अर्थजगत की खबरें: विदेशी बाजारों के असर से शेयर बाजार धड़ाम, पाकिस्तानी रुपया डॉलर के सामने हुआ चारों खाने चित्त

वैश्विक अर्थव्यवस्था की रफ्तार सुस्त रहने की आशंका में गिरे विदेशी बाजारों के असर से घरेलू शेयर बाजार में आज कोहराम मच गया और ये भारी गिरावट में बंद हुए। डॉलर के मुकाबले लगातार गिर रहा पाकिस्तानी रुपया आज 200 रुपये प्रति डॉलर के स्तर से भी नीचे पहुंच गया।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

विदेशी बाजारों से मिले कमजोर संकेतों के बीच शेयर बाजार धड़ाम

महंगाई बढ़ने की आशंका के कारण विदेशी बाजारों की तर्ज पर घरेलू शेयर बाजार भी गुरुवार को भारी गिरावट में बंद हुए। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 2.61 प्रतिशत यानी 1,416.30 अंक की भारी गिरावट में 52,792.23 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 2.65 प्रतिशत यानी 430.90 अंक लुढ़ककर 15,809.40 अंक पर बंद हुआ। डॉलर की तुलना में रुपया भी 10 पैसे की गिरावट के साथ 77.72 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ।

अमेरिकी रिटेल कंपनियों के खराब प्रदर्शन और महंगाई पर काबू पाने के लिए केंद्रीय बैंक द्वारा मौद्रिक नीति सख्त करने की संभावना बढ़ जाने से निवेश धारणा कमजोर रही। एसएंडपी 500, नैस्डेक और डाउ जोंस गिरावट में हैं। एशियाई बाजारों में जापान का निक्केई तथा दक्षिण कोरिया का कोस्पी भी लाल निशान में बंद हुआ है। जर्मनी के डैक्स में भी गिरावट दर्ज की गई है।

रेलीगेयर ब्रोकिंग के शोध उपाध्यक्ष अजीत मिश्रा ने कहा कि विदेशी बाजारों के धराशायी होने से घरेलू बाजार में भी बिकवाली हावी हो गई। आईटी कंपनियों और धातु क्षेत्र को सर्वाधिक बिकवाली देखनी पड़ी। रेलीगेयर ब्रोकिंग की कमोडिटी एंड करेंसी की शोध उपाध्यक्ष सुगंधा सचदेवा ने कहा कि डॉलर दो माह के उच्चतम स्तर से नीचे आया है और कच्चे तेल में भी नरमी देखी गई है, लेकिन वैश्विक अर्थव्यवस्था के सुस्त पड़ने की आशंका के कारण शेयर बाजार पर बिकवाली का दबाव बना हुआ है।

अर्थजगत की खबरें: विदेशी बाजारों के असर से शेयर बाजार धड़ाम, पाकिस्तानी रुपया डॉलर के सामने हुआ चारों खाने चित्त

पाकिस्तानी रुपया डॉलर के सामने हुआ चारों खाने चित्त

पिछले एक सप्ताह से डॉलर की तुलना में पाकिस्तानी मुद्रा की गिरावट लगातार जारी है और गुरुवार को यह 200 रुपये प्रति डॉलर के स्तर से भी नीचे चली गई। समा टीवी के मुताबिक, अंतरबैंकिंग मुद्रा कारोबार में सुबह 11 बजे अमेरिकी डॉलर की तुलना में पाकिस्तानी मुद्रा 1.81 रुपये या 0.91 प्रतिशत फिसलकर 200.20 पाकिस्तानी रुपये प्रति डॉलर पर आ गई। बुधवार को यह 198.39 रुपये प्रति डॉलर तथा मंगलवार को 195.74 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुई थी।

पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की सत्ता छीनने के बाद से शहबाज शरीफ की सरकार जब से बनी है, तब से अंतरबैंकिंग मुद्रा बाजार में डॉलर 18.09 पाकिस्तानी रुपये महंगा हुआ है। बाजार विश्लेषकों के मुताबिक, देश में जारी आर्थिक और राजनीतिक संकट के कारण पाकिस्तानी मुद्रा पर दबाव बना हुआ है। बाजार की नजरें कतर में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और पाकिस्तान के बीच बातचीत पर भी टिकी हैं। दोनों के बीच पहले चरण की बातचीत बुधवार को समाप्त हुई है। पाकिस्तान ने आईएमएफ से कहा कि वह बेलआउट पैकेज के लिए सख्त निर्णय लेने का तैयार है। पाकिस्तान ने आश्वासन दिया है कि वह ईंधन पर मिलने वाली सब्सिडी को खत्म कर देगा।

अर्थजगत की खबरें: विदेशी बाजारों के असर से शेयर बाजार धड़ाम, पाकिस्तानी रुपया डॉलर के सामने हुआ चारों खाने चित्त

सुप्रीम कोर्ट से साइरस मिस्त्री को झटका, टाटा सन्स के खिलाफ नहीं मिली राहत

टाटा संस के कार्यकारी अध्यक्ष के पद से हटाये जाने के खिलाफ दूसरी बार उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाना भी साइरस मिस्त्री के लिये लाभदायक साबित नहीं हुआ। सुप्रीम कोर्ट ने साइरस मिस्त्री और टाटा समूह के बीच जारी विवाद में अपने फैसले पर पुनर्विचार करने से गुरुवार को इनकार कर दिया। इससे पहले भी टाटा समूह के फैसले के खिलाफ साइरस मिस्त्री ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी लेकिन शीर्ष अदालत ने मार्च 2021 में टाटा समूह के निर्णय को सही ठहराते हुये उसके पक्ष में फैसला सुनाया था।

दिसंबर 2019 में राष्ट्रीय कंपनी विधि अपील अधिकरण (एनसीएलएटी) ने 24 अक्टूबर 2016 को हुई टाटा बोर्ड की बैठक की कार्रवाई को अवैध ठहराया था। इसी बोर्ड मीटिंग में साइरस मिस्त्री को पद से हटाने का फैसला लिया गया था। सुप्रीम कोर्ट ने एनसीएलएटी के इस आादेश को रद्द करते हुये कहा था कि साइरस मिस्त्री को पद से हटाने की प्रक्रिया पूरी तरह कानून सम्मत है।

सुप्रीम कोर्ट से इस फैसले का पुनर्विचार करने की गुहार लगाते हुए साइरस इनवेस्टमेंट्स प्राइवेट लिमिटेड और स्टर्लिग इनवेस्टमेंट्स प्राइवेट लिमिटेड ने याचिका दायर की थी। उच्चतम न्यायालय ने फरवरी में इन पर सुनवाई करने पर अपनी मुहर लगाई थी। चीफ जस्टिस एन वी रमना की अगुवाई में जस्टिस ए एस बोपन्ना और जस्टिस वी रामासुब्रमणियम की तीन सदस्यी य खंडपीठ ने गुरुवार को इन पुनर्विचार याचिकाओं को खारिज कर दिया।

अर्थजगत की खबरें: विदेशी बाजारों के असर से शेयर बाजार धड़ाम, पाकिस्तानी रुपया डॉलर के सामने हुआ चारों खाने चित्त

कार्स 24 ने 600 कर्मचारियों की छंटनी की, खराब प्रदर्शन को बताया कारण

सेकंड हैंड कारों की खरीद-बिक्री करने वाले ई कॉमर्स प्लेटफॉर्म कार्स24 ने गुरुवार को कहा कि उसने खराब प्रदर्शन के आधार पर करीब 600 कर्मचारियों की छंटनी की है। कंपनी ने कहा कि उसने खर्च में कटौती के लिये छंटनी नहीं की है। उसने विज्ञप्ति में कहा है कि यह छंटनी कारोबार का हिस्सा है। हर साल प्रदर्शन के आधार पर कर्मचारियों की छंटनी होती है।

कार्स24 में करीब नौ हजार लोग काम करते हैं और उसके मुताबिक उसका कारोबार भारत के अलावा, मिडल ईस्ट, आस्ट्रेलिया और दक्षिणपूर्व एशिया में भी बढ़ रहा है। कंपनी ने कहा है कि वह वैश्विक स्तर पर और भर्तियां करने की तैयारी कर रही है। गत साल दिसंबर में ही कंपनी ने 40 करोड़ डॉलर की पूंजी जुटाई थी। उस वक्त कंपनी की वैल्यूएशन 3.3 अरब डॉलर थी।

अर्थजगत की खबरें: विदेशी बाजारों के असर से शेयर बाजार धड़ाम, पाकिस्तानी रुपया डॉलर के सामने हुआ चारों खाने चित्त

महानगर के लोग भी अब चखेंगे बिहार के मुजफ्फरपुर की रसभरी लीची का स्वाद

मुजफ्फरपुर की रसभरी शाही लीची का स्वाद अब केवल बिहार के लोग ही नहीं चखेंगे, बल्कि कई राज्यों के लोग भी इसका लुत्फ उठाएंगे। बिहार की लीची अब हवाई जहाज से महानगरों तक पहुंचेगी। बिहार की लीची दरभंगा एयरपोर्ट से स्पाइसजेट के माध्यम से 20 मई से वाया दरभंगा दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु और अहमदाबाद भेजने के लिए शुरूआत की जाएगी। एयर कंपनी ने बिहार लीची उत्पादक संघ से करार किया है। करार के मुताबिक कंपनी छह टन लीची रोज इन महानगरों में 40 रुपये प्रति किलो भाड़ा के हिसाब से भेजेगी।

अर्थजगत की खबरें: विदेशी बाजारों के असर से शेयर बाजार धड़ाम, पाकिस्तानी रुपया डॉलर के सामने हुआ चारों खाने चित्त

बिहार लीची उत्पादक संघ के अध्यक्ष बच्चा प्रसाद ने बताया कि दरभंगा से हवाई मार्ग से लीची भेजने से किसान और व्यवसायियों को लाभ की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि ट्रेन और ट्रक से लीची भेजे जाने के बाद लीची के खराब होने की आशंका रहती है। अब लीची एक ही दिन में महानगर पहुंच जाएगी, इसलिए यह ताजा रहेगी। महानगर में इसकी कीमत 1800 रुपये से दो हजार रुपये बॉक्स तक आसानी से मिल जाएगी। दरभंगा एयरपोर्ट पर 20 मई से लीची भेजने की तैयारी पूरी कर ली गई है। इसके लिए एयरपोर्ट के पश्चिमी दरवाजे पर शेड बनाया गया है, जहां से कार्गो में लीची की बुकिंग होगी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia