अर्थजगत की खबरें: लगातार दूसरे दिन लुढ़का शेयर बाजार, पंजाब की AAP सरकार 27 जून को अपना पहला बजट पेश करेगी

आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति की बैठक के नतीजों के एलान से एक दिन पहले मंगलवार को भी शेयर बाजार गिरावट के साथ खुले और गिरावट में बंद हुए। पंजाब की आम आदमी पार्टी की सरकार 27 जून को अपना पहला बजट पेश करेगी। विधानसभा का बजट सत्र 24 जून से शुरू होगा।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

लगातार दूसरे दिन खुलते ही लुढ़का शेयर बाजार, सेंसेक्स और निफ्टी में गिरावट

आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति की बैठक के नतीजों के एलान से एक दिन पहले मंगलवार को भी शेयर बाजार में भारी दबाव बना रहा। निफ्टी और सेंसेक्स हफ्ते के दूसरे कारोबारी दिन मंगलवार को गिरावट के साथ खुले। सुबह 10.02 बजे सेंसेक्स 1.1 फीसदी की गिरावट के साथ 55,037 अंक पर, जबकि निफ्टी 1.1 फीसदी की गिरावट के साथ 16,388 अंक पर था। भारतीय रिजर्व बैंक की सोमवार से शुरू हुई तीन दिवसीय मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक का असर आने वाले समय में बाजार की चाल पर पड़ेगा।

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार, वी.के. विजयकुमार ने कहा, "इस सप्ताह आने वाले दो महत्वपूर्ण आंकड़े अहम हैं, आरबीआई की दर में वृद्धि कल और अमेरिका में मुद्रास्फीति की दर शुक्रवार को होने की उम्मीद है। आरबीआई की दर वृद्धि एक पूर्व निष्कर्ष है; केवल यह पता नहीं है कि इजाफा कितना होगा। 50 बीपी की तेजी से, बाजार पर ज्यादा असर पड़ने की संभावना नहीं है क्योंकि मुद्रास्फीति की उम्मीदों को कम करने के लिए दर वृद्धि का फ्रंटलोडिंग अधिक प्रभावी होगा।"

पंजाब की AAP सरकार 27 जून को अपना पहला बजट पेश करेगी

मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व में पंजाब मंत्रिमंडल ने मंगलवार को 16वीं विधानसभा के बजट सत्र को 24 जून से बुलाने की मंजूरी दे दी है, जिसमें आम आदमी पार्टी सरकार का पहला बजट 27 जून को रखा जाएगा। मान की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में इस संबंध में फैसला लिया गया। मुख्यमंत्री कार्यालय ने कहा कि मंत्रिमंडल ने राज्यपाल के अभिभाषण पर श्रद्धांजलि और धन्यवाद प्रस्ताव के साथ 24 जून से सत्र की घोषणा के लिए मंजूरी दी, जिसके बाद इस पर चर्चा हुई।

राज्य के वित्त मंत्री 27 जून को 2022-23 का बजट पेश करेंगे और उसके बाद बजट पर आम चर्चा होगी। सत्र के दौरान नियंत्रक-महालेखापरीक्षक की 2018-19 और 2019-20 के लिए वित्तीय और विनियोग खातों के साथ-साथ 2019-20 और 2020-21 के लिए रिपोर्ट भी पेश की जाएगी। एजेंसी को लगभग 66.56 करोड़ रुपये की राशि 1,875 रुपये प्रति क्विंटल की दर से व्यवहार्यता अंतर निधि प्रदान करने का भी निर्णय लिया गया।


LIC निवेशकों को झटका, 1.2 लाख करोड़ रुपये का नुकसान

भारतीय जीवन बीमा निगम के शेयर एक्सचेंज लिस्टिंग के बाद से ही गिर रहे हैं। लिहाजा जिन निवेशकों ने आईपीओ में अपना पैसा लगाया था, उनके पोर्टफोलियो में भारी विमूल्यन का सामना करना पड़ा है। सरकार ने अपनी 3.5 फीसदी हिस्सेदारी आईपीओ के जरिए बेची थी। आईपीओ में एलआईसी का मूल्य 6 लाख करोड़ रुपये था। रिपोर्ट लिखने के समय, कंपनी का बाजार पूंजीकरण लगभग 4.8 लाख करोड़ रुपये था, जिसका मतलब है कि निवेशकों को हाल ही में 1.2 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है।

बहुप्रतीक्षित एलआईसी के शेयरों ने 17 मई को स्टॉक एक्सचेंजों में कमजोर लिस्टिंग की। यह स्टॉक एक्सचेंजों पर 8.62 प्रतिशत की छूट पर 867 रुपये पर सूचीबद्ध हुआ, जो कि आईपीओ के 949 रुपये के मूल्य से था। अब शेयर की कीमत 756 रुपये के अपने सर्वकालिक निचले स्तर पर है, जो इसके निर्गम मूल्य से 20 प्रतिशत से थोड़ा अधिक की गिरावट है।

किरण मजूमदार शॉ ने बेंगलुरु में सड़कों की खराब हालत का मुद्दा उठाया

भारत की सिलिकॉन वैली कहे जाने वाले बेंगलुरु शहर में खराब बुनियादी ढांचे, खासकर सड़कों की बदहाली पर बहस एक बार फिर सामने आ गई है। बायोकॉन की प्रमुख किरण मजूमदार-शॉ के एक ट्वीट के बाद कर्नाटक में इस मुद्दे को लेकर बहस छिड़ गई है। उन्होंने ट्वीट किया, "हस्कर-सरजापुर रोड की खराब स्थिति पर अनेकल तालुक और हुस्कर ग्राम पंचायत के हमारे विधायक, पंचायत और सांसद की जिम्मेदारी की पूरी कमी से निराश और नाराज हूं। सरकार बिना सड़क के बस डिपो और क्वार्टर क्यों बनवाती है?"

उन्होंने कर्नाटक सरकार को घेरते हुए कहा, "सभी स्थानीय राजनेताओं पर शर्म आती है।" बेंगलुरु में लगातार हो रही बारिश ने वाहन मालिकों और राहगीरों का जीना मुहाल कर दिया है। विभिन्न नागरिक कार्यों के लिए खोदी गई मुख्य सड़कों की मरम्मत नहीं की जा रही है। बेंगलुरु में गड्ढों के कारण हादसों में कई लोगों की मौत हो गई, जिससे लोगों में आक्रोश फैल गया। किरण मजूमदार-शॉ ने पहले भी बेंगलुरु की सड़कों की दयनीय स्थिति के बारे में बात की थी।


रिकॉर्ड नीचे गिरा पाकिस्तानी रुपया, एक डॉलर के मुकाबले 205 पर पहुंचा

पाकिस्तान के फॉरेक्स एशोसिएशन के आंकड़ों के अनुसार पाकिस्तानी रुपये में मंगलवार को ओपन मार्केट में 4 पीकेआर की गिरावट हुई, जिसके बाद यह अमेरिकी डॉलर के मुकाबले इतिहास में पहली बार 205 के निचले स्तर तक पहुंच गया है। इस बीच, आयात भुगतानों के कारण ग्रीनबैक की बढ़ती मांग पर इंट्राडे व्यापार के दौरान बाजार में इसने अमेरिकी डॉलर के मुकाबले अपनी गिरावट जारी रखी, जो अब तक के सबसे निचले स्तर 202.75 रुपये पर आ गया।

जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, स्थानीय मुद्रा में गिरावट में बढ़ोतरी हुई, क्योंकि आयात मांग के कारण रुपये की मांग इसकी आपूर्ति की तुलना में अधिक है, जो तेल भुगतान के कारण बढ़ी है। जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, आरिफ हबीब लिमिटेड ब्रोकरेज फर्म के एक विश्लेषक ताहिर अब्बास ने कहा कि तेल भुगतान लंबित होने और अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की बढ़ती कीमतों के कारण पाकिस्तानी मुद्रा दबाव में है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia