अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: आयकर रिटर्न दाखिल करने की आखिरी तिथि बढ़ी और किसी भी ATM से कैश निकालने पर चार्ज नहीं

कोरोना के प्रकोप के कारण लोगों की कठिनाइयों को ध्यान में रखते हुए सरकार ने आयकर रिटर्न भरने की आखिरी तारीख बढ़ाकर 30 जून कर दी है। आधार-पैन लिंक का समय भी बढ़ाकर 30 जून कर दिया गया है। अगले 3 महीने के लिए ATM से कैश निकालना फ्री कर दिया गया है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

आयकर रिटर्न दाखिल करने की आखिरी तिथि 30 जून तक बढ़ी

कोरोना के प्रकोप के कारण लोगों की कठिनाइयों को ध्यान में रखते हुए सरकार ने आयकर रिटर्न भरने की आखिरी तारीख बढ़ाकर 30 जून कर दी है। यह जानकारी केंद्रीय वित्त मंत्रालय की ओर से मंगलवार को दी गई। वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए मीडिया को संबोधित करते हुए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि सरकार ने टीडीएस जमा में विलंब पर ब्याज दर 18 फीसदी से घटाकर नौ फीसदी कर दिया है। सरकार ने आधार और पैन को लिंक करने की आखिरी तारीख भी 31 मार्च से बढ़ाकर 30 जून कर दी है।

कोरोना वायरस के संक्रमण की बढ़ती संख्या को देखते हुए देश में आर्थिक गतिविधियां थम सी गई है और राज्यों ने लॉकडाउन कर रखा है। इन हालात को देखते हुए सरकार ने आयकरदाताओं को आयकर रिटर्न भरने की अवधि बढ़ाकर राहत दी है।

कोरोना: किसी भी बैंक ATM से कैश निकालने पर चार्ज नहीं

कोरोना को लेकर लोगों और कारोबार जगत को राहत देने के लिए सरकार जल्द ही राहत पैकज देगी। सरकार ने टैक्स संबंधी कई मसलों के अनुपालन के लिए समय 31 मार्च से बढ़ाकर जून अंत तक कर दिया है। आधार-पैन लिंक का समय भी बढ़ाकर 30 जून कर दिया गया है। अगले 3 महीने के लिए ATM से कैश निकालना फ्री कर दिया गया है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह जानकारी दी है। वित्त वर्ष 2018-19 के लिए आईटी रिटर्न की सीमा बढ़ाकर 30 जून तक कर दी गई है। इस पर ब्याज दर में भी कमी की गई है। जीएसटी फाइ लिंग डेट को भी आगे बढ़ाकर 30 जून किया गया ताकि छोटे एवं मध्यम कारोबारियों को राहत मिल सके। इसी तरह विवाद से विश्वास स्कीम का समय भी बढ़ाकर जून तक कर दिया गया है।

Infosys को राहत, US में व्हिसल ब्लोअर के आरोपों की पूरी हुई जांच

बीते साल व्हिसल ब्लोअरों के एक समूह ने देश की दिग्‍गज आईटी कंपनी इन्फोसिस के मैनेजमेंट में कई गंभीर आरोप लगाए थे। अमेरिकी प्रतिभूति और विनिमय आयोग (एसईसी) ने आरोपों में जांच पूरी कर ली है। ये जानकारी खुद इन्फोसिस ने दी है। इन्फोसिस ने मंगलवार को शेयर बाजार को बताया कि उसे एसईसी से एक नोटिफिकेशन मिला है।

इस नोटिफिकेशन में कहा गया है कि उसकी जांच खत्म हो गई है। इन्फोसिस ने कहा, "कंपनी को इस मामले पर एसईसी से आगे किसी भी की कार्रवाई का अनुमान नहीं है।" इन्फोसिस की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक उसने भारतीय नियामक अधिकारियों से मिले सभी सवालों के जवाब दे दिए हैं और वह अधिकारियों के साथ सहयोग जारी रखेगी।

चीन में ऑनलाइन भर्ती में 2.1 लाख रोजगार के मौके

चीन में ऑनलाइन भर्ती में 2.1 लाख रोजगार के मौके हैं। दो मार्च से शुरू हुए अभियान में इसके बाद 20 दिनों में लगभग 3200 उद्यमों ने इस गतिविधि में भाग लिया और दो लाख से ज्यादा पद प्रदान किए। 2 मार्च से शुरू होकर अब तक के 20 से अधिक दिनों में, राष्ट्रीय उद्यमों और निजी उद्यमों ने 31 ऑनलाइन चैनलों के माध्यम से रोजगार मुहैया कराया। जॉब पेज व्यूज की संख्या 18.56 मिलियन से अधिक हो गई और अब तक कुल 7.5 लाख बायोडाटा प्राप्त हुए हैं।

हुवेई में 77 प्रतिशत उद्यमों का उत्पादन बहाल

कृषि मंत्रालय ने हुपेइ प्रांत की मांग के अनुसार हुपेइ के लिए 7 लाख टन उर्वरक तैयार किया है और हुपेइ को राष्ट्रीय आपदा और अकाल के लिए रिजर्वड 37 लाख 80 हजार किलो बीजों का प्रयोग करने की मंजूरी दी है। हुपेइ प्रांत 77 अहम कृषि सामग्री उद्यमों में से 77 प्रतिशत उद्यमों का उत्पादन बहाल हो चुका है। देश भर में कृषि उत्पदान सामग्री की आपूर्ति सुनिश्चित है। इसके अलावा हुपेइ प्रांत में कृषि उत्पादन की सप्लाई भी तेजी से बहाल हो रही है।

ये चीन में रबी की फसल रोपाई का समय है। कृषि मंत्रालय के बीज प्रबंधन विभाग के जिम्मेदार अधिकारी श्ये येन ने बताया कि वर्तमान में कृषि उत्पादन सामग्री से जुड़े 88 प्रतिशत उद्यमों का कामकाज बहाल हो चुका है। 90 प्रतिशत कृषि सामग्री दुकानें खुल गई हैं। 92 प्रतिशत काउंटी स्तरीय मार्ग बाधा रहित है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय