यूक्रेन संकट के बीच भारत में बढ़ेगी महंगाई! डॉलर के मुकाबले रुपए में आई रिकॉर्ड गिरावट

यूक्रेन संकट ने सोमवार को ब्रेंट कच्चे तेल की कीमत को 130 डॉलर प्रति बैरल पर धकेल दिया। इसके अलावा, इस प्रवृत्ति से मुद्रास्फीति की प्रवृत्ति और अंतत: मौद्रिक नीति में उलटफेर की उम्मीद है। इसके अलावा, इसने भारतीय इक्विटी बाजार में एफआईआई की बिक्री में तेजी लाई है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

कमोडिटी की ऊंची कीमतों के साथ-साथ इक्विटी बाजारों से विदेशी फंडों के परिणाम ने भारतीय रुपये को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले एक नए रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंचा दिया। तदनुसार, रूस-यूक्रेन युद्ध से उत्पन्न अन्य वस्तुओं के साथ कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों ने रुपये पर कमजोर दबाव बनाए रखा।

यूक्रेन संकट ने सोमवार को ब्रेंट कच्चे तेल की कीमत को 130 डॉलर प्रति बैरल पर धकेल दिया। इसके अलावा, इस प्रवृत्ति से मुद्रास्फीति की प्रवृत्ति और अंतत: मौद्रिक नीति में उलटफेर की उम्मीद है। इसके अलावा, इसने भारतीय इक्विटी बाजार में एफआईआई की बिक्री में तेजी लाई है।

नतीजतन, भारतीय रुपया सोमवार के व्यापार सत्र में 77.02 डॉलर के नए रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गया।

आईआईएफएल सिक्योरिटीज वीपी, रिसर्च, अनुज गुप्ता ने कहा, "उच्च मुद्रास्फीति, कच्चे तेल और कमोडिटी की कीमतों में बढ़ोतरी के साथ-साथ इक्विटी बाजार से एफआईआई का आउटफ्लो रुपये की गिरावट के प्रमुख कारण हैं। उन्होंने कहा, "हमें उम्मीद है कि यह 77.50 से 78 के स्तर का परीक्षण करेगा।"

कैपिटल वाया ग्लोबल रिसर्च : लीड कमोडिटीज एंड करेंसीज, क्षितिज पुरोहित के अनुसार, "भारत का पारंपरिक रूप से गैर-हस्तक्षेपवादी केंद्रीय बैंक यूक्रेन संघर्ष की शुरूआत के बाद से एशिया की सबसे खराब प्रदर्शन करने वाली मुद्रा के और गिरावट की अनुमति दे सकता है, इस उम्मीद में कि कमजोर रुपया निर्यात प्रतिस्पर्धात्मकता को बढ़ाएगा और तेल की बढ़ती कीमतों के कारण संभावित रूप से बढ़ते अंतराल में सहायता करें।"


उन्होंने कहा, "डॉलर के मुकाबले रुपया एक और 1 फीसदी टूट गया है और 76.87 पर कारोबार कर रहा है, इसने सुबह 77.08 का उच्च स्तर बनाया।"

इसके अलावा, एचडीएफसी सिक्योरिटीज के रिटेल रिसर्च के उप प्रमुख, देवर्ष वकील ने कहा, "कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के कारण उच्च व्यापार घाटे की बढ़ती चिंताओं पर भारतीय रुपया कमजोर हुआ। भावनाओं पर बिगड़ते जोखिम के परिणामस्वरूप अपेक्षित बड़े आईपीओ फंड के स्थगित होने की संभावना है।" इक्विटी बाजारों में लगातार एफपीआई बिकवाली से भी भारतीय करेंसी पर दबाव पड़ रहा है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia