मोदी सरकार के बजट से बाजार में निराशा, दो दिन में डूब गए 5 लाख करोड़ रुपए, शेयर मार्केट धड़ाम

सोमवार दोपहर शेयर मार्केट में करीब 900 अंकों की गिरावट देखने को मिली। बाजार में साल की यह सबसे बड़ी इंट्रा-डे गिरावट है। बाजार में इतनी बड़ी गिरावट से निवेशकों को एक झटके में 3,20 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का झटका लगा है। निवेशकों को दो दिन में करीब 5 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले बजट के बाद शेयर मार्केट में बड़ी गिरावट देखने को मिली है। सोमवार दोपहर शेयर मार्केट में करीब 900 अंकों की गिरावट देखने को मिली। बाजार में साल की यह सबसे बड़ी इंट्रा-डे गिरावट है। बाजार में इतनी बड़ी गिरावट से निवेशकों को एक झटके में 3,20 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का झटका लगा है। निवेशकों को दो दिन में करीब 5 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है।

सोमवार को सुबह से ही शेयर मार्केट में गिरावट देखने को मिल रही है। पहले घरेलू शेयर बाजार में बिकवाली के भारी दबाव में सोमवार को बेंचमार्क शेयर संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 500 अंक से ज्यादा लुढ़क गया था। एनएसई का प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी में भी शुरुआती कारोबार में 1.31 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। बंबई स्टॉक एक्सचेंज के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पूर्वाह्न् 11.45 बजे पिछले सत्र से 581.21 अंकों यानी 1.30 फीसदी लुढ़ककर 38,932.18 पर कारोबार कर रहा था। इससे पहले सेंसेक्स 39,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे गिरकर 38,999.50 पर आ गया जबकि सत्र के आरंभ में सेंसेक्स मामूली गिरावट के साथ 39,476.38 पर खुला था।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी भी 186.85 अंकों यानी 1.56 फीसदी की भारी गिरावट के साथ 11,624.30 पर कारोबार कर रहा था जबकि इससे पहले निफ्टी 11,647.75 तक लुढ़का। सत्र के आरंभ में निफ्टी भी पिछले सत्र मुकाबले कमजोरी के साथ 11,770.40 पर खुला और 11,771.90 तक उठा मगर, बिकवाली का दबाव बढ़ने के कारण सूचकांक लुढ़क गया।

अमेरिका में पिछले सप्ताह जॉब डॉटा मजबूत आने से अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दर में कटौती की संभावना कम होने से एशिया बाजारों में नकरात्मक रुझान रहा। इसके अलावा, पिछले सप्ताह शुक्रवार को संसद में पेश किए गए आम बजट 2019-20 के प्रावधानों को लेकर निवेशकों में असमंजस की स्थिति बरकरार है, जिससे शेयर बाजार में नकारात्मक रुझान देखने को मिला।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Published: 8 Jul 2019, 2:49 PM
लोकप्रिय