अर्थ जगत: निफ्टी लुढ़का, अधिकांश सेक्टर लाल निशान में हुए बंद और सितंबर में भारत का कारखाना उत्पादन में कमी

निफ्टी ने कमजोर एशियाई समकक्षों के साथ सप्ताह की शुरुआत 19,630 पर धीमी गति से की। भारत के विनिर्माण क्षेत्र ने अगस्त की तुलना में सितंबर के दौरान विकास में हल्की मंदी दर्ज की है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

निफ्टी लुढ़का, अधिकांश सेक्टर लाल निशान में हुए बंद

निफ्टी ने कमजोर एशियाई समकक्षों के साथ सप्ताह की शुरुआत 19,630 पर धीमी गति से की। प्रोग्रेसिव शेयर्स के निदेशक आदित्य गग्गर ने कहा कि दिन के दौरान, रिकवरी का प्रयास देखा गया लेकिन ये टिक नहीं पाया और निफ्टी 109.55 अंकों की गिरावट के साथ 19,528.75 पर बंद हुआ।

पीएसयू बैंकिंग का प्रदर्शन सबसे अच्छा रहा, इसके बाद मीडिया का स्थान रहा। एनर्जी और ऑटो प्रमुख पिछड़े हुए थे। उन्होंने कहा कि मिड और स्मॉल कैप सूचकांकों ने फ्रंटलाइन इंडेक्स से बेहतर प्रदर्शन किया। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि बढ़ती अमेरिकी बॉन्ड यील्ड और डॉलर इंडेक्स का असर जारी रहा, जिसने एफआईआई को फंड खींचने के लिए प्रेरित किया।

तेल की कीमतों में नरमी से गिरावट में थोड़ी राहत मिल सकती है। उन्होंने कहा कि बुनियादी ढांचे की गतिविधियों में मुख्य क्षेत्र के उत्पादन में वृद्धि के कारण तेजी का संकेत मिलता है।

स्विगी ने 8,000 रेस्तरां मालिकों को 450 करोड़ रुपये से ज्यादा का दिया लोन

फोटो: IANS
फोटो: IANS

ऑनलाइन फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म स्विगी ने मंगलवार को कहा कि उसने अपने कैपिटल असिस्ट प्रोग्राम के तहत 8,000 से ज्यादा रेस्तरां मालिकों को 450 करोड़ रुपये से ज्यादा का लोन दिया है। 2017 में लॉन्च किया गया 'कैपिटल असिस्ट प्रोग्राम' फर्स्ट-इन-सेगमेंट सॉल्यूशन है, जिसे फाइनेंसिंग गैप को कम करने और रेस्तरां मालिकों को सशक्त बनाने के लिए डिजाइन किया गया है।

कंपनी ने एक बयान में कहा कि अब तक 8,000 से अधिक रेस्तरां ने लोन लिया है, जिनमें से 3,000 ने 2022 में लोन लिया है। इंडिफी, इनक्रेड, एफटी कैश, पेयू फाइनेंस और आईआईएफएल सहित कई लोन देने वाले पार्टनर्स के साथ साझेदारी करके, स्विगी टर्म लोन और क्रेडिट लाइन जैसे फाइनेंशियल सॉल्यूशन प्रदान करता है।


सितंबर में भारत का कारखाना उत्पादन थोड़ा कम, लेकिन मजबूत : एसएंडपी रिपोर्ट

फोटो: IANS
फोटो: IANS

भारत के विनिर्माण क्षेत्र ने अगस्त की तुलना में सितंबर के दौरान विकास में हल्की मंदी दर्ज की है, लेकिन एसएंडपी के अनुसार, उत्पादन, इनपुट खरीद और रोजगार में निरंतर विस्तार के कारण नए ऑर्डरों में तेज वृद्धि के कारण यह अभी भी मजबूत बना हुआ है। मंगलवार को जारी वैश्विक पीएमआई रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई।

एसएंडपी ग्लोबल इंडिया मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (पीएमआई) सितंबर में 57.5 दर्ज किया गया, जो अगस्त में 58.6 था। रिपोर्ट में कहा गया है कि हालांकि पांच महीनों में सबसे कम, नवीनतम रीडिंग 50.0 के बिना किसी बदलाव के निशान और इसके दीर्घकालिक औसत (53.9) से ऊपर बनी हुई है, इसलिए यह विस्तार की तेज दर का संकेत है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि आपूर्ति-श्रृंखला की स्थिति मोटे तौर पर स्थिर थी, एक उत्साहित व्यापारिक विश्वास और बढ़ती मांग ने फैक्ट्री गेट शुल्क में तेज वृद्धि की सुविधा प्रदान की।

विश्व बैंक ने भारत की सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर 6.3 प्रतिशत रहने का लगाया अनुमान

फोटो: IANS
फोटो: IANS

विश्व बैंक ने 2023-24 के लिए भारत की सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर 6.3 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया है। विश्व बैंक ने मंगलवार को जारी अपनी इंडिया डेवलपमेंट रिपोर्ट में कहा गया है कि सेवा क्षेत्र की गतिविधि 7.4 प्रतिशत की वृद्धि के साथ मजबूत रहने की उम्मीद है और निवेश वृद्धि भी 8.9 प्रतिशत पर मजबूत रहने का अनुमान है।

विश्व बैंक के अनुसार, चुनौतीपूर्ण वैश्विक माहौल की पृष्ठभूमि में भारत लगातार लचीलापन दिखा रहा है। भारतीय अर्थव्यवस्था पर बैंक की प्रमुख अर्धवार्षिक रिपोर्ट का मानना है कि वैश्विक चुनौतियों के बावजूद, भारत वित्त वर्ष 2012/23 में 7.2 प्रतिशत के साथ सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। भारत की विकास दर जी20 देशों में दूसरी सबसे अधिक और उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं के औसत से लगभग दोगुनी है।


डंज़ो के एक और सह-संस्थापक ने की कंपनी छोड़ने की तैयारी

फोटो: IANS
फोटो: IANS

नकदी की कमी से जूझ रहे त्वरित-किराना डिलीवरी प्रदाता डंज़ो के सह-संस्थापक मुकुंद झा ने भी सह-संस्थापक दलवीर सूरी के बाद अब कंपनी छोड़ने का फैसला कर लिया है। कंपनी को वेतन में देरी और आसन्न छंटनी के बीच गंभीर नकदी संकट का सामना करना पड़ रहा है।

द मॉर्निंग कॉन्टेक्स्ट के अनुसार, झा 1 सितंबर को डंज़ो के बोर्ड से बाहर हो गए। हालांकि, डंज़ो के प्रवक्ता ने न तो इस खबर की पुष्टि की और न ही खंडन किया। उन्होंने कहा कि "मुकुंद डंज़ो की नेतृत्व टीम का अभिन्न अंग बने हुए हैं"। प्रवक्ता ने कहा, "हालांकि हम संगठन का पुनर्गठन कर रहे हैं। मुकुंद डंज़ो के भविष्य के रोडमैप का मार्गदर्शन और निर्देशन करने वाली रणनीतिक नेतृत्व टीम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बने रहेंगे।" झा के डंज़ो से आगे बढ़ने की खबर कंपनी के सह-संस्थापक सूरी के प्रस्थान की पुष्टि के एक दिन बाद आई।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;