नकली क्रिप्टो एक्सचेंज से भारतीय निवेशकों को हजार करोड़ रुपये का नुकसान, जाल बिछाकर किया जा रहा क्रिप्टो घोटाला

जैसे ही निवेशक क्रिप्टो बाजार पर अपना ध्यान केंद्रित करते हैं, स्कैमर और धोखेबाज भी उनका ध्यान अपनी ओर आकर्षित करते हैं। थ्रेट एक्टर्स पहले नकली डोमेन बनाते हैं जो वैध क्रिप्टो ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का प्रतिरूपण करते हैं और फिर निवेशक को झांसे में लेते हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

नकली क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंजों से वैश्विक क्रिप्टो बाजार टैंक के रूप में भारतीय निवेशकों को 128 मिलियन डॉलर यानी करीब 1,000 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हुआ है। मंगलवार को एक नई रिपोर्ट में इसका दावा किया गया है। साइबर-सुरक्षा कंपनी क्लाउड एसईके ने कहा कि उसने कई फिशिंग डोमेन और एंड्रॉइड-आधारित नकली क्रिप्टो एप्लिकेशन से जुड़े एक ऑपरेशन का खुलासा किया है।

क्लाउड एसईके को एक पीड़ित ने संपर्क किया था, जिसने इस तरह के एक क्रिप्टोकरेंसी घोटाले में कथित तौर पर साथ ही जमा राशि, कर इत्यादि जैसी अन्य लागतों के अलावा 50 लाख रुपये (64,000 डॉलर) खो दिए थे। क्लाउड एसईके के संस्थापक और सीईओ राहुल ससी ने कहा, "हमारा अनुमान है कि धमकी देने वाले एक्टरों ने इस तरह के क्रिप्टो घोटालों के माध्यम से पीड़ितों को 128 मिलियन डॉलर (लगभग 1,000 करोड़ रुपये) तक का चूना लगाया है।"

ससी ने कहा, "जैसे ही निवेशक क्रिप्टोकरेंसी बाजारों पर अपना ध्यान केंद्रित करते हैं, स्कैमर और धोखेबाज भी उनका ध्यान अपनी ओर आकर्षित करते हैं।" थ्रेट एक्टर्स पहले नकली डोमेन बनाते हैं जो वैध क्रिप्टो ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का प्रतिरूपण करते हैं। साइटों को आधिकारिक वेबसाइट के डैशबोर्ड और उपयोगकर्ता अनुभव को दोहराने के लिए डिजाइन किया गया है।

फिर हमलावर संभावित पीड़ित से संपर्क करने और दोस्ती स्थापित करने के लिए सोशल मीडिया पर एक महिला प्रोफाइल बनाते हैं। प्रोफाइल पीड़ित को क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने और व्यापार शुरू करने के लिए प्रभावित करती है। रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है, "प्रोफाइल एक विशेष क्रिप्टो एक्सचेंज को उपहार के रूप में 100 डॉलर का क्रेडिट भी साझा करता है, जो इस मामले में एक वैध क्रिप्टो एक्सचेंज का डुप्लिकेट है।"


पीड़ित शुरू में एक महत्वपूर्ण लाभ कमाता है, जो मंच और धमकी देने वाले में उनके विश्वास को बढ़ाता है। पीड़ित के लाभ कमाने के बाद, स्कैमर उन्हें बेहतर रिटर्न का वादा करते हुए अधिक राशि का निवेश करने के लिए मना लेता है। एक बार जब पीड़ित नकली एक्सचेंज में अपना पैसा जोड़ता है, तो धमकी देने वाला उनके खाते को फ्रीज कर देता है, यह सुनिश्चित करता है कि पीड़ित अपना निवेश वापस नहीं ले सकता है और पीड़ित के पैसे गायब हो जाते हैं।जब पीड़ित अपने खातों तक पहुंच खोने की शिकायत करने के लिए विभिन्न प्लेटफार्मों पर जाता है, तो वही, या नए धमकी देने वाले जांचकर्ताओं की आड़ में उसके पास पहुंचते हैं।

रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि, "जमी हुई संपत्तियों को पुन: प्राप्त करने के लिए, वे पीड़ितों से ईमेल के माध्यम से गोपनीय जानकारी जैसे आईडी कार्ड और बैंक विवरण प्रदान करने का अनुरोध करते हैं। इन विवरणों का उपयोग अन्य नापाक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए किया जाता है।" ससी ने कहा, "लंबी अवधि में, क्रिप्टो एक्सचेंजों, इंटरनेट सेवा प्रदाताओं (आईएसपी), और साइबर अपराध कोशिकाओं के बीच सहयोग के लिए जागरूकता बढ़ाने और खतरे वाले समूहों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए जरूरी है।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia