शेयर बाजार में खुलते ही कोहराम, सेंसेक्स 2100, निफ्टी 518 अंक लुढ़का, डॉलर के मुकाबले रुपये की भी हालत पतली

शेयर बाजार खुलने के कुछ ही देर बाद सेंसेक्स 2178 अंक गिरकर 31,925 पर पहुंच गया। वहीं, निफ्टी 518 अंक गिरकर 9,437.00 पर पहुंच गया। कोरोना वायरस के कहर से बचने के लिए अमेरिकी फेडरल रिजर्व और दूसरे केंद्रीय बैंकों का कदम निवेशकों को रास नहीं आया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

शेयर बाजार पर कोरोना वायरस की मार जारी है। सोमवार को शेयर बाजार खुलते ही कोहराम मच गया। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स करीब 1000 अंकों की भारी गिरावट के साथ 33,103.24 पर खुला। वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 9,587.80 पर खुला।

बाजार खुलने के कुछ ही देर बाद सेंसेक्स 2178 अंक गिरकर 31,925 पर पहुंच गया। वहीं, निफ्टी 518 अंक गिरकर 9,437.00 पर पहुंच गया। कोरोना वायरस के कहर से बचने के लिए अमेरिकी फेडरल रिजर्व और दूसरे केंद्रीय बैंकों का कदम निवेशकों को शायद रास नहीं आया है। दुनिया भर के शेयर बाजारों में इसी तरह की भारी गिरावट देखी जा रही है।

उधर, डॉलर के मुकाबले रुपया भी सोमवार को 15 पैसे की कमजोरी के साथ 74.06 पर खुलने के बाद 74.15 रुपये प्रति डॉलर पर बना हुआ था। फेड के फैसले के बाद शेयर बाजारों में आई गिरावट के कारण रुपये में कमजोरी आई है। पिछले हफ्ते रुपया 74.50 के निचले स्तर तक गिरने के बाद संभला था और 73.91 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था। उधर, अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दर में कटौती के फैसले के बाद डॉलर में कमजोरी आने के कारण डॉलर इंडेक्स पिछले सत्र के मुकाबले 0.37 फीसदी की कमजोरी के साथ 98.53 पर बना हुआ था। डॉलर इंडेक्स यूरो, पौंड समेत दुनिया की छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले डॉलर की ताकत का सूचक है। डॉलर के मुकाबले यूरो 0.09 फीसदी की बढ़त के साथ 1.1115 पर बना हुआ था।

एंजेल ब्रोकिंग के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट (करेंसी एवं एनर्जी रिसर्च) अनुज गुप्ता ने बताया कि फेड के फैसले के बाद शेयर बाजारों में आई गिरावट के कारण रुपया कमजोर हुआ है।

कोरोना के कहर से निपटने की दिशा में कदम उठाते हुए अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व ने अचानक ब्याज दर में बड़ी कटौती की। फेडरल रिजर्व ने ब्याज दर घटाकर शून्य के करीब कर दिया। कोरोना वायरस के संकट और मंदी के खतरों से जूझ रही अमेरिकी अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहन देने के मकसद से फेड ने यह कदम उठाया है। फेड ने बेंचमार्क ब्याज दर जो एक फीसदी से 1.25 फीसदी था उसे घटाकर शून्य से 0.25 फीसदी कर दिया है।

Published: 16 Mar 2020, 10:31 AM
लोकप्रिय