अर्थजगत की खबरें: दो दिन की तेजी पर लगा ब्रेक, शेयर बाजार लुढ़का, मस्क से हर हाल में डील चाहता है ट्वीटर बोर्ड

लड़खड़ाती अर्थव्यवस्था के बीच पाकिस्तानी सरकार का एक प्रतिनिधिमंडल अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष से मदद मांगने के लिए दोहा में है। एलन मस्क और पराग अग्रवाल के बीच चल रही तनातनी के बीच ट्विटर के तीन वरिष्ठ कर्मचारियों ने कंपनी से इस्तीफा दे दिया है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

दो दिन की तेजी पर लगा ब्रेक, शेयर बाजार लुढ़का

विदेशी बाजारों से मिले मिश्रित संकेतों के बीच रियल्टी, दूरसंचार और तेल एवं गैस क्षेत्र में हुई भारी बिकवाली से बुधवार को घरेलू शेयर बाजार की दो दिन की तेजी पर ब्रेक लग गया। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 109.94 अंक यानी 0.20 प्रतिशत की गिरावट के साथ 54,208.53 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 19 अंक यानी 0.12 प्रतिशत लुढ़ककर 16,240.30 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की 30 में से 17 कंपनियां गिरावट में और 13 तेजी में रहीं। पावर ग्रिड के शेयरों में सबसे अधिक बिकवाली देखी गई।

बाजार विश्लेषकों का कहना है कि ब्रिटेन में महंगाई दर के 40 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंचने और जर्मनी में दो साल के बांड यील्ड के 11 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंचने से निवेशकों की धारणा प्रभावित हुई। विदेशी बाजारों में जापान का निक्के ई और हांगकांग का हैंगशैंग तेजी में रहा जबकि जर्मनी के डैक्स तथा ब्रिटेन के एफटीएसई में गिरावट देखी गई। जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने बताया कि ब्रिटेन में खुदरा महंगाई के बढ़ने और अमेरिकी फेडरल प्रमुख के महंगाई पर काबू पाने के बयान निवेश धारणा के प्रतिकूल साबित हुये। फेड के बयान से ब्याज दरों में और बढ़ोतरी की संभावना मजबूत हो गई है, जिससे निवेशकों का उत्साह ठंडा पड़ गया है।

एलन मस्क से हर हाल में डील चाहता है ट्वीटर बोर्ड

एलन मस्क और ट्वीटर के सीईओ पराग अग्रवाल के बीच नोकझोंक जारी रहने के बावजूद ट्वीटर बोर्ड चाहता है कि मस्क अपनी 44 अरब डॉलर की अधिग्रहण डील पूरी कर लें। ट्वीटर बोर्ड ने मंगलवार को ब्लूमबर्ग को बताया कि अधिग्रहण समझौते का पूरा होना सभी शेयरधारकों के हित में है। बोर्ड इस लेनदेन को पूरा करके विलय समझौते को लागू करना चाहता है। इस डील के पूरा होने से गोल्डमैन सैश और जेपी मॉगर्न को संयुक्त रूप से 13.3 करोड़ डॉलर फीस के रूप में मिलेगी। इन्होंने ही ट्वीटर को इस डील के संबंध में सलाह दी थी।

टेस्ला के सीईओ मस्क ने मंगलवार को कहा था कि जब तक ट्वीटर के सीईओ पराग अग्रवाल ट्वीटर पर मौजूद बॉट (फर्जी अकांउट) की सही संख्या नहीं बताते, तब तक 54.20 डॉलर प्रति शेयर के आधार पर तय हुई 44 अरब डॉलर की डील आगे नहीं बढ़ेगी। ट्वीटर का कहना है कि उसके प्लेटफॉर्म पर ऐसे फर्जी खातों की संख्या पांच प्रतिशत से भी कम है लेकिन मस्क का दावा है कि यह संख्या 50 प्रतिशत तक हो सकती है। मस्क चाहते हैं कि पराग इस मामले में सच बोलें।

मस्क ने सोमवार को मयामी में हुये एक टेक सम्मेलन में इतना तक कह दिया था कि ट्वीटर को कम कीमत में खरीदने के विकल्प पर विचार किया जा सकता है क्योंकि माइक्रो ब्लॉगिंग साइट अपने विज्ञापनदाताओं से यूजर्स की सही संख्या छुपा रहा है। मस्क ने कहा कि ट्वीटर ने अपनी नियामकीय फाइलिंग में फर्जी अकांउट की जितनी संख्या बताई है, वास्तव में ऐसे अकांउट की संख्या कम से कम चार गुना अधिक हो सकती है। मस्क ने यह भी कहा कि आयोग को ट्वीटर के दावों के जांच करनी चाहिये। डील की शर्तों के अनुसार, मस्क अगर इस डील को रद्द करते हैं तो उन्हें ट्वीटर को एक अरब डॉलर अदा करना होगा और अगर यह डील ट्वीटर रद्द करता है, तो उसे भी इतनी ही रकम मस्क को देनी होगी।

अर्थजगत की खबरें: दो दिन की तेजी पर लगा ब्रेक, शेयर बाजार लुढ़का, मस्क से हर हाल में डील चाहता है ट्वीटर बोर्ड

पाकिस्तान लड़खड़ाती अर्थव्यवस्था को सहारा देने के लिए IMF से मदद मांगेगा

पाकिस्तानी सरकार का एक प्रतिनिधिमंडल अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक में भाग लेने के लिए दोहा में है। इस दौरान पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल देश में एक आर्थिक सुधार के लिए निश्चितता और गति प्रदान के लिए छह अरब डॉलर के बेलआउट पैकेज को पुनर्जीवित करने और एक अरब डॉलर के महत्वपूर्ण कोष जारी करने को लेकर बातचीत करने पर जोर देगा। पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था चरमराई हुई है और नवाज शरीफ सरकार इसे पटरी पर लाने के लिए प्रयासरत है, जिसके लिए उसे अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मदद की सख्त आवश्यकता है।

वार्ता अगले सप्ताह तक चलने की उम्मीद है और इस दौरान पाकिस्तान आईएमएफ को मौजूदा ऋण कार्यक्रम को फिर से शुरू करने और अतिरिक्त ऋण सुविधा के लिए मनाने की कोशिश करेगा, जो कि पाकिस्तान को अपने मौजूदा आर्थिक संकट से बाहर निकलने में मदद करने के लिए बेहद जरूरी है।

हालांकि, पाकिस्तान के लिए बातचीत के सुचारू रूप से चलने की उम्मीद नहीं है, क्योंकि आईएमएफ ने सख्त मांगें रखी हैं, जिसने महंगाई की मार झेल रहे इस्लामाबाद को सभी सब्सिडी बंद करने और सख्त उपाय लागू करने के लिए कहा है। पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल में वित्त मंत्री मिफ्ता इस्माइल, राज्य मंत्री डॉ. आयशा घोष पाशा, वित्त सचिव हमीद याकूब शेख, स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान (एसबीपी) के कार्यवाहक गवर्नर डॉ. मुर्तजा सैयद, फेडरल बोर्ड ऑफ रेवेन्यू (एफबीआर) के चेयरमैन असीम अहमद और अन्य वित्त विभाग के अधिकारी शामिल हैं।

अर्थजगत की खबरें: दो दिन की तेजी पर लगा ब्रेक, शेयर बाजार लुढ़का, मस्क से हर हाल में डील चाहता है ट्वीटर बोर्ड

मस्क-अग्रवाल में नोकझोंक के बीच ट्विटर के 3 वरिष्ठ कर्मचारियों ने दिया इस्तीफा

टेस्ला के सीईओ एलोन मस्क और पराग अग्रवाल के बीच चल रही तनातनी के बीच ट्विटर के कुछ और अधिकारी आगे बढ़ गए हैं और जाहिर तौर पर यह महसूस कर रहे हैं कि निकट भविष्य में माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म पर उनके रास्ते में क्या आ सकता है। टेकक्रंच की रिपोर्ट के अनुसार, स्वास्थ्य, वार्ता और विकास के लिए उत्पाद प्रबंधन की उपाध्यक्ष इल्या ब्राउन, ट्विटर सेवा की उपाध्यक्ष कैटरीना लेन, डेटा साइंस के प्रमुख मैक्स शमीजर ने कंपनी छोड़ दी है।

उनके लिंक्डइन प्रोफाइल के मुताबिक, जहां लेन और शमीजर ने ट्विटर पर क्रमश: लगभग एक और दो साल तक काम किया, वहीं ब्राउन लगभग छह वर्षो से माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म पर सेवा दे रहे थे। मंगलवार को सामने आई रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी के प्रवक्ता ने कहा, "हम लोगों को ट्विटर पर सबसे अच्छा अनुभव प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित करना जारी रखे हुए हैं। हम पुष्टि कर सकते हैं कि वे नए अवसरों के लिए ट्विटर छोड़ देंगे। हम उनकी कड़ी मेहनत और नेतृत्व के लिए आभारी हैं।"

ट्विटर के सीईओ अग्रवाल ने हाल ही में दो प्रमुख अधिकारियों - राजस्व उत्पाद के प्रमुख ब्रूस फाल्क और उत्पाद के प्रमुख कायवन बेकपोर को कंपनी से निकाल दिया। निराश बेकपोर ने कहा कि अग्रवाल ने उन्हें जाने के लिए कहा, क्योंकि वह "टीम को एक अलग दिशा में ले जाना चाहते हैं। मस्क ने अब फर्जी/स्पैमी खाते पाए जाने पर 44 अरब डॉलर के ट्विटर सौदे को रोक दिया है और चाहते हैं कि ट्विटर बॉट्स की वास्तविक संख्या स्पष्ट हो जाए। अगर वह पदभार संभालते हैं तो एक नया सीईओ नियुक्त करेंगे।

अर्थजगत की खबरें: दो दिन की तेजी पर लगा ब्रेक, शेयर बाजार लुढ़का, मस्क से हर हाल में डील चाहता है ट्वीटर बोर्ड

कच्चे तेल की कीमतों में उछाल से अप्रैल में ईंधन की मांग घटी

वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में उछाल के दबाव से देश की ईधन मांग मासिक आधार पर अप्रैल में कम हो गई। एसएंडपी की ग्लोबल कमोडिटी रिपोर्ट के अनुसार, कच्चे तेल की कीमतों में वैश्विक स्तर पर रही तेजी की वजह से घरेलू बाजार में ईंधन की खुदरा कीमतों में भी उछाल रहा। दाम के तेज होने से मार्च की तुलना में अप्रैल में घरेलू ईंधन मांग पर नकारात्मक असर रहा। हालांकि, बाजार विश्लेषकों का कहना है कि मई में यह स्थिति बदल सकती है।

अर्थजगत की खबरें: दो दिन की तेजी पर लगा ब्रेक, शेयर बाजार लुढ़का, मस्क से हर हाल में डील चाहता है ट्वीटर बोर्ड

भारत के सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, अप्रैल में ईंधन की घरेलू मांग माह दर माह आधार पर चार प्रतिशत घटकर 49 लाख बैरल प्रतिदिन या 1.86 करोड़ टन रह गई। एसएंडपी का कहना है कि रूस और यूक्रेन के बीच जारी जंग ने कच्चे तेल की कीमतों में अप्रत्याशित तेजी लाई है। मार्च में पेट्रोल की मांग तीन साल के उच्चतम स्तर पर पहुंची थी लेकिन अप्रैल में यह माह दर माह आधार पर 3.8 प्रतिशत घटकर 28 लाख टन रह गई। डीजल की मांग अप्रैल में साढ़े छह प्रतिशत घटकर 72 लाख टन रह गई। एलपीजी की मांग में इस दौरान 12.7 प्रतिशत, नैप्था में 4.3 प्रतिशत और जेट ईंधन में 0.7 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia