अर्थजगत की खबरें: क्रिप्टोकरेंसी की और बड़ी कंपनियों पर DGGI का छापा और GST संग्रह दिसंबर में इतने लाख करोड़ के पार

DGGI ने क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज वज़ीरएक्स के यहां छापेमारी की कार्रवाई को अंजाम देने के बाद देश भर में प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी सर्विस प्रोवाइडर्स के दफ्तरों पर छापे मारे हैं और जीएसटी संग्रह दिसंबर 2021 में वार्षिक आधार पर 13 फीसदी बढ़कर 1,29,780 करोड़ रुपये हो गया है।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

GST संग्रह दिसंबर में 13 प्रतिशत बढ़कर 1.29 लाख करोड़ रुपये के पार

भारत का वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) संग्रह दिसंबर 2021 में वार्षिक आधार पर 13 फीसदी बढ़कर 1,29,780 करोड़ रुपये हो गया है। आधिकारिक जानकारी के अनुसार दिसंबर माह के संग्रह में क्रमिक आधार पर गिरावट दर्ज की गई है जो नवंबर में 1,31,526 करोड़ रुपये था। वित्त मंत्रालय ने जारी एक बयान में कहा, दिसंबर 2021 का कर राजस्व पिछले वर्ष की इसी अवधि के जीएसटी राजस्व से 13 प्रतिशत अधिक है और दिसंबर 2019 के जीएसटी राजस्व से 26 प्रतिशत अधिक है। इस माह के दौरान, वस्तुओं के आयात से राजस्व 36 प्रतिशत अधिक रहा और घरेलू लेनदेन (सेवाओं के आयात सहित) से राजस्व पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में इन स्रोतों से राजस्व के लिहाज से 5 प्रतिशत अधिक है। कुल कर संग्रह में 22,578 करोड़ रुपये सीजीएसटी, 28,658 करोड़ रुपये एसजीएसटी, 69,155 करोड़ रुपये आईजीएसटी और 9,389 करोड़ रुपये का उपकर शामिल है। इसके अलावा, केंद्र ने नियमित निपटारा प्रक्रिया के रूप 25,568 करोड़ रुपये सीजीएसटी और 21,102 करोड़ रुपये आईजीएसटी से एसजीएसटी के तौर पर तय किए है। इस निपटारे के फलस्वरूप पिछले महीने केंद्र और राज्यों का कुल राजस्व सीजीएसटी के लिए 48,146 करोड़ रुपये और एसजीएसटी के लिए 49,760 करोड़ रुपये रहा ।

वित्त मंत्रालय के मुताबिक चालू वर्ष की तीसरी तिमाही के लिए औसत मासिक कुल जीएसटी संग्रह 1.30 लाख करोड़ रुपये रहा है, जबकि पहली और दूसरी तिमाही में औसतन मासिक संग्रह क्रमश: 1.10 लाख करोड़ रुपये और 1.15 लाख करोड़ रुपये रहा था। मंत्रालय ने कहा है कि आर्थिक सुधार, कर चोरी निरोधक अभियानों, खास तौर से फर्जी बिल पेश कर रिफंड लेने वालों के खिलाफ कार्रवाई से जीएएसटी कर संग्रह में इजाफा हुआ है। इसके अलावा जीएसटी परिषद की ओर से करों को तर्क संगत बनाने के उपायों से भी राजस्व संग्रह में बढ़ोत्तरी हुई है। यह उम्मीद जताई जा रही है कि राजस्व संग्रह में सकारात्मक रुझान मौजूदा वित्त वर्ष की अंतिम तिमाही में भी जारी रहेगा।

अर्थजगत की खबरें: क्रिप्टोकरेंसी की और बड़ी कंपनियों पर DGGI का छापा और GST संग्रह दिसंबर में इतने लाख करोड़ के पार

भारत में मामाअर्थ की पेरेंट कंपनी होनासा को मिला 2022 का पहला यूनिकॉर्न

डिजिटल-फस्र्ट कंज्यूमर ब्रांड प्लेटफॉर्म होनासा, (जिसके पास मामाअर्थ जैसे पर्सनल केयर ब्रांड हैं) ने शनिवार को कहा कि उसने सिकोइया के नेतृत्व में 5.2 करोड़ डॉलर जुटाए हैं, जो 2022 का पहला भारतीय यूनिकॉर्न बन गया है। नए ब्रांड लॉन्च करने के साथ, होनासा कंज्यूमर प्राइवेट लिमिटेड ने कहा कि वह मौजूदा ब्रांडों - मामाअर्थ और द डर्मा कंपनी के लिए आक्रामक रूप से वितरण का विस्तार करता रहेगा और सौंदर्य और व्यक्तिगत देखभाल को लेकर रणनीतिक अकार्बनिक विकास के अवसरों का पता लगाएगा। होनासा के सह-संस्थापक और सीईओ, वरुण अलघ ने कहा, "हमारे प्रमुख ब्रांड, मामाअर्थ ने गुडनेस इनसाइड के एक मजबूत उद्देश्य के साथ खुद को डी2सी पर्सनल केयर में एक लीडर के रूप में स्थापित किया है। मामाअर्थ के पैमाने और द डर्मा कंपनी की सफलता को देखते हुए, हमें विश्वास है कि हमारे पास ब्रांड बनाने की विशेषज्ञता है।" इस दौर में बेल्जियम स्थित निवेश कंपनी सोफिना वेंचर्स एसए और यूएई स्थित भारत केंद्रित फंड इवॉल्वेंस ने भी भाग लिया। इस दौर ने कर्मचारियों को अपने निहित ईएसओपी का मुद्रीकरण करने का अवसर भी दिया।

सिकोइया इंडिया के एमडी ईशान मित्तल ने कहा, "चूंकि एफएमसीजी ब्रांडों की खोज और खपत डिजिटल चैनलों से अधिक प्रभावित हो रही है, यह संस्थापकों को भविष्य के ब्रांड बनाने का एक अनूठा अवसर प्रदान कर रहा है।" वर्तमान में भारत के 1,000 से अधिक शहरों में सेवा प्रदान करने वाला, होनासा केवल पांच वर्षों में एक अरब डॉलर का पर्सनल केयर हाउस ऑफ ब्रांड्स बन गया है। भारत में यह देखने को मिला है कि कम से कम 42 स्टार्टअप यूनिकॉर्न बन गए हैं (प्रत्येक का बाजार मूल्यांकन 1 अरब डॉलर से अधिक है), जिन्होंने कुल निवेश में 39 अरब डॉलर से अधिक का पंजीकरण कराया था।


अर्थजगत की खबरें: क्रिप्टोकरेंसी की और बड़ी कंपनियों पर DGGI का छापा और GST संग्रह दिसंबर में इतने लाख करोड़ के पार

WazirX के बाद क्रिप्टोकरेंसी की और बड़ी कंपनियों पर DGGI का छापा : रिपोर्ट

DGGI ने क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज वज़ीरएक्स के यहां छापेमारी की कार्रवाई को अंजाम देने के बाद देश भर में प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी सर्विस प्रोवाइडर्स के दफ्तरों पर छापे मारे हैं। यह छापे जीएसटी इंटेलिजेंस अधिकारियों की अगुवाई में मारे गए हैं। समाचार एजेंसी ANI के अनुसार डीजीजीआई ने बड़े पैमाने पर कर चोरी का पता लगाया है। इससे पहले DGGI के अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया था कि विभाग ने करों से बचने के लिए क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज वज़ीरएक्स पर 49.20 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। जीएसटी मुंबई (ईस्ट कमिश्नरेट जोन) ने क्रिप्टोककेंसी एक्सचेंज वज़ीरएक्स की व्यावसायिक गतिविधियों की जांच करते हुए 40।5 करोड़ रुपये की जीएसटी चोरी का पता लगाया। बयान में, एजेंसी ने कहा कि उन्होंने फर्म से 49.20 करोड़ रुपये नकद वसूल किए हैं जिसमें ब्याज और जुर्माना शामिल है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

भारत ने बांग्लादेश को वाराणसी तक अंतर्देशीय जलमार्ग प्रणाली के उपयोग की पेशकश की

बांग्लादेश में भारत के उच्चायुक्त विक्रम दोराईस्वामी ने कहा है कि भारत ने वाराणसी तक अपनी अंतर्देशीय जलमार्ग प्रणाली के उपयोग की पेशकश की है और यह कदम भारत-नेपाल कनेक्टिविटी का उपयोग करके व्यापार में मदद कर सकता है। भारत पहले से ही शून्य अतिरिक्त लागत पर नेपाल के साथ अपने व्यापार के लिए रेल द्वारा बांग्लादेश को पारगमन पहुंच प्रदान कर रहा है और नेपाल, बांग्लादेश और भूटान के बीच माल व्यापार की सुविधा प्रदान कर रहा है। उन्होंने कहा, हम अभी भी चटोग्राम और मोंगला बंदरगाहों के उपयोग पर समझौते के लागू होने का इंतजार कर रहे हैं, जिसके लिए मानक संचालन प्रक्रियाओं (एसओपी) को दो साल पहले अंतिम रूप दिया गया था। उन्होंने कहा कि कोविड के शुरूआती दिनों के दौरान 18 महीने पहले एक परीक्षण का भी आयोजन किया गया था और इस ओर अभी तक कोई प्रगति नहीं हुई है।

रेल संपर्क के महत्व पर प्रकाश डालते हुए, दोराईस्वामी ने कहा कि यह बांग्लादेश के लिए एक गेमचेंजर होगा, जैसे कि यह पूरे क्षेत्र के लिए है। बांग्लादेश के व्यापक नदी नेटवर्क का उपयोग करते हुए, भारत भी त्रिपुरा और वहां से आगे की ओर माल भेज सकता है। उन्होंने उल्लेख किया कि उप-क्षेत्रीय संपर्क उप-क्षेत्र के सभी देशों के हित में है। बांग्लादेश के एक प्रमुख स्थानीय मीडिया संस्थान से बात करते हुए, उच्चायुक्त ने विश्व बैंक के अध्ययन का हवाला दिया, जिसमें कहा गया है कि भारत और बांग्लादेश के बीच निर्बाध संपर्क से इसकी राष्ट्रीय आय में 17 प्रतिशत की वृद्धि हो सकती है, जबकि भारत की राष्ट्रीय आय में भी 8 प्रतिशत की वृद्धि होगी और इसके निर्यात व्यापार में लगभग तीन गुना वृद्धि होगी।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नॉइज ने भारत में कलरफिट कैलिबर स्मार्टवॉच लॉन्च की

स्मार्ट वियरेबल्स और ऑडियो एक्सेसरीज निर्माता कंपनी नॉइज ने भारत में कलरफिट कैलिबर स्मार्टवॉच को 1,999 रुपये की शुरुआती कीमत पर लॉन्च किया है। स्मार्टवॉच 6 जनवरी से फ्लिपकार्ट पर ऑनलाइन उपलब्ध होगी। ग्राहक स्मार्टवॉच को काले, हरे, लाल और सफेद रंग के विकल्पों में खरीद सकेंगे। जिज्मो चाइना की रिपोर्ट के मुताबिक कलरफिट कैलिबर में 24 घंटे हार्ट रेट मॉनिटरिंग, ब्लड ऑक्सीजन मॉनिटरिंग, स्लीप मॉनिटरिंग, स्ट्रेस मॉनिटरिंग और बॉडी टेम्परेचर मॉनिटरिंग की सुविधा है। कलरफिट कैलिबर में 240 गुणा 280 पिक्सल रेजोल्यूशन के साथ 1.69 इंच का टीएफटी डिस्प्ले है। इसमें फिटनेस के प्रति उत्साही लोगों को अपनी फिटनेस को ट्रैक करने में मदद करने के लिए 60 स्पोर्ट्स मोड शामिल किए गए हैं। यह धूल और पानी के प्रतिरोध के लिए आईपी68-रेटेड बिल्ड के साथ भी आता है। स्मार्टवॉच 3 एक्सिस एक्सेलेरोमीटर और एक पॉली कार्बोनेट केसिंग के साथ आती है। कंपनी का यह भी दावा है कि यह स्मार्टवॉच नींद और मासिक धर्म चक्र को ट्रैक करने में सक्षम है। नॉइज कलरफिट कैलिबर एक बार चार्ज करने पर 15 दिनों का बैटरी बैकअप देने का वादा करती है।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia