अर्थजगत की खबरें: डॉलर के मुकाबले रिकॉर्ड नीचे पहुंचा रुपया, झटके से घरेलू शेयर बाजार भी लुढ़का

आम आदमी को मंहगाई की एक और मार पड़ी है। देश में गेहूं के आटे का औसत मासिक खुदरा मूल्य पिछले एक साल के दौरान 12 साल के उच्चतम स्तर 32.3 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गया है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

डॉलर के मुकाबले रिकॉर्ड नीचले स्तर पर पहुंचा रुपया

भारतीय रुपया सोमवार को शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले लुढ़कते हुए 77.42 के सर्वकालिक निचले स्तर पर पहुंच गया। भारतीय मुद्रा को विदेशी बाजार में अमेरिकी मुद्रा की ताकत और निरंतर विदेशी फंड के आउटफ्लो से तौला जाता है। इसके अलावा, कच्चे तेल की कीमतों में उछाल से रुपया फिसल गया है। स्टॉक एक्सचेंज के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशक शुक्रवार को पूंजी बाजार में शुद्ध विक्रेता थे, क्योंकि उन्होंने 5,517.08 करोड़ रुपये के शेयरों की बिक्री की। वे हाल के महीनों में लगातार शेयर बेच रहे हैं। वैश्विक केंद्रीय बैंकों द्वारा नीति को सामान्य बनाना शुरू करने के बाद रुपये पर दबाव रहा है और पिछले हफ्ते आरबीआई ने भी प्रमुख ब्याज दरें बढ़ाना शुरू कर दिया था।

शुक्रवार को रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 55 पैसे टूटकर 76.90 पर बंद हुआ था। इसके अलावा, कच्चे तेल की कीमतों में सख्त होने के कारण यूरोपीय संघ रूसी तेल पर प्रतिबंध लगाने के लिए आगे बढ़ रहा है। भावनाओं को भड़का रहा है, जिससे चालू खाता घाटे के बढ़ने और घरेलू मुद्रा पर दबाव बढ़ने की चिंता बढ़ रही है। भारतीय रुपया 77.14-अंक के पिछले सर्वकालिक निम्न स्तर को पार कर गया है, यह निकट अवधि में 78 अंक की ओर और मूल्यह्रास देखने के लिए तैयार है।

डॉलर के मुकाबले रुपये के टूटने से लुढ़का घरेलू शेयर बाजार

डॉलर के मुकाबले रुपये के टूटने और बढ़ती महंगाई पर लगाम लगाने के मकसद से केंद्रीय बैंकों द्वारा ब्याज दरों में की गई बढ़ोतरी के दबाव में सोमवार को घरेलू शेयर बाजार लाल निशान में बंद हुये। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 364.91 अंक यानी 0.67 प्रतिशत की गिरावट में 54,470.67 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 109.40 अंक यानी 0.67 प्रतिशत फिसलकर 16,301.85 अंक पर बंद हुआ।

बाजार विश्लेषकों के मुताबिक डॉलर के मुकाबले रुपये में रही गिरावट के अलावा चीन में कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिये लॉकडाउन में सख्ती करने से भी बाजार धारणा पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा। जियोजीत फाइनेंशियल के शोध प्रमुख ब्याज दरों में तेजी के कारण डॉलर महंगा हुआ है और अमेरिकी बांड यील्ड में भी बढ़ोतरी हुई है। इससे निवेशकों का रुझान जोखिम भरे निवेश में कम हो गया है। ब्याज दरों में और बढ़ोतरी की संभावना के कारण निवेशक सुरक्षित निवेश को तरजीह दे रहे हैं।


रहस्यमय परिस्थितियों में मौत पर एलन मस्क के ट्वीट से मां हुईं भावुक

टेस्ला के सीईओ एलन मस्क किसी न किसी कारण सुर्खियों में बने रहते हैं। अब उन्होंने सोमवार को अपनी 'रहस्यमय परिस्थितियों' के तहत मृत्यु के बारे में एक और ट्वीट शेयर किया है। यह पोस्ट उनकी मां मेय मस्क को बिल्कुल पसंद नहीं आई। एलन मस्क ने ट्वीट किया, "अगर मैं रहस्यमय परिस्थितियों में मर जाऊं.!" उनके इस ट्वीट के बाद उनकी माँ ने रिप्लाई दिया, 'ऐसमजाक अच्छा नहीं है।" एलन ने फिर कहा, "क्षमा करें! मैं जिंदा रहने की पूरी कोशिश करूंगा।"

ट्वीट ने उनके 91 मिलियन से अधिक फॉलोअर्स के बीच सोशल मीडिया पर हलचल पैदा कर दी। एक यूजर ने पोस्ट किया, "नहीं, आप नहीं मरेंगे। दुनिया को आपकी जरूरत है।" एक अन्य ने ट्वीट किया, "हमें आपकी हर कीमत पर रक्षा करनी चाहिए। मानवता आप पर भरोसा कर रही है।" यह पहली बार नहीं है जब 44 बिलियन डॉलर में ट्विटर का अधिग्रहण करने वाले एलन मस्क ने अपनी मृत्यु के बारे में एक गुप्त ट्वीट पोस्ट किया है। इसी साल मार्च में उन्होंने ट्वीट किया था कि मौत उनके लिए राहत बनकर आएगी।

अत्यधिक गर्मी और निर्यात मांग में तेजी से गेहूं के आटे और ब्रेड के दाम बढ़े

गेहूं के आटे का औसत मासिक खुदरा मूल्य पिछले एक साल के दौरान 12 साल के उच्चतम स्तर 32.3 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गया है। उपभोक्ता मामलों के विभाग के आंकड़ों के मुताबिक गत साल इसका औसत खुदरा मूल्य 29.1 रुपये प्रति किलोग्राम था। भारत में गेहूं का उत्पादन और भंडार दोनों में गिरावट आई है, जिससे यहां गेहूं के आटे के दाम बढ़ रहे हैं। इसके अलावा रूस और यूक्रेन के युद्धरत होने के कारण विदेशी बाजारों में गेहूं की मांग भी बढ़ गई है। रूस और यूक्रेन दोनों गेहूं के बड़े उत्पादक देश हैं।

भारत में गेहूं की कीमतें 2,400 रुपये प्रति क्विंटल के करीब हैं, जो न्यूनतम समर्थन मूल्य से अधिक है। साल 2022-23 के कारोबारी सीजन के लिये गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य 2,015 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है। आमतौर पर गेहूं कि कटाई का सीजन शुरू होते ही आपूर्ति बढ़ने के दबाव से मंडी में इसके दाम घट जाते हैं लेकिन इस बार पर्याप्त मांग के बीच आपूर्ति में आई गिरावट से दाम की तेजी बनी हुई है।

रिपोर्ट के अनुसार, गेहूं उत्पादन वाले इलाकों में अधिक गर्मी के कारण इस बार कम फसल की संभावना जताई जा रही है। अत्यधिक गर्मी के कारण गेहूं की फसल पर बुरा असर होता है।
मुम्बई में गेहूं के आटे का खुदरा मूल्य 49 रुपये प्रति किलोग्राम, चेन्नई में 34 रुपये प्रति किलोग्राम, कोलकाता में 29 रुपये प्रति किलोग्राम और दिल्ली में 27 रुपये प्रति किलोग्राम है।
इसके अलावा ईंधन की बढ़ती कीमतों का दबाव भी गेहूं की कीमतों पर है। गेहूं के आटे के दाम में तेजी के कारण ब्रेड की कीमतों में तेज बढ़त दर्ज की गई है।


भारत में लाख रुपये से अधिक के स्मार्टफोन बाजार पर सैमसंग ने किया कब्जा

अपने गैलेक्सी एस22 अल्ट्रा स्मार्टफोन की सफलता के बाद सैमसंग ने सोमवार को खुलासा किया कि उसने मार्च के महीने में कुल सुपर-प्रीमियम बाजार (1 लाख रुपये और उससे अधिक) में 81 फीसदी हिस्सेदारी हासिल की। काउंटरपॉइंट रिसर्च के अनुसार, गैलेक्सी एस22 सीरीज की सफलता ने सैमसंग इंडिया को 38 प्रतिशत मार्केट शेयर (वॉल्यूम के हिसाब से) के साथ समग्र प्रीमियम सेगमेंट (30,000 रुपये और उससे अधिक) में शीर्ष स्मार्टफोन निर्माता के रूप में उभरने में मदद की।

मार्च में गैलेक्सी एस22 अल्ट्रा डिवाइस ने अकेले 1 लाख रुपये और उससे अधिक मूल्य श्रेणी में 74 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी (मात्रा के हिसाब से) हासिल की। सैमसंग इंडिया के मोबाइल बिजनेस के सीनियर डायरेक्टर और हेड ऑफ प्रोडक्ट मार्केटिंग, आदित्य बब्बर ने कहा कि कंपनी के हाई-एंड स्मार्टफोन्स की मांग अब छोटे शहरों से लगातार आ रही है। इसके अलावा, दक्षिण कोरियाई दिग्गज मार्च में 22 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी (मात्रा) और 27 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी (मूल्य के अनुसार) के साथ भारत के शीर्ष स्मार्टफोन निर्माता के रूप में उभरे हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia