अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: EMI राहत की उम्मीदों को झटका और RBI के फैसलों से शेयर बाजार गुलजार

रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक के नतीजे आ चुके हैं। तीन दिनों तक चली इस बैठक में रेपो रेट को लेकर कोई फैसला नहीं लिया गया है और आरबीआई के फैसलों से शेयर बाजार गुलजार हो गया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

EMI राहत की उम्मीदों को RBI का झटका!

रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक के नतीजे आ चुके हैं। तीन दिनों तक चली इस बैठक में रेपो रेट को लेकर कोई फैसला नहीं लिया गया है। रेपो रेट में बदलाव नहीं होने का मतलब ये हुआ कि आपको ईएमआई या लोन की ब्याज दरों पर नई राहत नहीं मिलेगी। रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बैठक के नतीजों की जानकारी देते हुए कहा कि रेपो रेट को 4 फीसदी पर बरकरार रखने का फैसला लिया गया है। वहीं, रिवर्स रेपो रेट भी 3.35 फीसदी पर स्थिर है। हालांकि, आरबीआई गवर्नर ने लोन मोरेटोरियम को लेकर कोई बात नहीं की है. आपको बता दें कि 31 अगस्त को लोन मोरेटोरियम की अवधि खत्म हो रही है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

सोने के मूल्य का अब 90 फीसदी तक मिलेगा कर्ज

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने गुरुवार को बैंकों को सोने के मूल्य का 90 फीसदी तक कर्ज देने की अनुमति दी, जिसके बाद सोने में ओर निखार आएगी, क्योंकि इससे सोने की गहनों की मांग बढ़ जाएगी। इस समय सोने के गहनों को गिरवी रखने पर इसके मूल्य का 75 फीसदी तक कर्ज बैंक देता है, लेकिन केंद्रीय बैंक के फैसले के बाद अब सोने के गहनों के मूल्य का 90 फीसदी तक कर्ज मिल सकता है। कोरोना काल में सोने और चांदी में निवेश मांग बढ़ने से इनकी कीमतों में जबरदस्त उछाल आया है और अब आरबीआई के इस फैसले से कारोबारियों को मौजूदा संकट की घड़ी में बैंकों से सोने पर अधिक कर्ज मिलने से नकदी की समस्या दूर करने में मदद मिलेगी।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

RBI ने स्टार्टअप को बैंक ऋण के लिहाज से प्राथमिक क्षेत्र का दर्जा दिया

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने ऋण प्रदान करने के अपने नियमों में बड़े बदलाव करते हुए स्टार्टअप को बैंक ऋण के लिहाज से प्राथमिक क्षेत्र का दर्जा दे दिया है। यह विभिन्न क्षेत्रों में हजारों स्टार्टअप (अपना व्यापार या कंपनी शुरू करना) को समय पर और पर्याप्त बैंक ऋण तक पहुंच स्थापित करने की अनुमति देगा। इससे पहले परियोजनाओं से जुड़े जोखिम प्रोफाइल को देखते हुए इस काम में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता था। प्राथमिकता क्षेत्र ऋण (पीएसएल) आरबीआई द्वारा बैंकों को दिया गया एक उपकरण है, जो बैंक के कुछ विशिष्ट क्षेत्रों जैसे कृषि और संबद्ध गतिविधियों, सूक्ष्म एवं छोटे उद्यमों, आवास के लिए गरीब लोगों, शिक्षा के लिए छात्रों और अन्य निम्न आय वर्ग और कमजोर वर्ग को उधारी देने के लिए होता है। बैंकों को समायोजित नेट बैंक क्रेडिट का 40 प्रतिशत पीएसएल की ओर रखना होता है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

सेंसेक्स 362 अंक उछला, निफ्टी में भी तेजी

आरबीआई के इन फैसलों से शेयर बाजार गुलजार हो गया है। दोपहर बाद सेंसेक्स 500 अंक मजबूत हुआ तो वहीं निफ्टी में भी 150 अंक की तेजी दर्ज की गई है।कारोबार के अंत में सेंसेक्स 362 अंक या 0.96 प्रतिशत की बढ़त के साथ 38,025.45 अंक पर बंद हुआ।इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 98.50 अंक या 0.89 प्रतिशत की बढ़त के साथ 11,200 अंक के पार 11,200.15 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की कंपनियों में टाटा स्टील का शेयर सबसे अधिक करीब चार प्रतिशत चढ़ गया. इन्फोसिस, बजाज फाइनेंस, टीसीएस, एचसीएल टेक, आईसीआईसीआई बैंक और टेक महिंद्रा के शेयर भी लाभ में रहे. वहीं दूसरी ओर भारती एयरटेल, महिंद्रा एंड महिंद्रा, एलएंडटी तथा एक्सिस बैंक के शेयर टूट गए। इस बीच, बाजार में रुपया 74.94 प्रति डॉलर पर स्थिर बंद हुआ. ब्रेंट कच्चा तेल वायदा 0.04 प्रतिशत के नुकसान से 45.19 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

भारतीय उद्योगों के लिए माइक्रोसॉफ्ट का नया प्लेटफॉर्म

माइक्रोसॉफ्ट ने गुरुवार को भारत में अपने पावर प्लेटफॉर्म की घोषणा की, जिससे देश में संगठनों को काम पर वापस लौटने में मदद मिलेगी। काम के क्षेत्र में वापस लौटने की प्रक्रिया चरणबद्ध तरीके से होगी और संगठनों के लिए यह काफी महत्वपूर्ण होगा कि वे अपने कर्मियों को इससे संबंधित सही जानकारी उचित समय पर दें। माइक्रोसॉफ्ट की ओर से एक बयान में कहा गया कि इसी काम को त्वरित और व्यवस्थित ढंग से करने के लिए पावर प्लेटफॉर्म रिटर्न टू द वर्कप्लेस को डिजाइन किया गया है, जिसमें विस्तृत रूप से शुरू से लेकर अंत तक मॉड्यूल के सभी भाग शामिल होंगे। यह एक्जीक्यूटिव लीडर, फैकल्टी मैनेजर, कर्मचारी, मैनेजर और स्वास्थ्य और सुरक्षा नेताओं को भी एक बेहतर अनुभव प्रदान करेंगे।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia