अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: महंगाई के मोर्चे पर आम आदमी को तगड़ा झटका और ओप्पो ने लॉन्च किया किफायती स्मार्टफोन, कीमत मात्र...

बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच आम आदमी को एक बार फिर से महंगाई के मोर्चे पर तगड़ा झटका लगा है। स्मार्टफोन ब्रांड ओप्पो ने बुधवार को भारत में एक नया किफायती स्मार्टफोन-ए16के लॉन्च किया, जिसकी कीमत 10,490 रुपये है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

जेबीएल ने भारत में 25,999 रुपये में 'टूर सीरीज' हेडफोन पेश किया

फोटो: IANS
फोटो: IANS

ऑडियो उपकरण निर्माता जेबीएल बाय हरमन ने बुधवार को घोषणा की है कि उसने भारत में व्यावसायिक पेशेवरों के लिए 25,999 रुपये में जेबीएल टूर सीरीज का अनावरण किया है। टूर सीरीज को जेबीएल टूर वन ओवर-ईयर नॉइज कैंसिलिंग हेडफोन के साथ लॉन्च किया गया है और यह प्रमुख खुदरा विक्रेताओं और जेबीएल डॉट कॉम पर काले रंग में उपलब्ध होगा।

हरमन इंडिया के वाइस प्रेसिडेंट, लाइफस्टाइल, विक्रम खेर ने एक बयान में कहा, "प्रेरित करने के लिए डिजाइन किया गया, ये हेडफोन व्यावसायिक पेशेवरों के लिए लक्षित हैं जो लगातार चलते रहते हैं और अपने परिवेश का प्रबंधन करके अपनी उत्पादकता को बढ़ा सकते हैं।" ट्र एडेप्टिव नॉइज कैंसिलेशन के अलावा, जेबीएल टूर वन में जेबीएल प्रो साउंड, एम्बिएंट अवेयर, टॉकथ्रू तकनीक और क्रिस्टल क्लियर कॉल के लिए 4-माइक तकनीक है।

किफायती ओप्पो ए16के भारत में लॉन्च, कीमत 10,490 रुपये

फोटो: IANS
फोटो: IANS

एंट्री-लेवल हैंडसेट पेश करने के लिए स्मार्टफोन ब्रांड ओप्पो ने बुधवार को भारत में एक नया किफायती स्मार्टफोन-ए16के लॉन्च किया, जिसकी कीमत 10,490 रुपये है। स्मार्टफोन सभी चैनलों पर नीले, सफेद और काले रंग में 3 जीबी प्लस 32 जीबी स्टोरेज वेरिएंट में उपलब्ध है।

कंपनी ने एक बयान में कहा, "स्मार्टफोन उन उपभोक्ताओं की जरूरतों को पूरा करता है जो एक एंट्री-लेवल हैंडसेट की तलाश में हैं, जो स्टाइलिश और हल्का हो।" "स्मार्टफोन एआई पैलेट जैसे टूल के साथ रचनात्मक पोस्ट-प्रोडक्शन सहायता भी प्रदान करता है, जो इमेजिस को एक क्लिक के साथ लोकप्रिय संदर्भ इमेजिस की शैली में बदल सकता है।" स्मार्टफोन में 6.52 इंच का एचडी प्लस डिस्प्ले है। इसमें 13 एमपी का मुख्य कैमरा और 5 एमपी का सेल्फी कैमरा है।


शीर्ष अमेरिकी निकाय ने चेताया- क्रिप्टो घोटाला अब निवेशकों के लिए सबसे बड़ा खतरा

फोटो: IANS
फोटो: IANS

क्रिप्टोकरेंसी और डिजिटल संपत्ति 2022 में शीर्ष निवेशक खतरा होंगे। इससे पहले कि आप क्रिप्टोकरंसी में कूदें, ध्यान रखें कि क्रिप्टोकरेंसी और संबंधित वित्तीय उत्पाद पोंजी योजनाओं और अन्य धोखाधड़ी के लिए सार्वजनिक सामना करने वाले मोचरें से ज्यादा कुछ नहीं हो सकते हैं। एक शीर्ष अमेरिकी गैर-लाभकारी संगठन ने ये चेतावनी दी है। नॉर्थ अमेरिकन सिक्योरिटीज एडमिनिस्ट्रेटर एसोसिएशन (एनएएसएए) की एक नई रिपोर्ट के अनुसार, क्रिप्टोकरेंसी घोटाले 'अब तक' नंबर एक शीर्ष निवेशक खतरा हैं।

अलबामा सिक्योरिटीज कमीशन के निदेशक, प्रवर्तन अनुभाग समिति के सह-अध्यक्ष जोसेफ पी बोर्ग ने कहा, "नासा के प्रतिभूति नियामकों ने खुलासा किया कि क्रिप्टोकरेंसी और डिजिटल संपत्ति से संबंधित निवेश हमारे लिए शीर्ष निवेशक खतरा है।"

उन्होंने एक बयान में कहा, "एक्रिप्टो करोड़पतियों की कहानियों ने कुछ निवेशकों को इस साल क्रिप्टोकरैंक्स या क्रिप्टो-संबंधित निवेशों में निवेश करने के लिए आकर्षित किया और उनके साथ, बड़ा दांव लगाने और बड़ा हारने वालों की कई कहानियां दिखाई देने लगीं, और वे 2022 में दिखाई देते रहेंगे।" निवेश घोटाले का सबसे आम संकेत बिना किसी जोखिम के गारंटीड उच्च रिटर्न की पेशकश है।

दुनिया के सबसे अमीर अरबपतियों में से एक बने बायनेंस के सीईओ

फोटो: IANS
फोटो: IANS

एक क्रिप्टोकरेंसी सीईओ पृथ्वी पर सबसे अमीर लोगों में से एक बन गए हैं, सीएनएन ने इसकी जानकारी दी है। ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स की नई गणना के अनुसार, चांगपेंग 'सीजेड' झाओ, जो क्रिप्टो एक्सचेंज बायनेंस चलाते हैं, दुनिया के शीर्ष अरबपतियों के रैंक में शामिल हो गए हैं, इनकी अनुमानित कुल संपत्ति कम से कम 96.5 बिलियन डॉलर है।

झाओ का अनुमानित भाग्य अब ओरेकल के संस्थापक लैरी एलिसन के ठीक नीचे है और मुकेश अंबानी से आगे निकल गया है, जो भारतीय टाइकून हैं। चीनी-कनाडाई उद्यमी का उदय डिजिटल मुद्राओं की तेजी से बढ़ती दुनिया में धन के तेजी से निर्माण का प्रतीक है।

पिछले साल, अन्य क्रिप्टो संस्थापकों ने भी आभासी सिक्कों के मूल्य में भारी वृद्धि का आनंद लिया, एथेरियम निर्माता विटालिक ब्यूटिरिन और कॉइनबेस के संस्थापक ब्रायन आर्मस्ट्रांग दोनों अरबपति बन गए। सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, एफटीएक्स के सीईओ सैम बैंकमैन-फ्राइड ने मंगलवार को 'पिछले कुछ वर्षों में उद्योग में अभूतपूर्व धन सृजन हुआ है' की ओर इशारा किया।


महंगाई के मोर्चे पर तगड़ा झटका, खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 5.59 फीसदी पर पहुंचा

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच आम आदमी को एक बार फिर से महंगाई के मोर्चे पर तगड़ा झटका लगा है। दिसंबर महीने में खुदरा महंगाई दर में बड़ा इजाफा हुआ है। यह पिछले महीने के 4.91 फीसदी से बढ़कर 5.59 फीसदी हो गई है। यह पांच माह का उच्च स्तर है।

सरकार ने जो ताजा आंकड़े जारी किए हैं उसके मुताबिक नवंबर के मुकाबले दिसंबर महीने में खुदरा महंगाई दर में इजाफा हुआ है। नवंबर में खुदरा महंगाई दर 4.91 फीसदी थी, तो वहीं दिसंबर में ये आंकड़ा बढ़कर 5.59 फीसदी के स्तर पर जा पहुंचा है। खाने के तेल, महंगी साग-सब्जियों और महंगे पेट्रोल, डीजल के अलावा बिजली के बढ़ती कीमतों के कारण दिसंबर महीने में खुदरा महंगाई दर में बड़ी बढ़ोतरी देखी जा रही है। केंद्र सरकार ने सांख्यिकी मंत्रालय ने ये आंकड़े जारी किए हैं।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia