अर्थजगत की खबरें: जोमैटो ने कर्मचारियों को 1 रुपये में दिए करोड़ों शेयर, ऑस्ट्रेलिया में चरम पर पहुंची महंगाई

पेटीएम मॉल ने दो साल पहले 34 लाख से अधिक यूजर्स के निजी डेटा उल्लंघन के खुलासे पर सफाई देते हुए कहा है कि उसके यूजर्स का डेटा 'पूरी तरह से सुरक्षित' है। देश के बैंकों, बीमा कंपनियों और म्यूचुअल फंड के पास दावा नहीं करने के कारण 70,000 करोड़ रुपये पड़े हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

जोमैटो ने कर्मचारियों को एक रुपये में दिए शेयर, 200 करोड़ रुपये के शेयर बांटे

दलाल स्ट्रीट में अपने सबसे खराब दौर से गुजर रही ऑनलाइन फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म जोमैटो ने अपने कर्मचारियों को अपने कर्मचारी स्टॉक विकल्प योजना (ईएसओपी) पूल से लगभग 4.66 करोड़ शेयर 1 रुपये के अंकित मूल्य पर आवंटित किए हैं। स्टॉक एक्सचेंजों के साथ फाइलिंग के अनुसार, निदेशक मंडल ने निहित स्टॉक विकल्पों के प्रयोग पर कर्मचारियों को 4,65,51,600 इक्विटी शेयरों के आवंटन को मंजूरी दी है। पूरा आवंटन करीब 200 करोड़ रुपये का है। जोमैटो के शेयर की कीमत बुधवार को 43 रुपये के आसपास थी।

कंपनी ने अपने नोट में कहा, "हम आपको सूचित करना चाहते हैं कि कंपनी के निदेशक मंडल की नामांकन और पारिश्रमिक समिति ने 25 जुलाई 2022 को हुई बैठक में 4,65,51,600 इक्विटी शेयरों के आवंटन को मंजूरी दे दी है, जिनमें निहित विकल्पों के प्रयोग पर कंपनी और उसकी सहायक कंपनियों के पहचाने गए कर्मचारियों को पूरी तरह से भुगतान के रूप में प्रत्येक का अंकित मूल्य 1 रुपये है।" कर्मचारियों को फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म का कुल शेयर आवंटन 792.02 करोड़ शेयर है।

स्टॉक आवंटन के रूप में जोमैटो के शेयर की कीमत सोमवार को 11 प्रतिशत से अधिक और 7 प्रतिशत से अधिक मंगलवार को 43.05 रुपये के सर्वकालिक निचले स्तर पर पहुंच गई, जिससे 89,000 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हो गया।

ऑस्ट्रेलिया में 21 साल के उच्चतम स्तर पर महंगाई

ऑस्ट्रेलिया में मंहगाई 21 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। यहां उपभोक्ता हर चीज के लिए अधिक भुगतान कर रहे हैं। ऑस्ट्रेलियन ब्यूरो ऑफ स्टैटिस्टिक्स (एबीएस) द्वारा बुधवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, उपभोक्ता मूल्य सूचकांक जून तिमाही में 1.8 फीसदी और पिछले 12 महीनों में 6.1 फीसदी बढ़ा। समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, यह 2001 के बाद से उच्चतम आंकड़ा है और 2000 में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू होने के बाद से दूसरी सबसे बड़ी तिमाही वृद्धि है।

मोटर वाहन ईंधन की कीमतों में जून के 12 महीनों में 32.1 प्रतिशत और नए घरों की कीमत में 20.3 प्रतिशत की वृद्धि हुई। एबीएस में प्राइस स्टैटिस्टिक्स के प्रमुख मिशेल माक्र्वार्ड ने कहा, "निर्माण की आपूर्ति और श्रम की कमी, उच्च माल ढुलाई लागत और निर्माण गतिविधि के उच्च स्तर ने नवनिर्मित आवासों के लिए मूल्यवृद्धि में योगदान देना जारी रखा। सीपीआई की ऑटोमोटिव ईंधन श्रृंखला लगातार चौथी तिमाही में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई। ईंधन उत्पाद शुल्क में कटौती के कारण अप्रैल में गिरावट के बाद मई और जून में ईंधन की कीमतों में जोरदार वृद्धि हुई।"


पेटीएम मॉल ने 34 लाख यूजर्स के डेटा के उल्लंघन पर दी सफाई

साइबर-सुरक्षा कंपनी फायरफॉक्स मॉनिटर ने दावा किया है कि पेटीएम मॉल को दो साल पहले बड़े पैमाने पर निजी डेटा उल्लंघन का सामना करना पड़ा था। उसने 3.4 मिलियन (34 लाख) से अधिक यूजर्स के डेटा को उजागर किया है। जवाब में डिजिटल पेमेंट लीडर ने बुधवार को कहा कि उसके यूजर्स का डेटा 'पूरी तरह से सुरक्षित' है। पेटीएम मॉल के प्रवक्ता ने एक बयान में कहा कि 'हमारे यूजर्स का डेटा पूरी तरह से सुरक्षित है' और 'वर्ष 2020 में डेटा लीक से संबंधित दावे पूरी तरह से झूठे और निराधार हैं।'

कंपनी के प्रवक्ता ने कहा, "मंच पर अपलोड किया गया एक नकली डंप लिंक फायरफॉक्स ब्राउजर पर डेटा उल्लंघन के बारे में गलत चेतावनी देता है। हम मामले को हल करने के लिए फायरफॉक्स और प्लेटफॉर्म से संपर्क कर रहे हैं।" लोकप्रिय वेब ब्राउजर मोजिला के एक सुरक्षा ट्रैकर फायरफॉक्स मॉनिटर के अनुसार, 30 अगस्त, 2020 को पेटीएम मॉल का उल्लंघन किया गया था। रिपोर्ट के अनुसार, छेड़छाड़ किए गए डेटा में फोन नंबर, ईमेल पते, जन्म तिथि, लिंग, भौगोलिक स्थान, आय स्तर, लगभग 3.4 मिलियन यूजर्स के नाम और खरीदारी शामिल हैं।

दावेदार नहीं होने से बैंकों, बीमा कंपनियों के पास पड़े हैं 70,000 करोड़ रुपये

देश के विभिन्न बैंकों, बीमा कंपनियों और म्यूचुअल फंडों के पास जमाकर्ताओं/कानूनी वारिसों/नामितियों द्वारा दावा नहीं की गई राशि के रूप में 70,000 करोड़ रुपये पड़े हैं। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की एक रिपोर्ट के अनुसार, बैंकों के मामले में, वित्त वर्ष 22 के अंत में दावा नहीं की गई राशि 48,200 करोड़ रुपये से अधिक है। रिपोर्ट के अनुसार, बैंकों में लावारिस जमा- डिपोजिट्स-एसबी/सीए/फिक्स्ड, 10 वर्षो के लिए दावा नहीं किया गया, पिछले साल 48,200 करोड़ रुपये से अधिक था, जो 2021 में लगभग 39,200 करोड़ रुपये और 2020 में लगभग 24,000 करोड़ रुपये था।

भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) के मामले में, दावा न की गई राशि लगभग 21,000 करोड़ रुपये से अधिक है। बैंक 10 वर्षो के लिए अपने व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए इस लगभग मुफ्त फ्लोट का खुशी-खुशी उपयोग करते हैं, जिसके बाद इसे आरबीआई द्वारा बनाए गए जमाकर्ता शिक्षा और जागरूकता कोष (डीईएएफ) में स्थानांतरित कर दिया जाता है। आरबीआई के अनुसार, कानूनी उत्तराधिकारी/नामित बैंक की वेबसाइट पर दावा न की गई राशि का पता लगा सकते हैं, कुछ सरल डेटा में फीड कर सकते हैं और शेष राशि का दावा कर सकते हैं।


गूगल यूट्यूब शॉर्ट्स का कर रहा मुद्रीकरण, शुरुआती परिणाम उत्साहजनक

गूगल के स्वामित्व वाली यूट्यूब शॉर्ट्स तेजी से पकड़ बना रही है और कंपनी ने शॉर्ट-वीडियो मेकिंग प्लेटफॉर्म पर अपने शुरुआती मुद्रीकरण प्रयासों में उत्साहजनक परिणाम देखे हैं। अल्फाबेट (गूगल की मूल कंपनी) के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट और चीफ बिजनेस ऑफिसर फिलिप शिंडलर ने कहा कि यूजर्स शॉर्ट-फॉर्म वीडियो खूब देख रहे हैं और वे इसे यूट्यूब सहित कई प्लेटफॉर्म पर देख रहे हैं।

मंगलवार को विश्लेषकों के साथ एक कॉल के दौरान शिंडलर ने कहा, "हम यूट्यूब पर अच्छा उपयोगकर्ता जुड़ाव देख रहे हैं। शॉर्ट्स के मुद्रीकरण के शुरुआती परिणाम भी उत्साहजनक हैं और हम यहां के अवसरों को लेकर उत्साहित हैं।" उन्होंने कहा, "हम अवसर के बारे में उत्साहित हैं।"

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;