नौकरी पर संकट: फैंटेसी ईस्पोर्ट्स स्टार्टअप फैनक्लैश ने 75% कर्मचारियों की छंटनी की, इस प्रतिबंध के बाद लिया फैसला

पिछले साल जुलाई में भारत सरकार द्वारा बैटल रॉयल गेम बैटलग्राउंड्स मोबाइल इंडिया (बीजीएमआई) पर प्रतिबंध लगाने के बाद से कंपनी संघर्ष कर रही है, यही वजह है कि छंटनी हुई।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

होमग्रॉन फैंटेसी ईस्पोर्ट्स स्टार्टअप फैनक्लैश ने अपने लगभग 75 प्रतिशत कर्मचारियों को निकाल दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स में यह जानकारी दी गई है। इंक42 के अनुसार, सूत्रों का हवाला देते हुए, स्टार्टअप ने लगभग 100 कर्मचारियों को तीन राउंड में निकाल दिया, जिससे प्रभावित कर्मचारियों को दो महीने का वेतन विच्छेद पैकेज के रूप में मिला।

पिछले साल जुलाई में भारत सरकार द्वारा बैटल रॉयल गेम बैटलग्राउंड्स मोबाइल इंडिया (बीजीएमआई) पर प्रतिबंध लगाने के बाद से कंपनी संघर्ष कर रही है, यही वजह है कि छंटनी हुई।

इसके अलावा, रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है कि फैनक्लैश अपना अधिकांश राजस्व बीजीएमआई से अर्जित करता था। यह गेम टियर 2 शहरों और उससे आगे के ग्राहकों के बीच लोकप्रिय था।

फैनक्लैश, बीजीएमआई के अलावा, उपयोगकर्ताओं को फ्रीफायर, सीओडी मोबाइल, सीओडी पीसी, वैलोरेंट, सीएस: जीओ, लीग ऑफ लीजेंड्स और डीओटीए 2 जैसे ईस्पोर्ट्स के लिए फैंटेसी खेलने की अनुमति देता है।


हालांकि, क्रिकेट और फुटबॉल प्रशंसकों के विपरीत, ये प्रशंसक फैंटेसी खेलों में सक्रिय रूप से भाग नहीं लेते हैं, यही वजह है कि फैनक्लैश ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की शुरुआत से पहले क्रिकेट में प्रवेश करने का फैसला किया।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि, कर्मचारियों की छंटनी के अलावा, स्टार्टअप ने अपने फैंटेसी वेब3 गेमिंग प्लेटफॉर्म, फैनगिल्ड को भी बंद कर दिया और अपने फैन एंगेजमेंट प्लेटफॉर्म फैनस्पेस के संचालन को रोक दिया।

पिछले साल जून में, फैनक्लैश ने अपने वैश्विक पदचिह्न् का विस्तार करने के लिए सीरीज बी फंडिंग में 40 मिलियन जुटाए थे।

सीरीज बी फंडिंग राउंड का नेतृत्व सिकोइया कैपिटल इंडिया, फाल्कन एज, इंफो एज इंडिया और मैटिक नेटवर्क्‍स ने किया।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;