रिकॉर्ड हाई पर क्रूड ऑयल, पेट्रोल की कीमतों में लग सकती है आग! जानें कितनी बढ़ सकती हैं तेल की कीमतें

ब्रेंट क्रूड ऑयल की कीमत 125 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर रहने के कारण घरेलू परिवहन ईंधन की कीमतों में तेजी से बढ़ोतरी की उम्मीद है। बता दें कि भारत फिलहाल अपनी जरूरत का 85 फीसदी कच्चे तेल का आयात करता है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

ब्रेंट क्रूड ऑयल की कीमत 125 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर रहने के कारण घरेलू परिवहन ईंधन की कीमतों में तेजी से बढ़ोतरी की उम्मीद है। बता दें कि भारत फिलहाल अपनी जरूरत का 85 फीसदी कच्चे तेल का आयात करता है।

अनुमान है कि कच्चे तेल की ऊंची कीमतों से घरेलू परिवहन ईंधन की कीमतें 10 रुपये से 32 रुपये प्रति लीटर तक बढ़ जाएंगी। हालांकि, राज्य के स्वामित्व वाली ओएमसी ने मंगलवार को पेट्रोल और डीजल की कीमतों में संशोधन नहीं किया।

व्यापक रूप से यह उम्मीद की जा रही थी कि ओएमसी 7 मार्च को या उसके बाद मौजूदा कीमतों में संशोधन करेगी, जो कि राज्य में चल रहे विधानसभा चुनावों में मतदान का आखिरी दिन था। नवंबर की शुरूआत से अब तक ईंधन की कीमतें स्थिर रही हैं, जब केंद्र ने पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में क्रमश: 5 रुपये और 10 रुपये प्रति लीटर की कमी की थी।

हाल ही में, रूस-यूक्रेन संकट के साथ-साथ मजबूत मांग के कारण कच्चे तेल की कीमतों में वैश्विक वृद्धि हुई है। ब्रेंट-इंडेक्स्ड में कच्चे तेल की कीमत मंगलवार को 125 डॉलर प्रति बैरल से अधिक थी, जो एक दिन पहले 14 साल के उच्च स्तर 130 डॉलर प्रति बैरल थी।


शुक्रवार को ब्रेंट इंडेक्स्ड कच्चा तेल एक दिन पहले के 10 साल के उच्च स्तर 119.84 डॉलर प्रति बैरल से 113.76 डॉलर प्रति बैरल पर था। हाल ही में, तंग आपूर्ति के डर से कच्चे तेल की कीमतों में लगभग 20 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। वर्तमान में, रूस दुनिया में कच्चे तेल के सबसे बड़े उत्पादकों में से एक है।

यह आशंका है कि रूस के खिलाफ नए और अधिक कड़े प्रतिबंध वैश्विक आपूर्ति को कम कर देंगे और वैश्विक विकास को प्रभावित करेंगे। देश अपनी कच्चे तेल की जरूरतों का 85 प्रतिशत आयात करता है और अनुमान है कि परिवहन ईंधन की कीमतों में 10 रुपये से 32 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हुई है।

आईआईएफएल सिक्योरिटीज वीपी, रिसर्च, अनुज गुप्ता ने कहा, "कच्चे तेल की कीमतों का रुझान कम आपूर्ति के कारण तेज है।" उन्होंने कहा, "हम उम्मीद करते हैं कि आने वाले दिनों में पेट्रोल की कीमत में वृद्धि होगी।"

एचडीएफसी सिक्योरिटीज के सीनियर एनालिस्ट (कमोडिटीज) तपन पटेल के मुताबिक, "कच्चे तेल की कीमतों में मंगलवार को बढ़ोतरी हुई और ब्रेंट ऑयल की कीमतें 3.38 फीसदी बढ़कर 127.37 डॉलर प्रति बैरल हो गईं। रूस की चेतावनी के बाद कच्चे तेल की कीमतें बढ़ीं। तेल की ऊंची कीमतों और यूरोप को ऊर्जा आपूर्ति में कटौती की धमकी दी।"


उन्होंने कहा, "वैश्विक तेल की कीमतें 14 साल के उच्च स्तर पर मंडरा रही हैं जो भारत में ईंधन की कीमतों में तेज वृद्धि के लिए मजबूत मामला बना रही है क्योंकि देश मांग को पूरा करने के लिए लगभग 85 प्रतिशत तेल का आयात कर रहा है।"

इसके अलावा, कमोडिटीज एंड करेंसी कैपिटल वाया ग्लोबल रिसर्च के लीड क्षितिज पुरोहित ने कहा, "अब जब राज्य का चुनाव खत्म हो गया है और सत्ता पक्ष ने विपक्ष पर एक फायदा हासिल कर लिया है, तो उम्मीद है कि चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद कीमतों में वृद्धि होगी।"

उन्होंने कहा, "भारत सरकार कीमतों को नियंत्रित करने के लिए अपने भंडार का उपयोग कर रही है और अगर अंतरराष्ट्रीय कीमतें उच्च स्तर पर कायम नहीं रहती हैं तो हम पेट्रोल और डीजल में 10-12 रुपये की बढ़ोतरी देख सकते हैं।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 08 Mar 2022, 3:43 PM