अर्थजगत की 5 बड़ी खबरें: शेयर बाजार में लौटी बहार! सेंसेक्स में 454 अंकों का उछला, निफ्टी में भी बढ़त और सस्ता हुआ सोना

शेयर बाजार गुरुवार को हरे निशान पर बंद हुआ। कारोबार के अंत में सेंसेक्स 454.10 अंक 58795.09 के स्तर पर बंद हुआ, वहीं निफ्टी भी 121.30 अंक उछाल के साथ 17536.30 के स्तर पर बंद हुआ और दिल्ली सर्राफा बाजार में सोने की कीमतें गुरुवार को 195 रुपये गिरकर 46,625 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गई हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

शेयर बाजार में लौटी बहार, सेंसेक्स 454 अंक उछला, निफ्टी में 121 अंक की बढ़त

शेयर बाजार गुरुवार को हरे निशान पर बंद हुआ। कारोबार के अंत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 454.10 अंक या 0.78 फीसदी बढ़कर 58795.09 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 121.30 अंक या 0.70 फीसदी उछाल के साथ 17536.30 के स्तर पर बंद हुआ। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने गैसीफिकेश उपक्रम को पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी को ट्रांसफर करने के एलान किया जिसके बाद कंपनी के शेयर में 6 फीसदी तक का उछाल देखने को मिली और यह शेयर गुरुवार को निफ्टी के टॉप गेनर में शामिल रहा। इससे एक कारोबारी दिन पहले यानी बुधवार को शेयर बाजार लाल निशान में बंद हुआ था। सेसेंक्स 323.34 अंक यानी 0.55 फीसदी की गिरावट के साथ 58,340.99 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी 88.30 टूटकर 17,415.05 के स्तर पर बंद हुआ था।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

सोना हुआ सस्ता, चांदी की कीमत में भी गिरावट

दिल्ली सर्राफा बाजार में सोने की कीमतें गुरुवार को 195 रुपये गिरकर 46,625 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गई हैं। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के मुताबिक, इसकी वजह इंटरनेशनल मार्केट में बहुमूल्य धातुओं की कीमतों में तेजी और रुपये में गिरावट आना है। पिछले कारोबार में सोना 46,430 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। वहीं, चांदी की कीमत भी 569 रुपये की गिरावट के साथ 61,763 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गईं। पिछले कारोबार में चांदी की कीमत 61,194 रुपये प्रति किलोग्राम पर रही थी। भारतीय रुपया गुरुवार को शुरुआती कारोबार में 15 पैसे घटकर अमेरिकी डॉलर। के मुकाबले 74.55 पर पहुंच गया।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images

भारत के बाद, अमेरिकी नियामक 2022 में क्रिप्टो जोखिमों पर करेंगे विचार

अमेरिका में बैंकिंग नियामकों ने नियमों और विनियमों को स्पष्ट करने के लिए एक योजना की घोषणा की है कि उसके बैंक अगले वर्ष क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग कैसे कर सकते हैं। मौजूदा वक्त में भारत सहित दुनिया भर की सरकारें क्रिप्टोकरेंसी से जुड़े जोखिमों का वजन कर रही हैं और निवेशकों की सुरक्षा कर रही हैं। फेडरल रिजर्व सिस्टम, फेडरल डिपॉजिट इंश्योरेंस कॉरपोरेशन और मुद्रा नियंत्रक के कार्यालय के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स ने एक बयान में कहा कि वे मानते हैं कि उभरते क्रिप्टो-एसेट सेक्टर बैंकिंग संगठनों, उनके ग्राहकों और समग्र के लिए संभावित अवसर और जोखिम प्रस्तुत करता है। नियामकों ने बुधवार को एक संयुक्त बयान में कहा, "चूंकि पर्यवेक्षित संस्थान क्रिप्टो-एसेट-संबंधित गतिविधियों में संलग्न होना चाहते हैं, यह महत्वपूर्ण है कि एजेंसियां समन्वित और समय पर स्पष्टता प्रदान करें जहां सुरक्षा और सु²ढ़ता, उपभोक्ता संरक्षण और लागू कानूनों और विनियमों के अनुपालन को बढ़ावा देने के लिए उपयुक्त हो, जिसमें एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग भी शामिल है।"

2022 के दौरान, अमेरिकी एजेंसियां इस बात पर अधिक स्पष्टता प्रदान करने की योजना बना रही हैं कि क्या बैंकिंग संगठनों द्वारा संचालित क्रिप्टो-परिसंपत्तियोंसे संबंधित कुछ गतिविधियां कानूनी रूप से अनुमत हैं और सुरक्षा और सु²ढ़ता, उपभोक्ता संरक्षण और मौजूदा कानूनों और विनियमों के अनुपालन की अपेक्षाएं हैं। एजेंसियों ने कहा कि वे क्रिप्टो-परिसंपत्तियों में विकास की निगरानी करना जारी रखते हैं और बाजार के विकसित होने पर अन्य मुद्दों को संबोधित कर सकते हैं। इसके अलावा, एजेंसियां क्रिप्टो-परिसंपत्तियों से संबंधित गतिविधियों से उत्पन्न होने वाले मुद्दों पर, अन्य संबंधित अधिकारियों के साथ जुड़ना और सहयोग करना जारी रखेंगी। भारत में, आगामी क्रिप्टोकरेंसी और आधिकारिक डिजिटल मुद्रा का विनियमन विधेयक, 2021 भारत में सभी निजी क्रिप्टोकरेंसी को प्रतिबंधित करने का प्रयास करता है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

अफगानिस्तान का निर्यात 3 महीने में 132 फीसदी बढ़ा

अफगानिस्तान का निर्यात पिछले तीन महीनों में 132 फीसदी बढ़ा है। तालिबान की कार्यवाहक सरकार के एक प्रवक्ता ने गुरुवार को यह जानकारी दी। कार्यवाहक सरकार के उप प्रवक्ता इनामुल्ला समांगानी ने ट्वीट करते हुए कहा, "पूर्व प्रशासन के आखिरी तीन महीनों के दौरान, अफगानिस्तान का निर्यात 11.58 अरब अफगानी (अफगानिस्तान की मुद्रा) था, लेकिन नई सरकार के पहले तीन महीनों के दौरान, अफगानिस्तान का निर्यात 26.83 अरब अफगानी दर्ज किया गया है, जो 132 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है।" समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, अगस्त के मध्य में तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जा करने और 7 सितंबर को तालिबान के नेतृत्व वाली कार्यवाहक सरकार के गठन के बाद से संघर्षग्रस्त देश को आर्थिक संकट का सामना करना पड़ा है। उद्योग और वाणिज्य मंत्रालय द्वारा उपलब्ध कराई गई जानकारी के अनुसार, अफगान व्यापारियों ने पिछले दो हफ्तों के दौरान यूरोपीय संघ, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका और एशिया के कई देशों में 585 टन किशमिश सहित 698 मीट्रिक टन सूखे मेवे (ड्राई फ्रूट्स) का निर्यात किया है। बता दें कि एक डॉलर के मुकाबले अफगानिस्तान की मुद्रा 96 अफगानी पर है)।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

पबजी मोबाइल का विश्व स्तर पर राजस्व 7 बिलियन डॉलर के पार पहुंचा

टेंसेंट के पबजी मोबाइल ने रिकॉर्ड तीसरी तिमाही में वृद्धि के बाद, एप्पल ऐप स्टोर और गूगल प्ले स्टोर पर 'वल्र्डवाइड लाइफटाइम प्लेयर स्पेंडिंग' में 7 बिलियन डॉलर के आंकड़े को पार कर लिया है। इस साल अब तक, पबजी मोबाइल, 'गेम फॉर पीस' शीर्षक के चीनी स्थानीयकरण से खिलाड़ी खर्च के साथ, राजस्व में 2.6 बिलियन डॉलर जमा कर चुका है, जो 'ऑनर ऑफ किंग्स' के बाद दुनिया भर में दूसरे नंबर पर कमाई करने वाले मोबाइल गेम के रूप में रैंकिंग करता है। पबजी मोबाइल ने इस साल लगातार 700 मिलियन डॉलर प्रति तिमाही से अधिक की कमाई की है, जो 2021 की तीसरी तिमाही में रिकॉर्ड 771 मिलियन डॉलर है। शीर्षक ने 2021 में अब तक औसतन प्रति दिन 8.1 मिलियन डॉलर उत्पन्न किए हैं। चीन पबजी मोबाइल के लिए विश्व स्तर पर शीर्षक के नंबर एक राजस्व पैदा करने वाले बाजार के रूप में रैंक करता है, जिसका शीर्षक गेम फॉर पीस है, जो अब तक देश में 4 बिलियन डॉलर के करीब है, या कुल वैश्विक खिलाड़ी खर्च का लगभग 57 प्रतिशत है। चीन के बाहर, पबजी मोबाइल ने 3 बिलियन डॉलर से अधिक की कमाई की है। अमेरिका कुल राजस्व के 11.8 प्रतिशत पर खिलाड़ी खर्च करने के मामले में दूसरे स्थान पर है, जबकि जापान 4.2 प्रतिशत के साथ शीर्ष तीन देशों से बाहर है।

ऐप स्टोर वैश्विक स्तर पर खिलाड़ी के खर्च का शेयर का हिस्सा है, जो कुल राजस्व का 81 प्रतिशत जमा करता है। इस बीच, गूगल प्ले का राजस्व में 19 प्रतिशत का योगदान है। चीन के बाहर, ऐप स्टोर का खर्च 56.6 प्रतिशत है जबकि गूगल प्ले 43.4 प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करता है। भारत में, पबजी मोबाइल और कई अन्य ऐप सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69ए के तहत प्रतिबंधित हैं, क्योंकि वे कथित रूप से देश की संप्रभुता और अखंडता के लिए खतरा पैदा करने वाली गतिविधियों में शामिल थे।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia