अर्थजगत की खबरें: बैंक कर्ज में 9.16 फीसदी की बढ़ोतरी, जमा धन भी बढ़ा और तमिलनाडु में 2 दिन में इतने करोड़ की शराब बिक्री

कोरोना काल में बैंकों के क्रेडिट के साथ-साथ जमा पूंजी में भी तेजी दर्ज की गई है और तमिलनाडु सेल्स एंड मार्केटिंग कॉरपोरेशन(टास्मैक) ने पोंगल उत्सव के दौरान 13 और 14 जनवरी को 520.13 करोड़ रुपये की शराब बेची।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बैंक कर्ज में 9.16 फीसदी की बढ़ोतरी, 10.28% बढ़ा जमा धन

कोरोना काल में बैंकों के क्रेडिट के साथ-साथ जमा पूंजी में भी तेजी दर्ज की गई है। बैंक कर्ज 31 दिसंबर, 2021 को समाप्त पखवाड़े में 9.16 फीसदी बढ़कर 116.83 लाख करोड़ रुपये और जमा राशि 10।28 फीसदी की वृद्धि के साथ 162.41 लाख करोड़ रुपये पहुंच गई। भारतीय रिजर्व बैंक यानी आरबीआई के शेड्यूल्ड बैंक के कर्ज और जमा के बारे में शुक्रवार को जारी किए गए 31 दिसंबर, 2021 को समाप्त पखवाड़े के आंकड़े से यह यह पता चला। एक जनवरी, 2021 को समाप्त पखवाड़े में, बैंक कर्ज 107.02 लाख करोड़ रुपये और जमा 147.26 लाख करोड़ रुपये था। इससे पहले, 17 दिसंबर, 2021 को समाप्त पखवाड़े में, बैंक अग्रिमों में 7।27 फीसदी और जमा में 9।58 फीसदी की वृद्धि हुई थी। वित्त वर्ष 2020-21 में, बैंक कर्ज में 5.56 फीसदी और जमा में 11.4 फीसदी की वृद्धि हुई थी।

पोंगल त्योहार के दौरान तमिलनाडु में 520 करोड़ रुपये की हुई शराब की बिक्री

तमिलनाडु सेल्स एंड मार्केटिंग कॉरपोरेशन(टास्मैक) ने पोंगल उत्सव के दौरान 13 और 14 जनवरी को 520.13 करोड़ रुपये की शराब बेची। टास्मैक के बयान के अनुसार, 13 जनवरी के दौरान बिक्री 203.05 करोड़ रुपये थी, जबकि 14 जनवरी को बिक्री 317.08 करोड़ रुपये थी। 2021 में इसी अवधि में टास्मैक की बिक्री 417.18 करोड़ रुपये थी। यह 2021 के आंकड़ों की तुलना में 24.67 प्रतिशत की भारी वृद्धि दर्शाता है। राज्य में मदुरै क्षेत्र में सबसे अधिक 111.47 करोड़ रुपये की बिक्री हुई, इसके बाद तिरुचि क्षेत्र में 107.10 करोड़ रुपये की बिक्री हुई। सलेम क्षेत्र में 104.54 करोड़ रुपये के साथ तीसरी सबसे बड़ी बिक्री दर्ज की गई, जबकि कोयंबटूर में 98.61 करोड़ रुपये की बिक्री हुई, जबकि चेन्नई क्षेत्र में सबसे कम बिक्री 98.41 करोड़ रुपये दर्ज की गई। तमिलनाडु में टास्मैक की 5300 दुकानें हैं और औसतन बिक्री के आंकड़े 130 रुपये से 140 करोड़ रुपये तक पहुंच जाती है। उन्होंने कहा कि लंबे सप्ताहांत ने बिक्री को बढ़ाने में मदद की।

शाओमी 12 अल्ट्रा में 5 एक्स पेरिस्कोप टेलीफोटो लेंस होने की संभावना

स्मार्टफोन ब्रांड शाओमी का आगामी स्मार्टफोन शाओमी 12 अल्ट्रा क्वाड-कैमरा सेटअप के साथ आ सकता है और इनमें से एक लेंस 5 एक्स पेरिस्कोप कैमरा होगा। गिज्मोचाइना के अनुसार, अगर शाओमी 12 अल्ट्रा में 5 एक्स पेरिस्कोप टेलीफोटो लेंस मिलता है, तो यह बाजार में आने वाले पहले कुछ फोनों में से एक होगा। स्मार्टफोन में 2के रेजोल्यूशन के साथ 6.6-इंच एमोएलईडी पैनल होने की उम्मीद है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इसमें पूर्ववर्ती की तरह सेकेंडरी स्क्रीन नहीं होगी। यह लेटेस्ट स्नैपड्रैगन 8 जनरेशन 1 एसओसी द्वारा संचालित होगा और इसमें एक क्रेजी फास्ट 120 वॉट वायर्ड फास्ट चाजिर्ंग सॉल्यूशन होगा। फोन में फास्ट वायरलेस चाजिर्ंग हो सकती है, जो कि शाओमी 12 के समान है। एक हालिया रिपोर्ट में कहा गया है कि स्मार्टफोन में 50 एमपी का मुख्य सैमसंग जीएन5 प्राइमरी लेंस, 48 एमपी का 2 एक्स जूम लेंस, 5 एक्स जूमिंग क्षमता वाला 48 एक्स लेंस और अंत में 10 एक्स जूम वाला 48 एमपी सेंसर होगा।

ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों के बीच, एक तिहाई छोटी अमेरिकी फर्मो की बिक्री में गिरावट

अमेरिका में 33 प्रतिशत छोटी फर्मो ने ओमिक्रॉन मामलों की वृद्धि के कारण 9 जनवरी को समाप्त सप्ताह में राजस्व में कमी दर्ज की है, जो पिछले साल फरवरी के बाद से सबसे ज्यादा है। ब्लूमबर्ग ने यूएस सेंसस स्मॉल बिजनेस पल्स सर्वे का हवाला देते हुए रिपोर्ट दी है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, अर्थशास्त्री ओमिक्रॉन वेरिएंट के तेजी से प्रसार के कारण आर्थिक गतिविधियों में तेज लेकिन अल्पकालिक कमी की उम्मीद कर रहे हैं, इसलिए कई उद्योगों ने उत्पादन को सीमित कर दिया है। सिएटल, न्यूयॉर्क शहर और वाशिंगटन, डीसी में बंद होने की संख्या बढ़ने के साथ, छोटे अमेरिकी व्यवसायों की बढ़ती संख्या ने स्थान बंद कर दिए हैं।

सीमा तनाव के बावजूद रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा चीन-भारत व्यापार

पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में सीमा पर व्याप्त तनाव का भारत और चीन के बीच द्विपक्षीय व्यापार पर कोई असर नहीं पड़ा है, क्योंकि वर्ष 2021 में दोनों देशों का व्यापार 125 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर दर्ज किया गया है। बीजिंग की सरकारी मीडिया ने दावा किया है कि चीन-भारत व्यापार में द्विपक्षीय तनाव के बीच रिकॉर्ड स्तर दर्ज की गई वृद्धि इस बात का एक और सबूत है कि नई दिल्ली चीनी बाजार पर अपनी निर्भरता को कम करने में असमर्थ है। जनरल एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ कस्टम्स (जीएसी) द्वारा जारी आंकड़ों का हवाला देते हुए ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट में कहा गया है कि 2021 में चीन और भारत के बीच व्यापार की कुल राशि 125.66 अरब डॉलर थी, जो 2020 से 43.3 प्रतिशत अधिक है। इसके मुताबिक, जनवरी 2021 से लेकर दिसंबर 2021 के दौरान भारत को चीन से किया गया निर्यात 46.2 प्रतिशत बढ़कर 97.52 अरब डॉलर पर पहुंच गया। इसकी तुलना में भारत से चीन का आयात 34.2 फीसदी बढ़कर 28.14 अरब डॉलर हो गया।

विश्लेषकों ने व्यापार में उछाल के लिए दोनों देशों की औद्योगिक श्रृंखलाओं के पूरक पहलुओं को जिम्मेदार ठहराया है। उदाहरण के लिए, भारतीय दवा उद्योग द्वारा उपयोग किए जाने वाले लगभग 50-60 प्रतिशत रसायन और अन्य सामग्री, जो एक स्तंभ उद्योग है, चीन से आयात किया जाता है। सरल शब्दों में कहें तो वर्ष 2021 में चीन से भारत के आयात में हुई वृद्धि का एक बड़ा हिस्सा चिकित्सा उपकरणों एवं दवाओं के निर्माण में इस्तेमाल होने वाले कच्चे माल का था। ग्लोबल टाइम्स ने जीएसी के हवाले से कहा कि भारत 2021 में चीन का 15वां सबसे बड़ा व्यापार भागीदार रहा है।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia