अर्थतंत्र

महंगाई की मार के लिए हो जाइए तैयार, सात माह के उच्चतम स्तर पर महंगाई दर, खाने-पीने की चीजें हुईं महंगी

महंगाई दर अनुमान से ज्यादा दर्ज की गई है। केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय की ओर से जारी संशोधित आंकड़ों के अनुसार उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित खुदरा मुद्रास्फीति अप्रैल में 2.99 फीसदी रही।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

मोदी राज में महंगाई एक बार फिर से सिर उठाने लगी है। मई महीने में खुदरा महंगाई दर पिछले सात माह के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई। खाने-पीने की चीजों के दाम बढ़ने से खुदरा महंगाई दर में बढ़ेतरी देखने को मिल रही है। वित्त मंत्रालय के केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक खुदरा महंगाई दर 3.05 फीसदी हो गई है।

महंगाई दर अनुमान से ज्यादा दर्ज की गई है। केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय की ओर से जारी संशोधित आंकड़ों के अनुसार उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित खुदरा मुद्रास्फीति अप्रैल में 2.99 फीसदी रही। पहले प्रारंभिक आंकड़ों में इसके 2.92 फीसदी पर रहने का अनुमान लगाया गया था।

मई 2018 में खुदरा मुद्रास्फीति 4.87 फीसदी पर थी। मई में मुद्रास्फीति का आंकड़ा अक्टूबर 2018 के बाद सबसे ऊंचा है। गत अक्टूबर में खुदरा मुद्रास्फीति 3.38 फीसदी थी। ताजा आंकड़ों के मुताबिक, खाद्य मुद्रास्फीति मई में 1.83 फीसदी रही। यह अप्रैल के 1.1 फीसदी की तुलना में अधिक है।

लोकप्रिय