अर्थ जगत: निफ्टी में तीन दिन से जारी गिरावट का सिलसिला टूटा और अमेजन ने 5 प्रतिशत कर्मचारियों की छंटनी की

वैश्विक बाजार में राहत मिलने से निफ्टी में तीन दिनों से जारी गिरावट का सिलसिला शुक्रवार को थम गया। अमेजन ने कहा है कि वह अपनी बाय विद प्राइम यूनिट में लगभग 5 प्रतिशत कर्मचारियों की छंटनी कर रहा है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

निफ्टी में तीन दिन से जारी गिरावट का सिलसिला टूटा

वैश्विक बाजार में राहत मिलने से निफ्टी में तीन दिनों से जारी गिरावट का सिलसिला शुक्रवार को थम गया। निफ्टी 160 अंक (0.8 प्रतिशत) की बढ़त के साथ 21,622 पर बंद हुआ। सभी सेक्टर हरे निशान में बंद हुए। ऑयल एंड गैस, मेटल और फाइनेंशियल शेयरों में खरीददारी देखी गई।

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के खुदरा अनुसंधान प्रमुख सिद्धार्थ खेमका ने कहा, निवेशक सप्ताहांत में जारी होने वाले रिलायंस, एचयूएल, आईसीआईसीआई बैंक और कोटक बैंक जैसे प्रमुख दिग्गजों के नतीजों पर नजर रखेंगे।

बोनान्ज़ा पोर्टफोलियो के शोध विश्लेषक वैभव विदवानी ने कहा कि निफ्टी हरे निशान में बंद हुआ, जबकि अधिकांश सेक्टर बढ़त में रहे। निफ्टी ऑयल एंड गैस और निफ्टी इंफ्रा में क्रमश: 1.66 फीसदी और 1.61 फीसदी की तेजी रही। कंपनियों द्वारा बताए गए मजबूत आंकड़ों ने बाजार में उम्मीदों को बढ़ा दिया है।

सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया को तीसरी तिमाही में 717.86 करोड़ रुपये का मुनाफा

फोटो: IANS
फोटो: IANS

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने वित्त वर्ष 2024 की तीसरी तिमाही में 717.86 करोड़ रुपये के शुद्ध लाभ की घोषणा की है। शुक्रवार को एक नियामक फाइलिंग में, बैंक ने कहा कि 31 दिसंबर, 2023 को समाप्त तिमाही के लिए, उसने कुल ब्याज आय 7,809.21 करोड़ रुपये (वित्त वर्ष 23 की तिसरी तिमाही में 6,716.55 करोड़ रुपये) और 717.86 करोड़ रुपए (458.22 करोड़ रुपए) का शुद्ध लाभ अर्जित किया।

तिमाही में बैंक की अन्य आय में तेज बढ़ोतरी के कारण लाभ में भारी वृद्धि हुई और यह 1,329.72 करोड़ रुपए (919.16 करोड़ रुपए) हो गया।

तिमाही के दौरान, एनपीए के लिए बैंक का प्रावधान कम होकर 726.69 करोड़ रुपए (849.62 करोड़ रुपए) हो गया। 31 दिसंबर, 2023 तक, बैंक की सकल और शुद्ध एनपीए 10,786.491 करोड़ रुपए था।


तेलंगाना में टाटा, उबर ने अपने परिचालन का विस्तार करने की बनाई योजना

फोटो: IANS
फोटो: IANS

टाटा समूह और उबर ने तेलंगाना में अपने परिचालन का विस्तार करने की योजना बनाई है, वहीं सिस्ट्रा समूह एक डिजिटल केंद्र स्थापित करने पर विचार कर रहा है। दावोस में विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) की वार्षिक बैठक के मौके पर मुख्यमंत्री ए. रेवंत रेड्डी के नेतृत्व में तेलंगाना प्रतिनिधिमंडल की इन कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ हुई बैठकों में यह फैसला हुआ।

मुख्यमंत्री ने टाटा संस के चेयरमैन नटराजन चंद्रशेखरन से मुलाकात की। उन्होंने तेलंगाना के लिए टाटा समूह की मौजूदा और भविष्य की व्यावसायिक योजनाओं पर चर्चा की। टाटा संस समूह की पहले से ही तेलंगाना में एक बड़ी और विविध व्यावसायिक उपस्थिति है।

टाटा समूह की तकनीकी परामर्श शाखा टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज हैदराबाद में 80,000 से अधिक लोगों को रोजगार देती है, जो उन्हें राज्य के सबसे बड़े आईटी नियोक्ताओं में से एक बनाती है।

अमेजन ने अपनी बाय विद प्राइम यूनिट में की 5 प्रतिशत कर्मचारियों की छंटनी

फोटो: IANS
फोटो: IANS

अमेजन ने कहा है कि वह अपनी बाय विद प्राइम यूनिट में लगभग 5 प्रतिशत कर्मचारियों की छंटनी कर रहा है। सीएनबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, छंटनी में यूनिट के लगभग 30 कर्मचारी शामिल होंगे। हालांकि, यह पता नहीं चला है कि इसके बाय विद प्राइम डिवीजन में कितने कर्मचारी हैं।

अमेजन के प्रवक्ता के हवाले से कहा गया, ''हम नियमित रूप से अपनी टीमों की संरचना की समीक्षा करते हैं और व्यवसाय की जरूरतों के आधार पर समायोजन करते हैं और हाल की समीक्षा के बाद, हमने अपनी बाय विद प्राइम टीम में कुछ भूमिकाओं को खत्म करने का कठिन निर्णय लिया है।''

प्रवक्ता ने कहा कि बाय विद प्राइम अमेजन के लिए पहली प्राथमिकता है और कंपनी प्रोग्राम में महत्वपूर्ण संसाधनों का निवेश जारी रखने की योजना बना रही है।


एफपीआई ने पिछले 2 दिनों में 20,480 करोड़ रुपए की इक्विटी बेची

फोटो: IANS
फोटो: IANS

बाजार में एक अहम ट्रेंड है एफआईआई और डीआईआई के बीच रस्साकशी का फिर से शुरू होना। इसका खुदरा निवेशकों पर बड़ा प्रभाव पड़ता है। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी.के. विजयकुमार ने ये बात कही है।

पिछले दो दिन में एफपीआई ने बड़े पैमाने पर 20,480 करोड़ रुपए की इक्विटी बेची है। यह आंशिक रूप से अमेरिका में बांड यील्ड के बढ़ने के चलते है। अमेरिका में 10 साल का बांड यील्ड बढ़कर 4.16 प्रतिशत हो गई है। उन्होंने कहा, चूंकि एफआईआई एयूएम का सबसे बड़ा हिस्सा बैंकों में है, इसलिए वे बैंकों, मुख्य रूप से एचडीएफसी बैंक में बिकवाली कर रहे हैं।

हाल के वर्षों में एफआईआई और डीआईआई के बीच रस्साकशी में डीआईआई ने हमेशा जीत हासिल की, भले ही एफआईआई की बिक्री से अल्पकालिक नुकसान हो सकता है। उन्होंने कहा, बाहरी कारकों के कारण एफआईआई की बिकवाली हमेशा खरीदारी का अवसर रही है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;