कोरोना: शहरी भारतीयों को लगता है कि कोविड की स्थिति में सुधार, लेकिन वित्तीय हालात पर चिंता बरकरार

कोरोना महामारी से भले ही लोगों को लगता है कि स्थिति बेहतर हो रही है, लेकिन 10 में से सात (71 प्रतिशत) ने कहा कि वे चिंतित हैं कि कोविड के प्रकोप के कारण उनकी वितीत स्थिति प्रभावित हो रही है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

यू गव्स कोविड 19 कंजिम्यूर मॉनीटर के नवीनतम आंकड़ों से पता चला है कि अधिकांश शहरी भारतीय (78 प्रतिशत) सोचते हैं कि देश में महामारी की स्थिति एक महीने पहले की तुलना में बेहतर हो रही है, या यह पूरी तरह से खत्म हो गया है।

नवीनतम आंकड़ों के मुताबिक, महामारी की दूसरी घातक लहर के बीच, अप्रैल के अंत से राष्ट्रीय विश्वास में सुधार हुआ है। लॉकडाउन प्रतिबंधों और पूरे जोरों पर टीकाकरण के साथ, इस संख्या में सुधार हुआ है और अब अधिकांश लोग ठीक होने के बारे में सकारात्मक हैं।

भले ही लोगों को लगता है कि स्थिति बेहतर हो रही है, लेकिन 10 में से सात (71 प्रतिशत) ने कहा कि वे चिंतित हैं कि कोविड के प्रकोप के कारण उनकी वितीत स्थिति प्रभावित हो रही है।

हालांकि, सबसे बड़ी चिंता समाज पर इसके लंबे समय तक चलने वाले नकारात्मक प्रभाव को लेकर है। पिछले तीन महीनों में उनकी वित्तीय स्थिति कैसे बदली, इस बारे में पूछे जाने पर, पांच में से दो उत्तरदाताओं (40 प्रतिशत) ने कहा कि यह खराब हो गया है, जबकि लगभग एक तिहाई (32 प्रतिशत)मानते हैं कि कोई बदलाव नहीं हुआ है।


नवीनतम आंकड़ों के मुताबिक, सात में से एक (14 प्रतिशत) को लगता है कि इस अवधि में उनकी वित्तीय स्थिति में सुधार हुआ है और बाकी निश्चित नहीं हैं।

आंकड़ों के मुताबिक, कई लोग (37 प्रतिशत) सोचते हैं कि उनकी वित्तीय स्थिति निकट भविष्य में (एक से छह महीने के बीच) ठीक हो सकती है। बहुसंख्यक (51 प्रतिशत) को लगता है कि इसमें अधिक समय लग सकता है (छह महीने से अधिक या एक वर्ष से अधिक) जब तक देश में मौद्रिक मोर्चे पर मजबूती नहीं दिखती।

आर्थिक सुधार का नजरिया कम आशावान है। पांच में से दो से अधिक लोग (42 प्रतिशत) यह कहते हुए कि भारत की अर्थव्यवस्था 12 महीने के समय में मंदी या अवसाद में होगी। अन्य को अर्थव्यवस्था में उछाल (24 प्रतिशत) या शेष स्थिर (19 प्रतिशत) की उम्मीद के बीच विभाजित किया गया है।

अनिश्चित समय और व्यक्तिगत वित्त के बारे में बढ़ती चिंता को देखते हुए, शहरी भारतीयों का आपात स्थिति में बचत की ओर झुकाव आश्चर्यजनक नहीं है। आंकड़ों के मुताबिक, लगभग एक तिहाई उत्तरदाता (31 प्रतिशत) अपनी वर्तमान होल्डिंग या निवेश की सुरक्षा को प्राथमिकता दे रहे हैं।


पिछले दो हफ्तों में प्रतिबंधों के बीच, बहुसंख्यक (58 प्रतिशत) ने किराने के सामान को स्टोर पर जाकर या फोन पर ऑर्डर देकर ऑफलाइन खरीदारी को प्राथमिकता दी। दूसरी ओर, एक बड़े अनुपात (42 प्रतिशत) ने डिलीवरी ऐप के माध्यम से ऑनलाइन ऑर्डर किया।

किराने का सामान ऑनलाइन ऑर्डर करने वालों में, सुरक्षा इस माध्यम (63 प्रतिशत) को चुनने का सबसे बड़ा कारण था, इसके बाद सुविधा (51 प्रतिशत) थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia