अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: RBI के फैसलों से झूमा शेयर बाजार, सेंसेक्स 49600 के पार और दिवालिया होने वाली है OYO?

बुधवार को निवेशकों के लिए स्टॉक मार्केट मुनाफे वाला साबित हुआ। RBI की मौद्रिक नीति पॉलिसी का बाजार को फायदा हुआ और ओयो के दिवालिया होने की खबर के बीच संस्थापक और सीईओ रितेश अग्रवाल का बयान सामने आया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

सेंसेक्स 460 अंकों की बढ़त के साथ 49,661 पर बंद, निफ्टी 14,819 के पार

बुधवार को निवेशकों के लिए स्टॉक मार्केट मुनाफे वाला साबित हुआ। RBI की मौद्रिक नीति पॉलिसी का बाजार को फायदा हुआ। सुबह हल्की बढ़त के साथ मार्केट खुला लेकिन बाद में रफ्तार फकड़ ली।दिनभर खरीदारी के बाद अब मार्केट बढ़त के साथ बंद हुआ। BSE पर सेंसेक्स 460 अंकों की बढ़त के साथ 49,661 पर बंद हुआ। वहीं, निफ्टी में भी तेजी देखी गई है। निफ्टी 135 अंकों की बढ़त के साथ 14,819 पर बंद हुआ है। इंडेक्स में शामिल 30 में से 26 शेयरों में बढ़त दर्ज की गई।बता दें कि मंगलवार को सेंसेक्स 42 पॉइंट ऊपर 49,201 पर बंद हुआ था।वहीं, निफ्टी भी 45 अंकों की बढ़त के साथ 14,683 पर बंद हुआ था।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

क्या दिवालिया होने वाली है OYO? कंपनी के ग्रुप CEO ने दिया जवाब

ओयो होटल्स एंड होम्स प्राइवेट लिमिटेड को लेकर मीडिया में चर्चा हो रही है कि कंपनी ने IBC 2016 के तहत दिवालिया होने की अर्जी दी है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल ने OYO होटल्स की कॉर्पोरेट इनसॉल्वेंसी रिजॉल्यूशन प्रक्रिया शुरू करने का आदेश दिया है। इसको लेकर जारी एक बयान में कहा गया है कि NCLT ने 30 मार्च, 2021 को नोटिस दिया है कि OYO होटल्स एंड होम्स प्राइवेट लिमिटेड की कॉर्पोरेट इनसॉल्वेंसी रिजॉल्यूशन प्रक्रिया शुरू करने का आदेश दिया जाता है। वहीं कंपनी के ग्रुप सीईओ रितेश अग्रवाल ने ट्वीट कर इस खबर को पूरी तरह गलत बताया है। रितेश अग्रवाल ने ट्वीट कर कहा कि कुछ पीडीएफ और टेक्स्ट मैसेज सर्कुलेट हो रहे हैं, जिसमे दावा किया जा रहा है कि OYO ने दिवालिया प्रक्रिया के लिए अर्जी दी है। इसमें कोई सच्चाई नहीं है। एक दावेदार ने ओयो की सहायक कंपनी से एनसीएलटी में याचिका के जरिए 16 लाख रुपये की मांग की है।

तेजी से बढ़े गोल्‍ड के दाम, चांदी 682 रुपये हुई महंगी

भारतीय बाजारों में सोने की कीमतों में एक दिन की गिरावट के बाद आज लगातार दूसरे कारोबारी सत्र के दौरान तेजी देखने को मिली है। इसके चलते दिल्ली सर्राफा बाजार में आज यानी 7 अप्रैल 2021 को सोने के भाव में तेज बढ़त दर्ज की गई और ये 46,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के करीब पहुंच गया। चांदी के दाम में भी आज ठीकठाक तेजी आई। पिछले कारोबारी सत्र के दौरान दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना 45,181 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। वहीं, चांदी 64,786 रुपये प्रति किग्रा पर बंद हुई थी। अंतरराष्‍ट्रीय बाजारों में आज गोल्‍ड की कीमतों में कमी दर्ज की गई, जबकि चांदी के भाव में ज्‍यादा उठापटक नहीं हुई।

फोटो: Getty Image
फोटो: Getty Image

RBI ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए GDP में 10.5 फीसदी ग्रोथ का जताया अनुमान

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की मौद्रिक नीति समिति की तीन दिवसीय बैठक बुधवार को खत्म हो गई। इस मीटिंग के बाद आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने मीटिंग में हुए नतीजों का ऐलान किया। रिजर्व बैंक ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को भी 10.5 फीसदी तक बरकरार रखा है। आपको बता दें कि पिछले साल भी मौद्रिक नीति समिति ने यही अनुमान जारी किया था। इसके अलावा आरबीआई ने रेपो रेट में किसी बदलाव की घोषणा नहीं की है, जिसकी वजह से ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं हुआ है। इसी कारण आम लोगों को लोन पर कोई राहत नहीं मिल पाएगी। आरबीआई ने रेपो रेट को 4 फीसदी पर ही बरकरार रखा है।

आरबीआई गवर्नर ने कहा कि कोरोना के प्रसार के बावजूद भी भारतीय अर्थव्यवस्था में सुधार देखने को मिल रहा है। हालांकि हाल में जिस तरह से मामले बढ़े हैं, उससे थोड़ी अन‍िश्चिचतता बढ़ी है, लेकिन भारत चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि फरवरी में खुदरा महंगाई 5 फीसदी की ऊंचाई पर रहने के बावजूद यह रिजर्व बैंक के सुविधाजनक सीमा के दायरे में है। आरबीआई गवर्नर ने कहा कि वित्त वर्ष 2021-22 के लिए रियल जीडीपी ग्रोथ की दर पहली तिमाही में 26.2 फीसदी, दूसरी तिमाही में 8.3 फीसदी, तीसरी तिमाही में 5.4 फीसदी और चौथी तिमाही में 6.2 फीसदी रह सकती है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

सिंगापुर में सरकार ने क्रिप्टोकरेंसी को लेकर किया आगाह

तेजी से बढ़ती क्रिप्टोकरेंसी मार्केट के दौर में सिंगापुर में सरकार ने लोगों से बिटकॉइन और दूसरी क्रिप्टोकरेंसी बाजार में निवेश के खतरों को लेकर आगाह किया है। क्रिप्टोकरेंसी मार्केट अभी सिंगापुर में अपेक्षाकृत छोटा ही है लेकिन पिछले एक साल में इसमें तेजी से वृद्धि हुई है। सिंगापुर के मौद्रिक प्राधिकरण (एमएएस) के अध्यक्ष थारमन शानमुगारत्नम ने संसद में एक सवाल के जवाब में कहा "क्रिप्टोकरेंसी अत्यधित अस्थिर हो सकती हैं क्योंकि उनकी कीमत आम तौर किसी भी आर्थिक बुनियादी बातों से संबंधित नहीं होती है। इसलिए निवेश के लिए यह सबसे अधिक जोखिम वाला प्रोडक्ट है और निश्चित रूप से खुदरा निवेशकों के लिए उपयुक्त नहीं है। शानमुगारत्नम ने कहा कि क्रिप्टोक्यूरेंसी फंड खुदरा निवेशकों को बिक्री के लिए अधिकृत नहीं हैं। एमएएस के पास डिजिटल टोकन सेवा प्रदाताओं पर अतिरिक्त उपाय करने की भी शक्तियां हैं, जिसके तहत क्रिप्टोकरेंसी के व्यापार की पेशकश करने वाले एक्सचेंजों को आवश्यतानुसार नियंत्रित किया जाता है। थारमन शानमुगारत्नम सामाजिक नीतियों के लिए समन्वय मंत्री भी है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय