दुनिया की 5 बड़ी खबरें: जिंदा है या मर गया हिबतुल्ला अखुंदजादा? सामने आई सच्चाई और कैमरून हमले में 3 सैनिकों की मौत

तालिबान की अफगानिस्तान में सत्ता वापसी के बाद से ही आंदोलन के सुप्रीम लीडर हिबतुल्ला अखुंदजादा के ठिकाने के बारे में किसी को जानकारी नहीं है और कैमरून के उत्तर-पश्चिम के अशांत एंग्लोफोन क्षेत्र में एक सैन्य चौकी पर हुए हमले में तीन सैनिकों की मौत हो गई

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

मारा गया तालिबान के सुप्रीम लीडर हिबतुल्ला अखुंदजादा?

तालिबान की अफगानिस्तान में सत्ता वापसी के बाद से ही आंदोलन के सुप्रीम लीडर हिबतुल्ला अखुंदजादा के ठिकाने के बारे में किसी को जानकारी नहीं है।अभी तक अखुंदजादा दुनिया के सामने नहीं आया है। तालिबान का नेता मर चुका है या जिंदा है, इसके बारे में अफगान लोगों को कोई जानकारी नहीं है। यहां तक कि तालिबान को लेकर जानकारी रखने वाले विश्लेषकों को भी इस बारे में संदेह है कि वास्तव में तालिबान का नेतृत्व कौन कर रहा है। ऐसे में समाचार एजेंसी एएफपी ने अखुंदजादा का पता लगाने की कोशिश की है। 30 अक्टूबर को इस बात की अफवाह उड़ी कि अखुंदजादा ने दक्षिण शहर कंधार में एक मदरसे को संबोधित किया है।तालिबान अधिकारियों ने हकीमिया मदरसे में सुप्रीम लीडर की मौजूदगी को प्रामाणिकता की मुहर दी।10 मिनट से अधिक समय तक चलने वाली एक ऑडियो रिकॉर्डिंग जारी की गई।अखुंदजादा ने इस ऑडियो में कहा, ‘ऊपर वाला अफगानिस्तान के उत्पीड़ित लोगों को पुरस्कृत करे जिन्होंने काफिरों और उत्पीड़कों से 20 साल तक लड़ाई लड़ी.’ वहीं, अब हकीमिया मदरसे के बाहर तालिबान लड़ाके मौजूद हैं और अब लोग यहां पहुंचने लगे हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

कैमरून : अलगाववादी हमले में 3 सैनिक मारे गए

कैमरून के उत्तर-पश्चिम के अशांत एंग्लोफोन क्षेत्र में एक सैन्य चौकी पर हुए हमले में तीन सैनिकों की मौत हो गई और अन्य घायल हो गए। अलगाववादी नेताओं ने सोशल मीडिया पर कहा कि उनके लड़ाकों ने शुक्रवार को स्थानीय समयानुसार सुबह 7.25 बजे क्षेत्र के एक इलाके जाकिरी में हमले को अंजाम दिया। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, अलगाववादी मिलिशिया द्वारा दर्ज किए गए हताहतों की कोई जानकारी नहीं है। हमले के बारे में जानकारी रखने वाले एक सैन्य अधिकारी ने सिन्हुआ को बताया, "आतंकवादियों ने जकीरी बाजार के अंदर मुख्य सुरक्षा चौकी पर घात लगाकर हमला किया और सैनिकों को मार डाला। हमने आतंकवादियों और अपराधियों को पकड़ने के लिए एक तलाश शुरू की है।"

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

मध्य माली में आतंकवादी हमले में दर्जनों लोगों की मौत

मध्य माली में सेवरे और बांदियागरा के बीच एक छोटे से शहर सोंगो गारे में हुए एक आतंकवादी हमले में दर्जनों लोगों की जान चली गई। एक स्थानीय अधिकारी और चश्मदीदों ने यह जानकारी दी। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, चश्मदीदों ने बताया कि आतंकवादियों ने बंदियागरा मेले की ओर जा रही एक बस पर हमला किया। नाम न छापने की शर्त पर शुक्रवार को एक स्थानीय अधिकारी ने कहा, "वाहन में आग लगा दी गई, जिसमें कम से कम 33 लोगों की जान चली गई।" उन्होंने कहा, "आतंकवादियों ने वाहन पर हमला किया, जिन्होंने वाहन को बंद करने से पहले चालक की हत्या कर दी और उसमें सवार यात्रियों के साथ गाड़ी में आग लगा दी।" समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, चश्मदीदों ने सात घायलों, चार गंभीर रूप से घायल और दर्जनों लोगों के लापता होने की भी पुष्टि की है। घातक हमले के बारे में मालियान सरकार ने अभी तक कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया है। बांदियागरा शहर से लगभग 10 किमी दूर स्थित, माली के इस हिस्से को देश के बाकी हिस्सों से काटने के लिए यहां आतंकवादियों द्वारा अक्सर तोड़फोड़ किया जाता है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

वाशिंगटन में पाकिस्तान दूतावास में वेतन देने के लिए धन की कमी

वाशिंगटन में पाकिस्तान दूतावास के पास अपने कुछ कर्मचारियों को कम से कम चार महीने के वेतन का भुगतान करने के लिए धन की कमी हो गई थी, हालांकि पाकिस्तानी राजदूत की सक्रिय भागीदारी ने उन्हें बचा लिया। द न्यूज की रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई। पाकिस्तानी दूतावास के स्थानीय रूप से भर्ती किए गए संविदा कर्मचारियों में से कम से कम पांच को अगस्त 2021 से अपने मासिक वेतन के भुगतान में देरी और गैर-भुगतान का सामना करना पड़ा।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पांच प्रभावितों में से एक कर्मचारी, जो पिछले दस वर्षों से दूतावास में काम कर रहा था, उन्होंने देरी और भुगतान न होने के कारण सितंबर में इस्तीफा दे दिया। इन अवैतनिक स्थानीय कर्मचारियों को दूतावास द्वारा वार्षिक अनुबंध के आधार पर काम पर रखा गया था और मिशन के लिए बेयर-मिनिमम सैलेरी पर काम किया था, जो प्रति व्यक्ति प्रति माह 2,000 से 2,500 डॉलर तक होता है। स्थानीय कर्मचारियों, चाहे स्थायी हों या संविदात्मक, को स्वास्थ्य लाभ सहित विदेश कार्यालय के कर्मचारियों को मिलने वाले भत्ते और विशेषाधिकार नहीं मिलते हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि घरेलू कर्मचारियों को आमतौर पर 'कॉन्सुलर सेक्शन' की मदद के लिए काम पर रखा जाता है, जो प्रवासी भारतीयों को वीजा, पासपोर्ट, नोटराइजेशन और अन्य कॉन्सुलर सेवाएं प्रदान करता है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

'अमेरिका का तथाकथित 'समिट फॉर डेमोक्रेसी' दुनिया का करेगा ध्रुवीकरण'

अमेरिका के नेतृत्व में तथाकथित 'समिट फॉर डेमोक्रेसी' (लोकतंत्र के लिए शिखर सम्मेलन) लोकतंत्र की मूल भावना के खिलाफ है और यह दुनिया का और ध्रुवीकरण करेगा, जिसके परिणामस्वरूप नए गुटों का उदय होगा। पाकिस्तानी अखबार द न्यूज इंटरनेशनल ने गुरुवार को अपनी एक रिपोर्ट में यह बात कही। 'लोकतंत्र शिखर सम्मेलन, अलोकतांत्रिक प्रथा' शीर्षक वाले लेख में कहा गया है, "यह एक बुरा संकेत है, क्योंकि दुनिया को महामारी, जलवायु परिवर्तन, खाद्य असुरक्षा, पानी और ऊर्जा के मुद्दों से निपटने के लिए सहयोग और संयुक्त प्रयासों की सख्त जरूरत है।"

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने लेख के हवाले से बताया कि अमेरिका ने केवल सीमित संख्या में देशों और समुदायों को शिखर सम्मेलन में आमंत्रित किया है और अन्य प्रणालियों और देशों के बहिष्कार से पता चलता है कि वह विविधता की परवाह नहीं करता है। लोकतंत्र के नाम पर पश्चिमी हस्तक्षेप ने कई देशों को नष्ट कर दिया है, जिससे लाखों लोग भूख से मर रहे हैं और सैकड़ों-हजारों निर्दोष लोग लोकतंत्र की शुरूआत की प्रक्रिया के दौरान मारे गए हैं।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia