अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: आर्थिक मोर्चे पर एक और झटका, इन प्रमुख उद्योगों के उत्पादन में 23 फिसदी की गिरावट, शेयर बाजार भी टूटा

भारत के आठ प्रमुख उद्योगों के उत्पादन की रफ्तार में मई 2020 में 23 प्रतिशत से अधिक की गिरावट दर्ज की गई है। यह जानकारी मंगलवार को सरकारी आंकड़ों से सामने आई है। आज सुबह हरे निशान में खुले भारतीय शेयर बाजार अंतिम एक घंटे में बिकवाली के कारण गिरकर लाल निशान में बंद हुए।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

भारत का कोर औद्योगिक उत्पादन 23 प्रतिशत की गिरावट

भारत के आठ प्रमुख उद्योगों के उत्पादन की रफ्तार में मई 2020 में 23 प्रतिशत से अधिक की गिरावट दर्ज की गई। यह जानकारी मंगलवार को सरकारी आंकड़ों से सामने आई है। हालांकि आठ प्रमुख उद्योगों के सूचकांक में गिरावट की दर मई 2020 के दौरान आर्थिक गतिविधियों के आंशिक रूप से खोले जाने के कारण एक क्रमिक आधार पर धीमी हुई है।क्रमिक आधार पर आठ प्रमुख उद्योगों का सूचकांक मई 2020 के लिए 23.4 प्रतिशत (प्रोविजनल) तक गिर गया। जबकि इसके पहले अप्रैल 2020 के दौरान यह 37 प्रतिशत (प्रोविजनल) गिरा था।आठ प्रमुख उद्योगों (ईसीआई) में कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, रिफायनरी उत्पाद, उर्वरक, इस्पात, सीमेंट और विद्युत शामिल हैं। औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) में शामिल आइटम्स का 40 प्रतिशत हिस्सा ईसीआई का है। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने एक बयान में कहा है, "कोविड-19 महामारी के कारण अप्रैल और मई में लागू राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के मद्देनजर विभिन्न उद्योगों जैसे कोयला, सीमेंट, इस्पात, प्राकृतिक गैस, रिफायनरी, कच्चा तेल आदि का उत्पादन काफी गिरा है।"बयान में कहा गया है, "फरवरी 2020 के लिए आठ प्रमुख उद्योगों के सूचकांक की अंतिम वृद्धि दर संशोधित कर 6.4 प्रतिशत की गई है।"

बढ़त के बाद बाजार में गिरावट, फिर 35 हजार अंक के नीचे बंद हुआ सेंसेक्स

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन से पहले निवेशकों द्वारा सतर्कता बरतने से शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव रहा। मंगलवार को बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स दिन में कारोबार के दौरान एक समय 272.39 अंक चढ़ गया था। अंत में सेंसेक्स 45.72 अंक या 0.13 प्रतिशत के नुकसान के साथ 34,915.80 अंक पर बंद हुआ।

इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 10.30 अंक या 0.10 प्रतिशत के नुकसान से 10,302.10 अंक पर बंद हुआ।

विश्व बैंक का तमिलनाडु में आवासीय परियोजना के समझौतों पर हस्ताक्षर

विश्व बैंक ने तमिलनाडु में सस्ती आवासीय परियोजना विकसित करने में निजी क्षेत्र की भूमिका को बढ़ावा देने के लिए 25 करोड़ डालर के समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। विश्व बैंक, भारत सरकार और तमिलनाडु राज्य सरकार के बीच सोमवार को समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए।

वल्र्ड बैंक ने कहा कि इसके इंटरनेशनल बैंक फॉर रिकंस्ट्रक्शन एंड डेवलपमेंट के माध्यम से उपलब्ध कराए जाने वाले फंड में से दो आपरेशन में से पहले में 20 करोड़ डॉलर पहले तमिलनाडु आवासीय परियोजना क्षेत्र सशक्तीकरण कार्यक्रम में लगाए जाएंगे।

पहला ऑपरेशन किफायती आवास की उपलब्धता को बढ़ाने में राज्य की मुख्य प्रदाता की भूमिका को सामथ्र्य प्रदान करने वाले की भूमिका में बदलाव के सरकार के प्रयासों का समर्थन करता है। बैंक के अनुसार, दूसरा ऑपरेशन किफायती आवासीय क्षेत्र को उस राज्य में अधिक कुशल और समावेशी बनाने का प्रयास करेगा जो भारत में सबसे अधिक शहरीकृत है।

चीन से सोलर गियर आयात को दोहरे कराधान का सामना

चीन जैसे देशों से बड़े पैमाने पर आया किए जाने वाले सौर उपकरण जल्द ही दोहरे कराधान के तहत आ सकते हैं, क्योंकि व्यापार उपचार महानिदेशालय (डीजीटीआर) 29 जुलाई के बाद भी सौर बैटरी और मॉड्यूल के आयात पर 15 प्रतिशत सेफगार्ड ड्यूटी (एसजीडी) जारी रखने पर विचार कर रहा है। डीजीटीआर एसजीडी के विस्तार पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए तीन जुलाई को मौखिक सुनवाई करने वाला है। यदि एसजीडी के विस्तार का निर्णय लिया जाता है तो अगस्त से सौर उपकरण के आयात को दोहरे कराधान का सामना करना पड़ सकता है। विद्युत मंत्रालय ने पहले ही कह दिया है कि सौर मॉड्यूल पर 20-25 प्रतिशत बेसिक सीमा शुल्क लागू होगा और सौर बैटरी पर 15-20 प्रतिशत।

डीजीटीआर की मौखिक सुनवाई इसके पहले 11 जून, 2020 को होने वाली थी, लेकिन खास प्रशासनिक मजबूरियों के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था। अब जुलाई के प्रथम सप्ताह में होने वाली सुनवाई में स्पष्ट हो जाएगा कि सेफगार्ड ड्यूटी की मियाद बढ़ती है या नहीं।

ओला ने दुनिया भर में पेश किया अपना 'टिपिंग' फीचर

भारत का अग्रणी मोबिलिटी प्लेटफॉर्म और दुनिया की सबसे बड़ी राइड-हेलिंग कंपनियों में से एक, ओला ने एक ग्लोबल फीचर की शुरूआत की है। इसमें ग्राहकों को ये सुविधा मिलती है कि वे राइड का सुरक्षित और शानदार अनुभव देने वाले अपने ड्राइवर के प्रति आभार जता सकें और उसे अपनी तरफ से कुछ ईनाम दे सकें। ओला ऐप के इस नए 'टिपिंग' फीचर की मदद से ग्राहक राइड का बेहतरीन अनुभव देने के लिए ड्राइवर की प्रतिबद्धता के टोकन के तौर पर और उसे प्रोत्साहन देने के लिए उसे अपनी तरफ से टिप दे सकते हैं। यह फीचर भारत, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और यूनाइटेड किंगडम के ओला ग्राहकों के लिए शुरू किया गया है।

देश भर में प्रतिबंधों में दी गई ढील के बाद ओला प्लेटफॉर्म से जुड़े ड्राइवर सुरक्षित, साफ-सुथरी और बेहतरीन राइड देने के लिए बिल्कुल तैयार हैं। एक व्यापक सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन करने और हर ट्रिप के बाद अपनी कार को सैनिटाइज करने के अलावा ड्राइवर खुद को और अपने परिवारों को सुरक्षित रखने के लिए निजी तौर पर अतिरिक्त सावधानी बरतने लगे हैं।

पेट्रोल, डीजल के दाम स्थिर, कच्चा तेल भी नरम

पेट्रोल और डीजल के दाम में मंगलवार को स्थिरता बनी रही। उधर, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में भी नरमी बनी हुई थी, जिससे पेट्रोल और डीजल कीमतें आगे और बढ़ने की संभावना कम है। तेल विपणन कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल के दाम में कोई बदलाव नहीं किया। इस महीने सात जून से पेट्रोल की कीमतों तकरीबन रोजाना इजाफा हुआ। बीते 23 दिनों में 22 बार डीजल के दाम में वृद्धि हुई जबकि पेट्रोल की कीमत में 21 बार वृद्धि हुई है।

देश की राजधानी दिल्ली में इस महीने डीजल के दाम में 11.14 रुपये लीटर इजाफा हुआ है जबकि पेट्रोल की कीमत 9.17 रुपये लीटर बढ़ गई है। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में इस समय पेट्रोल से उंचे भाव पर डीजल मिल रहा है।

इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल का भाव बिना किसी बदलाव के क्रमश: 80.43 रुपये, 82.10 रुपये, 87.19 रुपये और 83.63 रुपये प्रति लीटर बना हुआ है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय