अर्थ जगत की खबरेंः मुकेश अंबानी अब चलाएंगे रेस्टोरेंट और राजकोषीय घाटा बढ़ने की आशंका से लुढ़का बाजार

खबर है कि मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस मिलान की कंपनी एम्पोरियो अरमानी के साथ मिलकर रेस्टोरेंट कारोबार में कदम रखने जा रही है। वहीं, बजट से ठीक पहले आए आर्थिक सर्वेक्षण में राजकोषीय घाटा बढ़ने की आशंका के बाद देश के शेयर बाजार शुक्रवार को लुढ़क गया।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पूरे देश में रेस्टोरेंट खोलेगी मुकेश अंबानी की रिलायंस

मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड अब रेस्टोरेंट कारोबार में कदम रखने जा रही है। एक रिपोर्ट के अनुसार रिलायंस जल्द ही रेस्टोरेंट उद्योग में उतरने के लिए मिलान की कंपनी एम्पोरियो अरमानी के साथ समझौता कर सकती है। खबरों के अनुसार रिलायंस एम्पोरियो और अरमानी मिलकर मुंबई के बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लैक्स में अपना पहला रेस्टोरेंट खोलेंगी। बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लैक्स में रिलायंस, जियो वर्ल्ड सेंटर के नाम से एक मेगा कॉमर्शियल कॉम्प्लेक्स बना रहा है, जिसमें दोनों कंपनियां अपना पहला रेस्टोरेंट खोलने जा रही हैं। पेरिस, मिलान, न्यूयॉर्क, टोक्यो, म्यूनिख और दुबई के बाद मुंबई अगला शहर होगा जहां अरमानी अपना कोई रेस्टोरेंट खोलगी। हालांकि, रिलायंस की ओर से इस तरह की कोई भी आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है।

राजकोषीय घाटा बढ़ने की आशंका से शेयर बाजार लुढ़का

देश के आम बजट से ठीक एक दिन पहले आए आर्थिक सर्वेक्षण में राजकोषीय घाटा बढ़ाकर सुस्ती से निपटने का तरीका सुझाए जाने के बाद देश के शेयर बाजारों में शुक्रवार को गिरावट दर्ज की गई। बीएसई का सेंसेक्स 190.33 अंकों की गिरावट के साथ 40,723.49 पर बंद हुआ। जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 73.70 अंकों की गिरावट के साथ 11,962.10 पर बंद हुआ।

आज पेश आर्थिक सर्वेक्षण से खराब राजकोषीय स्थिति का पता चलता है। सरकार द्वारा अधिक कर्ज लिए जाने से निजी निवेशक निवेश करने से कतरा सकते हैं। आर्थिक सर्वेक्षण में कहा गया है कि आर्थिक गतिविधयों में तेजी लाने के लिए वित्तीय घाटे के लक्ष्य को बढ़ाने की जरूरत हो सकती है। निवेशकों की निगाह अब बजट पर टिकी है, जो शनिवार को पेश होगा। इस बार बजट के कारण शेयर बाजार शनिवार को खुले रहेंगे।

बैंकों में हड़ताल से 23 हजार करोड़ के चेक अटके

बैंकिंग कर्मचारियों और अधिकारियों के 9 यूनियनों के संयुक्त संगठन यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस (यूएफबीयू) ने 31 जनवरी और एक फरवरी को हड़ताल का आह्वान किया है, जिसकी वजह से शुक्रवार को अधिकांश बैंक शाखाएं बंद रहीं, जिससे नकद जमा या निकासी नहीं की जा सकी। इस वजह से मुंबई, चेन्नई और दिल्ली में लगभग 23,000 करोड़ रुपये के करीब 31 लाख चेक हड़ताल के कारण क्लीयर नहीं किए जा सके हैं। ऑल इंडिया बैंक एम्पलाइज एसोसिएशन (एआईबीईए) के एक शीर्ष नेता ने कहा कि देश में बैंकिंग कामकाज काफी हद तक प्रभावित है, क्योंकि बैंककर्मी वेतन वृद्धि सहित अन्य कई मांगों को लेकर दो दिवसीय हड़ताल पर हैं।

गौरतलब है कि बैंकरों ने ऐसे समय में हड़ताल बुलाई है, जब देश का आर्थिक सर्वेक्षण जारी हुआ और एक दिन बाद 1 फरवरी को वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण देश का आम बजट पेश करेंगी। एआईबीईए ने कहा है कि उनके मिली रिपोर्ट के अनुसार देश भर में मुख्य रूप से तमिलनाडु, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, दिल्ली, पंजाब, गुजरात, कर्नाटक, केरल, बिहार आदि राज्य इस हड़ताल से बहुत प्रभावित हुए हैं। शुक्रवार और शनिवार को हड़ताल के बाद रविवार को भी बैंकों की छुट्टी रहेगी, जिससे तीन दिन बंदी की वजह से आम लोगों को काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ेगा।

ट्रेन चलाने के लिए 20 कंपनियों ने लगाई बोली

मोदी सरकार द्वारा देश में प्राइवेट ट्रेनें चलाने को हरी झंडी दिए जाने के बाद से योजना पर तेजी से काम हो रहा है। कई निजी बड़ी कंपनियां देश में यात्री ट्रेन चलाने में दिलचस्‍पी दिखा रही हैं, जिनमें इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर और ट्रांसपोर्टेशन सेक्‍टर की लगभग 20 बड़ी कंपनियां हैं। इनमें अडानी पोर्ट्स, टाटा, बॉम्‍बार्डियर इंडिया, फ्रांस की एलस्‍टॉम, स्‍पेन की टैल्‍गो जैसी बड़ी कंपन‍ियां शामिल हैं। बता दें कि इस योजना के लिए आईआरसीटीसी पहले ही पायलट प्रोजेक्‍ट शुरू कर चुका है। इसके लिए आईआरसीटीसी ने पिछले छह महीनों में पायलट के तौर पर दो निजी ट्रेनें चलाई हैं।

विप्रो के सीईओ नीमचवाला ने पारिवारिक वजह से दिया इस्तीफा

दिग्गज आईटी कंपनी विप्रो के सीईओ और एमडी आबिद अली जेड नीमचवाला ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। कंपनी ने बीएसई फाइलिंग में इसकी जानकारी देते हुए बताया है कि कंपनी का नया सीईओ और एमडी मिलने तक नीमचवाला अपने पद पर बने रहेंगे। इसके साथ ही विप्रो ने नए सीईओ और एमडी की तलाश भी शुरू कर दी है। बीएसई फाइलिंग में ही विप्रो ने बताया है कि नीमचवाला ने पारिवारिक कारणों से अपने पद से इस्तीफा दिया है। नीमचवाला ने अपने बयान में कहा है कि उनके लिए विप्रो में सेवा देना सम्मान की बात है। उन्होंने अजीम प्रेमजी, कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स और अपने सहकर्मियों को सहयोग के लिए धन्यवाद दिया।

लोकप्रिय
next