अर्थजगत की खबरेःं बिसलेरी को खरीदेगी टाटा कंज्यूमर, केरल में दूध की कीमत में 6 रुपये प्रति लीटर की भारी वृद्धि

भारत की सबसे बड़ी पैकेज्ड वाटर कंपनी बिसलेरी को टाटा कंज्यूमर करीब 7,000 करोड़ रुपये में खरीदने जा रही है। केरल को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन ने गुरुवार को दूध की कीमतों में 6 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की घोषणा की, जो 1 दिसंबर से लागू होगी।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

टाटा कंज्यूमर 7,000 करोड़ रुपये में बिसलेरी का अधिग्रहण करेगी

टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड करीब 6,000 से 7,000 करोड़ रुपये में रमेश चौहान की बिसलेरी इंटरनेशनल का अधिग्रहण करने जा रही है। द इकोनॉमिक टाइम्स की खबर के अनुसार सौदे के हिस्से के रूप में वर्तमान प्रबंधन दो साल तक जारी रहेगा। 82 वर्षीय चौहान का हाल के दिनों में खराब स्वास्थ्य रहा है और उनका कहना है कि बिसलेरी को विस्तार के अगले स्तर पर ले जाने के लिए उनके पास उत्तराधिकारी नहीं है। चौहान ने कहा कि बेटी जयंती कारोबार में ज्यादा दिलचस्पी नहीं रखती। बिसलेरी भारत की सबसे बड़ी पैकेज्ड वाटर कंपनी है।

चौहान ने कहा कि टाटा ग्रुप 'इसका और भी बेहतर तरीके से पालन पोषण और देखभाल करेगा', हालांकि बिसलेरी को बेचना अभी भी एक 'दर्दनाक' निर्णय था। कहा जाता है कि रिलायंस रिटेल, नेस्ले और डेनोन सहित बिसलेरी के पास अलग-अलग समय में कई दावेदार थे। टाटा के साथ बातचीत दो साल से चल रही थी और उन्होंने कुछ महीने पहले टाटा संस के चेयरमैन एन. चंद्रशेखरन और टाटा कंज्यूमर के सीईओ सुनील डिसूजा से मुलाकात के बाद अपना मन बना लिया था। उन्होंने ईटी को बताया, "मुझे वे पसंद हैं। वे अच्छे लोग हैं।"

केरल में दूध की कीमतों में 6 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी

केरल को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन (मिल्मा) ने गुरुवार को दूध की कीमतों में 6 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की घोषणा की, जो 1 दिसंबर से लागू होगी। अभी राज्य में एक लीटर दूध की कीमत 46 रुपये है। मिल्मा ने 2019 में 4 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि की घोषणा के तीन साल बाद मूल्य वृद्धि की है। फेडरेशन के अध्यक्ष के.एस. मणि ने कहा कि नवीनतम निर्णय मिल्मा द्वारा नियुक्त पैनल की रिपोर्ट पर आया है जिसमें राज्य के पशु चिकित्सा और कृषि विश्वविद्यालयों के विशेषज्ञों ने डेयरी किसानों द्वारा किए गए खर्चों पर एक अध्ययन किया। समिति ने पिछले सप्ताह सौंपी अपनी अंतरिम रिपोर्ट में कहा कि किसानों को प्रति लीटर दूध पर 8.57 रुपये का अनुमानित नुकसान होता है। अध्यक्ष ने कहा, इसके बाद, मिल्मा निदेशक बोर्ड ने एक बैठक बुलाई और पाया कि मूल्य वृद्धि अनिवार्य थी।


तकनीकी क्षेत्र के लिए 2022 सबसे खराब रहा

वैश्विक मंदी के बीच ज्यादातर कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है। रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया भर में कम से कम 853 तकनीकी कंपनियों ने आज तक लगभग 137,492 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया है। लायोफ्फस.एफवाईआई के आंकड़ों के अनुसार, 1,388 तकनीकी कंपनियों ने कोरोना वायरस की शुरुआत के बाद से कुल 233,483 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया है, लेकिन साल 2022 तकनीकी क्षेत्र के लिए सबसे खराब रहा है।

नवंबर के मध्य तक मेटा, ट्विटर, सेल्सफोर्स, नेटफ्लिक्स, सिस्को, आरोकू और अन्य जैसी कंपनियों के नेतृत्व में अमेरिकी तकनीकी क्षेत्र में बड़े पैमाने पर 73 हजार से अधिक कर्मचारियों की छंटनी की गई है। क्रंचबेस के अनुसार रॉबिनहुड, ग्लोसियर और बेटर कुछ ऐसी तकनीकी कंपनियां हैं जिन्होंने 2022 में अपने कर्मचारियों की संख्या में विशेष रूप से छंटनी की है।

एप्पल को हर सेकंड हो रहा 1.5 लाख रुपये का मुनाफा

क्या आप जानते हैं कि एप्पल हर सेकंड कितना मुनाफा कमाता है? यह हैरान कर देने वाला है। कंपनी का मुनाफा 1,820 डॉलर (1.48 लाख रुपये से अधिक) से अधिक है, जिससे आईफोन निर्माता दुनिया की सबसे अधिक लाभ कमाने वाली कंपनी बन गई है। एप्पल एक दिन में लगभग 157 मिलियन डॉलर (1,282 करोड़ रुपये से अधिक) कमा रहा है। अकाउटिंग सॉफ्टवेयर फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी बिजनेस टिपल्टी के नए रिसर्च के अनुसार, फेलो टेक दिग्गज माइक्रोसॉफ्ट और अल्फाबेट (गूगल की मूल कंपनी), साथ ही वॉरेन बफे के बर्कशायर हैथवे भी हर सेकंड में एक हजार डॉलर से अधिक की कमाई करते हैं, जो एक दिन में 100 मिलियन डॉलर से अधिक है। दूसरे स्थान पर 1,404 डॉलर (1.14 लाख रुपये) प्रति सेकंड के साथ माइक्रोसॉफ्ट और तीसरे स्थान पर 1,348 डॉलर (लगभग 1.10 लाख रुपये) प्रति सेकंड के साथ बर्कशायर हैथवे है।


राजस्थान को अब पर्यटन के साथ बिजनेस स्टेट के रूप में भी मिलेगा बढ़ावा 

महलों, किलों और हवेलियों के रूप में मौजूद प्राकृतिक सुंदरता और वास्तुकला के चमत्कारों के कारण दुनिया भर से यात्री उदयपुर और जोधपुर आने के इच्छुक हैं। हालांकि, अब राजस्थान सरकार यहां से व्यापार और निर्यात को बढ़ावा देकर इन शहरों को व्यापारिक शहरों में बदलने की योजना बना रही है, अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की है।

राजस्थान एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल (आरईपीसी) के अध्यक्ष राजीव अरोड़ा ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा, उदयपुर में नया एयर कार्गो कॉम्प्लेक्स जल्द ही आ रहा है। राजस्थान लघु उद्योग निगम (आरईपीसी) अगले कुछ महीनों में माल के आयात और निर्यात की सुविधा के लिए उदयपुर के डबोक हवाई अड्डे पर एक एयर कार्गो कॉम्प्लेक्स स्थापित करने के लिए काम कर रहा है। मैंने एएआई के अध्यक्ष से मुलाकात की है और उसी के लिए जमीन पर चर्चा की है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;