अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: इन बैंक ने ग्राहकों को दिया बड़ा तोहफा! और एनएसई पर लगा 6 करोड़ का जुर्माना

अक्टूबर महीने के आने के साथ ही निजी सेक्टर के बड़े बैंक आईसीआईसीआई-बैंक ऑफ इंडिया ने बड़ी राहत दी है और SEBI ने NSE पर 6 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। यह जुर्माना एनएसई द्वारा 6 कंपनियों में हिस्सेदारी खरीदने के मामले में लगाया गया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

ICICI बैंक समेत इन बैंकों ने ग्राहकों को दिया बड़ा तोहफा

अक्टूबर महीने के आने के साथ ही निजी सेक्टर के बड़े बैंक आईसीआईसीआई और बैंक ऑफ इंडिया ने बड़ी राहत दी है। ICICI बैंक और बैंक ऑफ इंडिया ने ग्राहकों को बड़ा तोहफा देते कर्ज को सस्ता कर दिया है। होम लोन, ऑटो लोन, पर्सनल लोन लेने वाले लोगों पर कर्ज का बोझ कुछ कम हो सकेगा। आईसीआईसीआई और बैंक ऑफ इंडिया ने मार्जिनल कॉस्ट ऑफ फंड्स( MCLR) की दरों में कटौती की है। आईसीआईसीआई ने एमसीएलआर में 5 बेसिस प्वाइंट की कटौती की है। बैंक की ब्याज दरें 0.05 फीसदी कम हो गई है। नई ब्याज दरें 1 अक्टूबर 2020 से लागू हो गई हैं। बैंक ऑफ इंडिया( Bank of India) ने भी ब्याज दर में कटौती की है। बैंक ने ब्याज दर में 5 बेसिस प्वाइंट यानी 0.05 फीसदी की कटौती की है। बैंक द्वारा की गई ब्याज दरों में कटौती के बाद एक महीने के लोन के लिए ब्याज दर अब 7.20 फीसदी हो गई है।

सरकार ने शुरू की आगामी आम बजट की तैयारी

कोरोना आपदा के बीच केंद्र सरकार ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए आम बजट की तैयारी शुरू कर दी है। डिपार्टमेंट ऑफ इकोनॉमिक अफेयर्स (डीईए) की ओर से जारी एक सर्कुलर के मुताबिक, आगामी बजट को लेकर पहली प्री-बजट बैठक 16 अक्टूबर को होगी। प्री-बजट बैठकों का यह दौरा नवंबर के पहले सप्ताह तक जारी रहेगा। सर्कुलर में कहा गया है कि इस साल विशेष हालातों के कारण बजट का अंतिम आवंटन राजकोष की स्थिति के आधार पर होगा। साथ ही मंत्रालय या विभाग की वहन करने की क्षमता पर भी निर्भर करेगा। सभी सचिवों और वित्तीय सलाहकारों के साथ विचार विमर्श के बाद वित्त वर्ष 2021-22 का प्रोविजनल बजट अनुमान तय किया जाएगा।

एनएसई पर लगा 6 करोड़ का जुर्माना

पूंजी बाजार नियामक सेबी ने नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) पर 6 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। यह जुर्माना एनएसई द्वारा 6 कंपनियों में हिस्सेदारी खरीदने के मामले में लगाया गया है। जिन कंपनियों में हिस्सेदारी खरीदी गई उसमें कैम्स, एनएसईआईटी, एनएसडीएल ई गवर्नेंस इंफ्रा, एमएसआईएल और आरएक्सआईएल शामिल हैं। सेबी ने जारी आदेश में यह जानकारी दी है। सेबी ने अपने आदेश में कहा कि एनएसई ने बिना रेगुलेटर की मंजूरी लिए कैम्स और पावर एक्सचेंज इंडिया में हिस्सेदारी खरीदी थी। इस मामले में सेबी ने जांच की थी और इस दौरान पाया कि एनएसई ने डायरेक्ट और इनडायरेक्ट रूप से अपनी एनएसआईसीएल के जरिए पीएक्सआईएल, कैम्स, एनएसईआईटी, एनईआईएल, एमएसआईएल और आरएक्सआईएल में हिस्सेदारी खरीदी थी। इसके लिए उसने मंजूरी नहीं ली।

गांधी जयंती: शेयर बाजार में नहीं हुआ कारोबार

इस बार गांधी जयंती की वजह से शुक्रवार शेयर बाजार बंद रहे हैं। शेयर बाजार में शुक्रवार को कोई कारोबार नहीं हुआ। आपको बता दें कि बीते कारोबारी दिन यानी गुरुवार को सेंसेक्स करीब 630 अंक मजबूत होकर 38,697 अंक के स्तर पर बंद हुआ। इसी तरह, निफ्टी में भी रौनक रही। निफ्टी 170 अंक मजबूत होकर 11,416 अंक के स्तर पर ठहरा। अब शेयर बाजार सोमवार को खुलेंगे। गांधी जयंती की वजह से बैंकों के भी कामकाज ठप हैं।

सितंबर में भारतीय माल का निर्यात 5 प्रतिशत से अधिक बढ़ा :गोयल

देश के माल निर्यात ने सितंबर में साल-दर-साल के आधार पर 5.27 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की। केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने यह जानकारी दी। भारत का कुल माल निर्यात सिंतबर 2019 के 26.02 अरब डॉलर के मुकाबले पिछले महीने 27.40 अरब डॉलर रहा। एक ट्वीट में, मंत्री ने महामारी के बीच भारतीय अर्थव्यवस्था की रिकवरी के रूप में एक और संकेत के तौर पर निर्यात में वृद्धि का हवाला दिया। उन्होंने कहा, "'मेक इन इंडिया, मेक फॉर द वल्र्ड'..भारतीय माल का निर्यात पिछले साल की तुलना में 20 सितंबर को 5.27 प्रतिशत बढ़ा है। यह भारतीय अर्थव्यवस्था की तेजी से रिकवरी का एक और संकेत है क्योंकि इसने कोविड पूर्व के स्तर के पैरामीटर को पार किया है।"

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia