अर्थ जगत: चीन में कोविड के कोहराम से विदेशी निवेशक परेशान और कभी फोर्ब्स की लिस्ट में शामिल वेणुगोपाल धूत का ऐसे हुआ पतन

हाल में लगातार बढ़ते कोरोना मामलों ने चीन की आपूर्ति श्रृंखला को बाधित कर दिया है, जिससे विदेशी निवेशक चिंतित हैं। औरंगाबाद में एक छोटे से स्तर पर शुरु हुर्ए वीडियोकॉन के पतन का कारण व्यावसायिक निर्णय, तेजी से पैसा, महत्वाकांक्षा और लालच बना।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

चीन में कोविड के कोहराम से विदेशी निवेशक चिंतित : रिपोर्ट

हाल में लगातार बढ़ते कोरोना मामलों ने चीन की आपूर्ति श्रृंखला को बाधित कर दिया है, जिससे विदेशी निवेशक चिंतित हैं और देश की प्रतिस्पर्धात्मकता कमजोर हो रही है। मीडिया को बुधवार को यह जानकारी दी गई। द साउथ चाइना मॉर्निग पोस्ट के अनुसार, अगर चीन विभिन्न सामग्रियों के मामलों में दुनिया के प्रमुख आपूर्तिकर्ता के रूप में अपनी स्थिति का बचाव करना चाहता है, तो वह अब महत्वपूर्ण बिंदु पर है।

रिपोर्ट में कहा गया है, चीन अपने कार्यबल और घरेलू उत्पादन को स्थिर करने के लिए समय के खिलाफ दौड़ रहा है, क्योंकि व्यापक कोविड-19 संक्रमण विदेशी आदेशों को पूरा करने की देश की क्षमता का परीक्षण कर रहा है और दुनिया के पूर्व-प्रतिष्ठित विनिर्माण केंद्र के रूप में इसकी स्थिति को खतरे में डाल रहा है।

हेडफोन, एक्सेसरीज डिलीवर करने के लिए ब्लिंकिट, बोट ने की साझेदारी

फोटो: IANS
फोटो: IANS

 जोमैटो के स्वामित्व वाले क्विक ग्रॉसरी डिलीवरी प्लेटफॉर्म ब्लिंकिट ने बुधवार को घोषणा की है कि उसने दिल्ली-एनसीआर, मुंबई, कोलकाता और बेंगलुरु में मिनटों में लोगों के दरवाजे पर हेडफोन और अन्य सामान पहुंचाने के लिए घरेलू ऑडियो ब्रांड बोट के साथ साझेदारी की है। ब्लिंकिट के सह-संस्थापक और सीईओ अलबिंदर ढींडसा ने एक बयान में कहा, "बोट बेहद लोकप्रिय है और हम उन्हें अपने साथ बोर्ड पर पाकर रोमांचित हैं। हेडफोन के साथ शुरू करते हुए, हम जल्द ही बोट स्मार्टवॉच और बोट पोर्टफोलियो से हाई-एंड स्पीकर जैसे अधिक लोकप्रिय प्रोडक्ट जोड़ेंगे।"

चुनिंदा बोट प्रोडक्ट्स जैसे ट्रू वायरलेस स्टीरियो (टीडब्ल्यूएस), नेकबैंड, पोर्टेबल ब्लूटूथ स्पीकर और वायर्ड ईयरफोन अब ब्लिंकिट पर उपलब्ध हैं। इसके अलावा, ग्राहक ब्लिंकिट पर इन बोट प्रोडक्टस पर रोमांचक सौदों की एक सीरीज प्राप्त कर सकते हैं।


सेबी ने जारी की 'मोस्ट वांटेड डिफॉल्टर्स' की सूची

फोटो: IANS
फोटो: IANS

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने आयकर विभाग के नौ डिफॉल्टरों की एक सूची जारी की है जिसमें कंपनियों और व्यक्तियों को शामिल किया गया है जो कथित तौर पर 'लापता' हो गए हैं। यह मामला तब प्रकाश में आया जब सेबी के रिकवरी अधिकारियों ने इन डिफाल्टरों को, जिनके खिलाफ रिकवरी सर्टिफिकेट तैयार किया गया, डिमांड नोटिस तामील करने का प्रयास किया।

बाजार नियामक के पास उपलब्ध एक या एक से अधिक पतों से कुछ डिफॉल्टर्स जिन्हें बकाया राशि की अनिर्दिष्ट राशि चुकानी है, वे पिछले लगभग दो वर्षो से गायब हैं और कुछ अन्य पिछले दो हफ्तों से लापता हैं। उनमें एमवाईएनके1906 इंडस्ट्रीस इंडिया लिमिटेड, जिसके तीन ज्ञात पते एक विले पार्ले में और दो दक्षिण मुंबई में हैं। इंडुकॉन इंडिया लिमिटेड, दो पते के साथ, दक्षिण मुंबई और अंधेरी में एक-एक, (दोनों 27 अप्रैल, 2021 से अप्राप्य) हैं।

आपूर्ति के मुद्दों के बीच वैश्विक तकनीकी शेयरों में गिरावट

फोटो: IANS
फोटो: IANS

चीन में प्रोडक्शन लाइनों में देरी पर बढ़ती चिंताओं से एप्पल और टेस्ला के शेयरों में गिरावट आई है। बीबीसी की रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। जून 2021 के बाद से एप्पल के शेयर अपने सबसे निचले स्तर पर पहुंच गए। नवंबर 2021 में टेस्ला का स्टॉक रिकॉर्ड ऊंचाई से 73 फीसदी गिर गया है।

बीबीसी ने बताया कि कोविड प्रतिबंधों और हफ्तों के लॉकडाउन के कारण चीन में प्रोडक्शन जारी रखने के लिए कंपनियों को संघर्ष करना पड़ा है। अब वे कर्मचारियों की कमी का सामना कर रहे हैं क्योंकि चीन वर्षो के प्रतिबंध हटाने के बाद कोविड लहर से जूझ रहा है। अतिरिक्त ब्याज दरों में बढ़ोतरी, वैश्विक आर्थिक मंदी और यूक्रेन में चल रहे युद्ध के आगे वैश्विक निवेशक सतर्क हो रहे हैं।


कभी फोर्ब्स की लिस्ट में शामिल वेणुगोपाल धूत का ऐसे हुआ पतन

फोटो: IANS
फोटो: IANS

हाल के वर्षों में सबसे हाई-प्रोफाइल मामलों में एक आईसीआईसीआई बैंक धोखाधड़ी मामला इन दिनों काफी सुर्खियां बटोर रहा है। औरंगाबाद में एक छोटे से स्तर पर शुरु हुर्ए वीडियोकॉन के पतन का कारण लगातार मिल रही सफलताएं, कुछ सही व्यावसायिक निर्णय, तेजी से पैसा, महत्वाकांक्षा और लालच बना। नतीजा चार दशकों से भी कम समय में ग्रुप तबाह हो गया।

वेणुगोपाल एन. धूत कृषण परिवार से थे। साथ ही उनके पास एक भारतीय स्कूटर डीलरशिप भी थी, फिर उनके पिता ने 1984 में वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज लिमिटेड की शुरूआत की। टेलीविजन, वाशिंग मशीन और अन्य घरेलू उपकरणों के चलते वीडियोकॉन भारतीय मध्यवर्ग लोगों के बीच काफी तेजी से लोकप्रिय हो गया। बिजनेस का अधिक विस्तार होने से वह धीरे-धीरे बैंकों से लोन लेते गए, जो बैंकिंग क्षेत्र के लिए अधिक खतरनाक माना जाता है। सहयोगी ने कहा, इन ऋणों का उद्देश्य वीडियोकॉन ग्रुप के अन्य वर्जिन वेंचर्स को फाइनेंस करना था, जो लंबे समय में खतरनाक साबित हुए। कंपनी ने फंड पर पर्याप्त ध्यान नहीं दिया, जिसके चलते कंपनी एक बड़ी मुसीबत में फंस गई।

एक शीर्ष वैश्विक निर्यात निकाय फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट्स ऑगेर्नाइजेशन (एफआईईओ) के एक पूर्व अध्यक्ष का मानना है कि धूत के कुछ कदम 'रोमांच' या 'जुआ' की तरह थे, इस उम्मीद के साथ कि ग्रुप की मजबूत इमेज उसे तूफानों से पार पाने में मदद करेगी, लेकिन दुख की बात है कि ऐसा नहीं हुआ।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;