अर्थ जगत: NCLT ने स्वीकारी गो एयरलाइंस की दिवाला याचिका और पेटीएम ने फोनपे और गूगलपे को छोड़ा पीछे

एनसीएलटी ने बुधवार को वाडिया समूह की कम लागत वाली एयरलाइन गो एयरलाइंस द्वारा दायर स्वैच्छिक दिवाला याचिका को स्वीकार कर लिया। पेटीएम का राजस्व इसे भारतीय फिनटेक स्पेस में अग्रणी स्थान देता है और फोनपे या गूगलपे से मीलों आगे है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

भारत में 500 मिलियन से अधिक साइबर हमले रुके : रिपोर्ट

अर्थ जगत: NCLT ने स्वीकारी गो एयरलाइंस की दिवाला याचिका और पेटीएम ने फोनपे और गूगलपे को छोड़ा पीछे

 दुनिया भर में हुए एक अरब साइबर हमलों में से भारत में 500 मिलियन से अधिक हमलों को रोका गया। 2022 की चौथी तिमाही की तुलना में 2023 की पहली तिमाही में साइबर हमलों की संख्या में 29 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हुई है। आवेदन सुरक्षा सास फर्म इंडसफेस के अनुसार बीएफएसआई(बैंकिंग, वित्तीय सेवा और बीमा) क्षेत्र को उद्योग के औसत की तुलना में प्रति एप्लिकेशन 38 प्रतिशत अधिक साइबर हमलों का सामना करना पड़ा।

इंडसफेस के सीईओ आशीष टंडन ने कहा, यह देखना दिलचस्प है कि कैसे बीएफएसआई और हेल्थकेयर जैसे उद्योग भेद्यता और बॉट हमलों से अधिक लक्षित हैं। हमलावर इन क्षेत्रों से व्यक्तिगत रूप से पहचान योग्य सूचना (पीआईआई) में अधिक रुचि रखते हैं। उन्होंने कहा, सास और विनिर्माण सहित अन्य उद्योग अधिक लक्षित हैं।

पेटीएम ने मोबाइल भुगतान और वित्तीय सेवाओं में भारत के सबसे अधिक राजस्व अर्जक के रूप में फोनपे और गूगलपे को छोड़ा पीछे

फोटो: IANS
फोटो: IANS

 भारतीय फिनटेक दिग्गज पेटीएम ने बुधवार को वित्त वर्ष 23 के लिए अपने वित्तीय प्रदर्शन की सूचना दी। वित्त वर्ष के लिए कंपनी का राजस्व बढ़कर 7,991 करोड़ रुपये हो गया। पेटीएम का राजस्व इसे भारतीय फिनटेक स्पेस में अग्रणी स्थान देता है और फोनपे या गूगलपे से मीलों आगे है। कैलेंडर वर्ष 2022 की चौथी तिमाही में पेटीएम का राजस्व 2334 करोड़ रुपये रहा, जबकि इसी वर्ष के पहले नौ महीनों में फोनपे का कुल राजस्व 1,912 करोड़ रुपये रहा।

फोनपे और गूगलपे का फोकस यूपीआई पी2पी पर केंद्रित है, जबकि पेटीएम ने व्यवसाय के विविधीकरण के साथ अधिक लाभ अर्जित किया। पेटीएम मर्चेंट भुगतान पर ध्यान केंद्रित कर रहा है, जहां से यह वास्तव में पैसा बनाता है।

चौथी तिमाही में पेटीएम ने 182 करोड़ रुपये के यूपीआई प्रोत्साहन भी दर्ज किया, जो सालाना आधार पर 101 प्रतिशत अधिक है।


यूनियनों के विरोध के बीच एयर इंडिया ने पायलट अनुबंधों की समय सीमा बढ़ाई

फोटो: IANS
फोटो: IANS

एयर इंडिया ने दो यूनियनों के विरोध के बावजूद पायलटों के लिए संशोधित मुआवजा ढांचे को स्वीकार करने की समय सीमा बढ़ाने का फैसला किया है। सूत्रों ने ये जानकारी दी। एयर इंडिया द्वारा आयोजित 4 मई की टाउन हॉल मीटिंग के बाद ये फैसला लिया गया। मीटिंग में कई पायलटों की चिंताओं को संबोधित किया गया था।

सूत्रों ने खुलासा किया कि बैठक के दौरान, लगभग 800 पायलट, जो अभी तक नए मुआवजे के ढांचे पर सहमत नहीं हुए थे, टाउन हॉल मीटिंग में मौजूद थे। बैठक की अध्यक्षता एयर इंडिया के चीफ ऑफ ऑपरेशंस कैप्टन राजविंदर सिंह संधू ने की, जो खुद एक पायलट हैं। एयरलाइन ने नए अनुबंधों पर हस्ताक्षर करने के लिए पायलटों को इस सप्ताह के अंत तक का समय दिया है।

एनसीएलटी ने गो एयरलाइंस की याचिका स्वीकार की

फोटो: IANS
फोटो: IANS

नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) ने बुधवार को वाडिया समूह की कम लागत वाली एयरलाइन गो एयरलाइंस (इंडिया) लिमिटेड द्वारा दायर स्वैच्छिक दिवाला याचिका को स्वीकार कर लिया और अंतरिम समाधान पेशेवर (आईआरपी) नियुक्त किया।

एनसीएलटी, नई दिल्ली की प्रधान पीठ ने भी कंपनी के लिए अधिस्थगन की घोषणा की और निलंबित निदेशक मंडल को आईआरपी के साथ सहयोग करने का निर्देश दिया।

वैश्विक विमान इंजन निर्माता प्रैट एंड व्हिटनी पर दोषपूर्ण लोगों के लिए अतिरिक्त इंजन उपलब्ध नहीं कराने का आरोप लगाते हुए, गो एयरलाइंस ने 2 मई, 2023 को समाधान के लिए एक याचिका के साथ एनसीएलटी से संपर्क किया था।


डेटा की सुरक्षा के लिए आईबीएम ने पेश की क्वांटम-सुरक्षित तकनीक

अर्थ जगत: NCLT ने स्वीकारी गो एयरलाइंस की दिवाला याचिका और पेटीएम ने फोनपे और गूगलपे को छोड़ा पीछे

तकनीकी दिग्गज आईबीएम ने बुधवार को सरकारी एजेंसियों सहित संगठनों के लिए एंड-टू-एंड क्वांटम-सुरक्षित तकनीक प्रदान करने और उनके प्रमुख डेटा को सुरक्षित करने के लिए उपकरणों और क्षमताओं के व्यापक सेट की घोषणा की। कंपनी ने 'क्वांटम सेफ एक्सप्लोरर' की घोषणा की, ताकि संगठनों को क्रिप्टोग्राफिक संपत्ति, निर्भरता, कमजोरियों का पता लगाने और क्रिप्टोग्राफी बिल ऑफ मैटेरियल्स (सीबीओएम) बनाने के लिए स्रोत और ऑब्जेक्ट कोड को स्कैन करने में सक्षम बनाया जा सके।

आईबीएम ने ऑरलैंडो, फ्लोरिडा में अपने वार्षिक थिंक सम्मेलन के दौरान कहा, यह टीमों को एक केंद्रीय स्थान में संभावित जोखिमों को देखने और एकत्र करने की अनुमति देता है।

आईबीएम 'क्वांटम सेफ एडवाइजर' क्रिप्टोग्राफिक इन्वेंट्री के डायनेमिक या ऑपरेशनल व्यू के निर्माण की अनुमति देता है, ताकि रिमेडियेशन का मार्गदर्शन किया जा सके और क्रिप्टोग्राफिक पोस्चर का विश्लेषण किया जा सके और जोखिमों को प्राथमिकता दी जा सके।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;