप से 16.7 ट्रिलियन वॉन (12.9 बिलियन डॉलर) मूल्य के स्टॉक जुटाए।

समाचार एजेंसी योनहाप की रिपोर्ट के अनुसार, 1999 में एक्सचेंज ऑपरेटर केआरएक्स द्वारा इस तरह के डेटा को संकलित करना शुरू करने के बाद से यह सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स शेयरों की सबसे बड़ी विदेशी शुद्ध खरीद है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;