अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: दूसरी तिमाही में भारत आया हर 4 में से 3 स्मार्टफोन चीनी और नई ऊंचाई पर सोना

घरेलू वायदा बाजार में सोने का भाव बुधवार को 53000 रुपये प्रति 10 ग्राम के पार फिर एक नई ऊंचाई पर चला गया। देश में लॉकडाउन लगाए जाने के चलते आपूर्ति में दिक्कत आने और घरेलू उत्पादन में कमीं आने के बावजूद भी जून की तिमाही के दौरान भारत आए हर चार में तीन स्मार्टफोन चीन के बने हुए थे।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

देश में 53 हजारी हुआ सोना, लगातार 9वें सत्र में तेजी जारी

घरेलू वायदा बाजार में सोने का भाव बुधवार को 53000 रुपये प्रति 10 ग्राम के पार फिर एक नई ऊंचाई पर चला गया। पीली धातु में लगातार नौवें सत्र में तेजी का सिलसिला जारी रहा। अमेरिकी डॉलर में जारी कमजोरी से अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सोने को लगातार सपोर्ट मिल रहा है। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर सोने के अगस्त वायदा अनुबंध में पिछले सत्र से 539 रुपये रुपये यानी 1.02 फीसदी की तेजी के साथ 53,130 रुपये प्रति 10 ग्राम पर कारोबार चल रहा था जबकि इससे पहले सोने का भाव 53,185 रुपये प्रति 10 ग्राम तक उछला जोकि अब तक का रिकॉर्ड स्तर है।

एमसीएक्स पर चांदी के सितंबर अनुबंध में पिछले सत्र से 261 रुपये यानी 0.40 फीसदी की तेजी के साथ 65,265 रुपये प्रति किलो पर कारोबार चल रहा था जबकि इससे पहले चांदी का भाव एमसीएक्स पर कारोबार के दौरान 65,749 रुपये प्रति किलो तक उछला।

बांग्लादेश बैंक ने 'विस्तारवादी एवं समायोजनकारी' मौद्रिक नीति की घोषणा की

बांग्लादेश के सेंट्रल बैंक ने वित्त वर्ष 2020-21 में घरेलू ऋण की वृद्धि दर 19.3 प्रतिशत के साथ निजी क्षेत्र में 14.80 प्रतिशत ऋण वृद्धि और सार्वजनिक क्षेत्र में यह दर 44.4 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया है। केंद्रीय बैंक ने एक 'विस्तारवादी एवं समायोजनकारी' मौद्रिक नीति स्टेटमेंट (एमपीएस) पेश किया है।

बांग्लादेश में सेंट्रल बैंक के गवर्नर फजले कबीर ने कहा कि 26 मार्च से 30 मई तक देशव्यापी अभूतपूर्व बंद के बाद कोविड-19 के प्रकोप के कारण देश में सभी के लिए बांग्लादेश बैंक (बीबी) द्वारा निर्बाध बैंकिंग और मोबाइल वित्तीय सेवाओं को प्रभावी रूप से बनाए रखा गया है।

कबीर ने बुधवार को एक बयान में कहा, वित्त वर्ष 2021 के लिए मौद्रिक नीति रुख और मौद्रिक कार्यक्रमों के मुख्य उद्देश्य कोविड-19 महामारी की प्रतिकूलता से अर्थव्यवस्था की रिकवरी और अर्थव्यवस्था की उत्पादन क्षमता का पुनरुद्धार है। इसमें मूल्य स्थिरता और गुणवत्ता वृद्धि के दोहरे लक्ष्यों को बनाए रखते हुए लोगों की सामान्य आजीविका की बहाली भी शामिल है।

दूसरी तिमाही में भारत आया हर 4 में से 3 स्मार्टफोन चीनी

देश में लॉकडाउन लगाए जाने के चलते आपूर्ति में दिक्कत आने और घरेलू उत्पादन में कमीं आने के बावजूद भी जून की तिमाही के दौरान भारत आए हर चार में तीन स्मार्टफोन चीन के बने हुए थे। गुरुवार को एक नई रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है। सीएमआर इंडिया के मोबाइल हैंडसेट मार्केट रिव्यू के मुताबिक, चीनी स्मार्टफोन ब्रांडों के सामने आने वाली चुनौतियों का का तत्काल लाभ सैमसंग को मिला जिसके पास यहां एक कुशल आपूर्ति श्रृंखला थी और इसी के साथ सैमसंग इस दूसरी तिमाही में अपने गिरते बाजार दर को बेहतर बनाने और मार्केट शेयर में 24 फीसदी तक सुधार करने के काबिल रहा।

सीएमआर के इंडस्ट्री इंटेलिजेंस ग्रुप के मैनेजर अमित शर्मा ने बताया, "यह देखना अभी बाकी है कि क्या आने वाले तिमाहियों में सैमसंग बाजार में अपनी परफॉर्मेंस को बनाए रख पाएगा, उपभोक्ताओं की मांग की पूर्ति कर पाएगा, चीनी स्मार्टफोन ब्रांडों के प्रभुत्व को चुनौती देकर उनके खिलाफ लड़ पाएगा।" इन सारी चीजों का असली परीक्षण तीसरी तिमाही में ही होगा।

गूगल के सुपर कंप्यूटर ने एआई परफॉर्मेंस का रिकॉर्ड तोड़ा

गूगल ने कहा है कि इसने दुनिया के सबसे तेज मशीन लर्निग (एमएल) ट्रेनिंग सुपर कंप्यूटर का निर्माण किया है जिसने इंडस्ट्री के अग्रणी एमएलपर्फ के आठ में से छह बेंचमार्क में एआई परफॉर्मेंस का रिकॉर्ड को तोड़ दिया है। इस सुपर कंप्यूटर के साथ-साथ नवीनतम टेन्सर प्रोसेसिंग यूनिट (टीपीयू) चिप का इस्तेमाल करते हुए गूगल ने नए परफॉर्मेंस रिकॉर्ड बनाया है।

गूगल एआई के नवीन कुमार ने बुधवार को एक बयान में कहा, "हमने टेन्सरफ्लो, जैक्स और लिंग्वो में एमएल मॉडल का इस्तेमाल करते हुए इस नतीजे को हासिल किया है। आठ में से चार मॉडल को तीस सेकेंड के अंदर स्क्रैच से प्रशिक्षित किया गया है।"

इस परिप्रेक्ष्य में साल 2015 में उपलब्ध सबसे उन्नत हार्डवेयर एक्सीलेरेटर पर इनमें से किसी एक मॉडल को प्रशिक्षित करने में तीन हफ्ते से अधिक का वक्त लगा। गूगल का लेटेस्ट टीपीयू सुपर कंप्यूटर उसी मॉडल को लगभग पांच साल बाद पांच गुना अधिक तीव्रता से प्रशिक्षित कर सकता है। एमएलपर्फ मॉडल को अत्याधुनिक मशीन लर्निग वर्कलोड के प्रतिनिधि के रूप में चुना जाता है जो कि इंडस्ट्री में आम बात है।

दिल्ली में डीजल 73.64 रुपये लीटर हुआ, 8.36 रुपये सस्ता

दिल्ली सरकार ने डीजल पर लगने वाले वैट को कम करने का निर्णय लिया है। डीजल पर अभी तक वैट की दर 30 फीसदी थी। अब इसे घटाकर 16.75 प्रतिशत कर दिया गया है। दिल्ली सरकार द्वारा उठाए गए इस कदम के बाद अब दिल्ली में डीजल पहले के मुकाबले काफी सस्ता हो गया है। डीजल की कीमतों में 8 रुपये से अधिक की कमी आएगी। दिल्ली सरकार का मानना है कि डीजल की कीमतों में कमी आने से अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलेगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा दिल्ली कैबिनेट ने डीजल पर लगने वाली वैट की दरों को 30 प्रतिशत से घटाकर 16.75 प्रतिशत करने का निर्णय लिया है। इस निर्णय से दिल्ली में डीजल की कीमत घटकर 73.64 रुपये हो जाएगी। डीजल 8.36 रुपये सस्ता होगा।

गौरतलब है कि दिल्ली में डीजल की मौजूदा कीमत पेट्रोल से भी अधिक थी। यही कारण रहा कि दिल्ली में पहली बार लगातार कई दिनों तक डीजल का मूल्य पेट्रोल से अधिक बना रहा। हालांकि गुरुवार को दिल्ली कैबिनेट द्वारा लिए गए निर्णय के बाद अब दिल्ली में डीजल की नई कीमतें लागू कर दी गई हैं जो कि पेट्रोल की कीमतों से काम है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय
next