2023 में वैश्विक उत्पादन को लगेगा बड़ा धक्का, वृद्धि 3 फीसदी से घटकर 1.9 फीसदी होने का अनुमान

रिपोर्ट में कहा गया है कि वैश्विक विकास 2024 में मामूली रूप से 2.7 प्रतिशत तक पहुंचने का अनुमान है, क्योंकि कुछ विपरीत परिस्थितियां कम होने लगेंगी। हालांकि, यह अत्यधिक मौद्रिक सख्ती की गति और यूक्रेन में युद्ध के हालात और परिणामों पर निर्भर है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक और सामाजिक मामलों के विभाग द्वारा 'द वल्र्ड इकोनॉमिक सिचुएशन एंड प्रॉस्पेक्ट्स 2023' शीर्षक से जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि 2023 में वैश्विक उत्पादन साल 2022 में अनुमानित 3 प्रतिशत से घटकर 1.9 प्रतिशत रहने का अनुमान है, जो हाल के दशकों में सबसे कम विकास दर में से एक है।

संयुक्त राष्ट्र की इस रिपोर्ट ने गंभीर और पारस्परिक रूप से मजबूत झटकों की एक श्रृंखला को सूचीबद्ध किया है जिनमें कोविड-19 महामारी, यूक्रेन में युद्ध और इसके परिणामस्वरूप खाद्य और ऊर्जा संकट, मुद्रास्फीति में वृद्धि, कर्ज में कमी, साथ ही 2023 में वैश्विक उत्पादन वृद्धि में अपेक्षित गिरावट के पीछे जलवायु आपातकाल शामिल हैं।


यह रिपोर्ट निकट अवधि के लिए एक उदास और अनिश्चित आर्थिक दृष्टिकोण प्रस्तुत करती है।
रिपोर्ट में कहा गया है, "वैश्विक विकास 2024 में मामूली रूप से 2.7 प्रतिशत तक पहुंचने का अनुमान है, क्योंकि कुछ विपरीत परिस्थितियां कम होने लगेंगी। हालांकि, यह अत्यधिक मौद्रिक सख्ती की गति और अनुक्रम, यूक्रेन में युद्ध के हालात और परिणामों पर निर्भर है। आगे आपूर्ति-श्रृंखला में व्यवधान की संभावना है।"

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा, "यह अल्पकालिक सोच या वित्तीय मितव्ययिता का समय नहीं है, जो असमानता और पीड़ा बढ़ाता है और एसडीजी को पहुंच से बाहर कर सकता है। यह अभूतपूर्व समय अभूतपूर्व कार्रवाई की मांग करता है।" उन्होंने कहा, "इस कार्रवाई में एक परिवर्तनकारी एसडीजी प्रोत्साहन पैकेज शामिल है, जो सभी हितधारकों के सामूहिक और ठोस प्रयासों से तैयार हुआ है।"

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


/* */