अर्थजगतः भारत से मोबाइल निर्यात 45,000 करोड़ रुपये के पार, लुलु ग्रुप ने हैदराबाद में खोला शानदार मॉल

भारत ने चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-अगस्त की अवधि के बीच 45,000 करोड़ रुपये से अधिक के मोबाइल फोन के निर्यात का आंकड़ा पार कर लिया है। इसमें सबसे आगे एप्पल है। यूएई के लुलु ग्रुप ने आज हैदराबाद में अपना पहला मॉल खोलकर तेलंगाना में प्रवेश किया।

भारत से मोबाइल निर्यात 45,000 करोड़ रुपये के पार, लुलु ग्रुप ने हैदराबाद में खोला मॉल
भारत से मोबाइल निर्यात 45,000 करोड़ रुपये के पार, लुलु ग्रुप ने हैदराबाद में खोला मॉल
user

नवजीवन डेस्क

भारत से मोबाइल निर्यात 45,000 करोड़ रुपये के पार, एप्‍पल सबसे आगे

भारत ने चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-अगस्त की अवधि के बीच 5.5 बिलियन डॉलर (45,000 करोड़ रुपये से अधिक) के मोबाइल फोन निर्यात किए। वाणिज्य विभाग और इंडिया सेल्युलर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स एसोसिएशन के अनुमान के अनुसार, अप्रैल-अगस्त की अवधि में 5.5 अरब डॉलर के मोबाइल फोन निर्यात हुए, जबकि वित्त वर्ष 22-23 की समान अवधि में 3 अरब डॉलर का निर्यात हुआ था। उद्योग सूत्रों के अनुसार अप्रैल-अगस्त की अवधि में भारत निर्मित फोन निर्यात में एप्पल सबसे आगे रहा और पहली बार कुल अनुमानित आंकड़े के 50 प्रतिशत से अधिक को पार कर सैमसंग दूसरे स्थान पर रहा।

सूत्रों ने बताया कि जून तिमाही में, एप्पल ने देश के कुल 12 मिलियन स्मार्टफोन शिपमेंट में से लगभग 50 प्रतिशत निर्यात किया, जबकि सैमसंग ने 45 प्रतिशत निर्यात किया। यह पहली बार है जब एप्पल ने देश से स्मार्टफोन निर्यात मात्रा में अपने दक्षिण कोरियाई समकक्ष सैमसंग को पीछे छोड़ दिया है, क्योंकि इसमें आईफोन 15 सीरीज की मजबूत बिक्री और मांग देखी गई जो पिछले साल की तुलना में 100 प्रतिशत (या 2 गुना) से अधिक थी। भारत चालू वित्त वर्ष में मोबाइल फोन निर्यात में 1,20,000 करोड़ रुपये को पार करने के लिए तैयार है, जिसमें एप्पल वित्त वर्ष 24 में 50 प्रतिशत से अधिक के साथ बाजार में अग्रणी रहेगा।

लुलु ग्रुप ने हैदराबाद में खोला मॉल, 3,500 करोड़ रुपये के निवेश की योजना

संयुक्त अरब अमीरात स्थित रिटेलर लुलु ग्रुप ने बुधवार को हैदराबाद में अपना पहला मॉल खोलकर तेलंगाना में प्रवेश किया। समूह ने अगले तीन वर्षों में राज्य में 3,500 करोड़ रुपये का निवेश करने की अपनी प्रतिबद्धता भी दोहराई। तेलंगाना के उद्योग मंत्री केटी रामा राव ने 5,00,000 वर्ग फुट में फैले मॉल का उद्घाटन किया। लुलु समूह के अध्यक्ष यूसुफ अली ने कहा कि वे तेलंगाना में अगले तीन वर्षों में 3,500 करोड़ रुपये का निवेश करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। 100 प्रतिशत निर्यात की सुविधा के लिए निवेश एक गंतव्य शॉपिंग मॉल, मिनी मॉल और कृषि सोर्सिंग, लॉजिस्टिक्स और प्रोसेसिंग हब में होगा।

उन्होंने कहा कि दूसरी परियोजना हैदराबाद में मांस प्रसंस्करण सहित निर्यातोन्मुख अत्याधुनिक खाद्य प्रसंस्करण केंद्र होगी। उन्होंने कहा, "स्थानीय मछुआरा समुदाय का समर्थन करने के लिए हम मंत्री के निर्वाचन क्षेत्र (सिरसिला) में समुद्री खाद्य खरीद और प्रसंस्करण केंद्र की योजना बना रहे हैं।" केटी रामा राव ने कहा कि मॉल पहला कदम था। लुलु समूह ने सुपरमार्केट, मॉल, खाद्य प्रसंस्करण, जलीय और मछली प्रसंस्करण सहित संबद्ध क्षेत्रों में 3,500 करोड़ रुपये के निवेश का वादा किया था। उन्होंने कहा कि इससे न केवल तेलंगाना में युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा होंगे बल्कि मछली और पोल्ट्री किसानों को भी लाभ होगा।


बैंक कर्मचारी 4 दिसंबर से 20 जनवरी के बीच 13 दिन हड़ताल करेंगे

बैंकिंग क्षेत्र के सबसे बड़े कर्मचारी संघ, ऑल इंडिया बैंक एम्प्लॉइज एसोसिएशन ने कर्मचारियों की भर्ती की मांग को लेकर 4 दिसंबर से 20 जनवरी 2024 के बीच देश भर में श्रृंखलाबद्ध हड़ताल का आह्वान किया है। अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ (एआईबीईए) के महासचिव सीएच वेंकटचलम ने कहा, ''सरकार और बैंकों की ओर से बैंकों में क्लेरिकल और अधीनस्थ कैडर्स में कर्मचारियों की संख्या कम करने और पर्यवेक्षी कर्मचारियों की संख्या बढ़ाने का एक जानबूझकर प्रयास किया जा रहा है। विचार बिल्कुल स्पष्ट है कि वे कम वर्कर चाहते हैं जो औद्योगिक विवाद अधिनियम द्वारा शासित हों।''

इसी तरह हमने यह भी पाया है कि हमारे द्विपक्षीय समझौते के अनुसार वेतन के भुगतान से बचने के लिए बैंकों में नियमित और स्थायी नौकरियों को अनुबंध के आधार पर आउटसोर्स करने का एक वंचित प्रयास किया जा रहा है। इसके कारण, बैंकों में लिपिक (क्लेरिकल) कर्मचारियों की भर्ती में साल-दर-साल भारी कमी आई है और अधीनस्थ कर्मचारियों और सफाई कर्मचारियों की नियुक्ति पर लगभग प्रतिबंध लगा हुआ है। उन्होंने आगे कहा कि इसके परिणामस्वरूप बड़ी संख्या में लोगों को उचित पारिश्रमिक के बिना अस्थायी और आकस्मिक आधार पर नियोजित किया जा रहा है।"

शेयर बाजार के कारोबार में फार्मा शेयरों में सबसे ज्यादा बढ़त

जिओजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा है कि एफएमसीजी और फार्मा सेक्टर ने बुधवार को शेयर बाजार में बेहतर प्रदर्शन किया, निवेशकों ने वैश्विक चुनौतियों से निपटने के लिए रक्षात्मक रुख अपनाया है। हालांकि उन्होंने कहा कि विदेशी फंडों की लगातार निकासी और अमेरिकी बॉन्ड यील्ड में बढ़ोतरी से सूचकांकों के निराशाजनक रहने की संभावना है। यूरोपीय बाजारों में सकारात्मक शुरुआत के चलते बुधवार को बाजार बाद में ऊंचे स्तर पर पहुंच गया।

उन्होंने कहा कि वैश्विक ब्याज दरों और ऊंचे तेल की कीमतों पर चिंताओं को कई घरेलू कारकों द्वारा संतुलित किया जा रहा है। बोनांजा पोर्टफोलियो के रिसर्च एनालिस्ट वैभव विदवानी का कहना है कि बुधवार को ज्यादातर सेक्टोरल इंडेक्स हरे रंग में थे, जिसमें निफ्टी फार्मा 1.19 फीसदी की बढ़त के साथ आगे रहा। निफ्टी पर कोल इंडिया, आईटीसी, लार्सन एंड टुब्रो, सिप्ला और एलटीआईमाइंडट्री शीर्ष लाभ में रहे, जबकि नुकसान में टाइटन कंपनी, ग्रासिम इंडस्ट्रीज, हीरो मोटोकॉर्प, एसबीआई और बीपीसीएल रहे।


2023 में भारतीय कंपनियों में महिला कार्यबल बढ़कर हुआ 26 प्रतिशत: रिपोर्ट

एक रिपोर्ट से यह बात सामने आई है कि भारतीय कंपनियों में काम करने वाली महिलाओं की संख्‍या में बढ़ोत्तरी आई है। 2023 में महिला कार्यबल बढ़कर 26 प्रतिशत हो गया। यह 2021 में 21 प्रतिशत था। ग्रेट प्लेस टू वर्क इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, जहां उच्चतम और निम्नतम महिला उपस्थिति वाले उद्योगों के बीच महिलाओं के प्रतिनिधित्व में 38 प्रतिशत का अंतर है।इससे पता चलता है कि महिलाएं कम महिला प्रतिनिधित्व वाले उद्योगों में भी काम कर रही है।

इसके अलावा, लगभग आठ प्रतिशत भारतीय सीईओ (मुख्य कार्यकारी अधिकारी) महिलाएं हैं, जिनमें से 32 प्रतिशत महिलाएं वरिष्ठ नेतृत्व पदों पर हैं, जिनके संगठनों में महिला साथियों की कमी है। ग्रेट प्लेस टू वर्क इंडिया की सीईओ यशस्विनी रामास्वामी ने कहा, "हमारे निष्कर्षों से पता चलता है कि 2023 में भारतीय कंपनियों में महिला कार्यबल में 5 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। जिसके परिणामस्वरूप 89 प्रतिशत महिलाएं अपनी भूमिकाओं से मजबूत प्रतिबद्धता प्रदर्शित करती हैं। उन्होंने कहा, "यह 2021 में 21 प्रतिशत से बढ़कर 2023 में प्रभावशाली 26 प्रतिशत हो गई है, जिसमें सबसे अच्छे कार्यस्थल अपने समकक्षों की तुलना में 17 प्रतिशत अधिक महिलाओं को रोजगार देकर आगे बढ़ रहे हैं।"

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;