अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: रेपो दर बढ़ाने से वाहन उद्योग को झटका और वेदांतु ने 200 कर्मचारियों को निकाले

फाडा का कहना है कि रेपो दर में 40 आधार अंक की बढ़ोतरी करने की भारतीय रिजर्व बैंक की घोषणा वाहन उद्योग पर प्रतिकूल प्रभाव डालेगी। कर्मचारियों की छंटनी करने वाले स्टार्टअप में अब नया नाम वेदांतु का जुड़ गया है, जो करीब 200 कर्मचारियों को निकाल रहा है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

एनएफटी की बिक्री में 92 फीसदी की गिरावट

फोटो: IANS
फोटो: IANS

आये दिनों नॉन फंजिबल टोकन यानी एनएफटी की बिक्री से काफी कमाने की बात होती रहती है लेकिन अगर ताजा आंकड़ों को देखें तो यह चौंकाने वाला खुलासा हुआ है कि गत साल सितंबर से इनकी बिक्री 92 फीसदी घट गई है।

वॉल स्ट्रीट जर्नल ने नॉन फंजिबल वेबसाइट के आंकड़ों का हवाला देते हुये बताया है कि सितंबर 2021 में एनएफटी बिक्री का प्रतिदिन का औसत 2,25,000 था लेकिन इस सप्ताह यह करीब 19,000 बिक्री प्रतिदिन ही रह गया।

इस तरह बिक्री के दैनिक आंकड़ों में 92 प्रतिशत की तेज गिरावट दर्ज की गई है। रिपोर्ट के अनुसार, एनएफटी बाजार में सक्रिय वॉलेट की संख्या भी नवंबर 2021 के 1,19,000 से 88 प्रतिशत घटकर गत सप्ताह करीब 14,000 ही रह गई।

वेदांतु ने 200 कर्मचारियों की छंटनी की

फोटो: IANS
फोटो: IANS

कोरोना महामारी के दौरान तेजी से कारोबार विस्तार करने वाले शिक्षा क्षेत्र के स्टार्टअप का अभी बुरा दौर चल रहा है और कई एडुटेक कंपनियों को इसके कारण भारी संख्या में कर्मचारियों की छंटनी करनी पड़ रही है। कर्मचारियों की छंटनी करने वाले स्टार्टअप में अब नया नाम वेदांतु का जुड़ गया है, जो करीब 200 कर्मचारियों को निकाल रहा है।

वेदांतु ने आईएएनएस को गुरुवार को बताया कि उसके छह हजार से अधिक कर्मचारी हैं, जिनमें से संविदा पर काम कर रहे 120 कर्मचारियों और 80 फुल टाइम शिक्षक या सहायक शिक्षकों का दोबारा मूल्यांकन किया जा रहा है। वेदांतु का कहना है कि वह इनके साथ हर साल शैक्षणिक सत्र की शुरूआत में ही करार करता है।


भारतीय ग्राहक कर रहे वर्चुअल उत्पादों की खरीदारी

मेटावर्स से जुड़ी चर्चाओं के बीच भारत सहित दुनिया भर के करीब 64 प्रतिशत उपभोक्ताओं ने बीते एक साल में वर्चुअल उत्पादों की खरीद की या वर्चुअल वर्ल्ड का अनुभव लिया। एक्सेंचर की गुरुवार को जारी नई रिपोर्ट के अनुसार, इन उपभोक्तओं का आंकड़ा जल्द ही बढ़कर 83 प्रतिशत हो जायेगा। अधिकतर उपभोक्ता अब मेटावर्स में खरीदारी करने में रूचि ले रहे हैं।

भारत सहित दुनिया भर के प्रतिभागियों में से 42 प्रतिशत ने कहा कि वे किसी वस्तु की खरीद के लिये वर्चुअल दुनिया में रिटेलर के पास या तो सलाह लेने गये, या भुगतान करने गये या उत्पाद की ब्राउजिंग करने गये।

रेपो दर बढ़ाने की घोषणा वाहन उद्योग के प्रतिकूल : फाडा

फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन (फाडा) का कहना है कि रेपो दर में 40 आधार अंक की बढ़ोतरी करने की भारतीय रिजर्व बैंक की घोषणा वाहन उद्योग पर प्रतिकूल प्रभाव डालेगी। फाडा के अध्यक्ष विकेंश गुलाटी ने कहा कि रेपो दर में बढोतरी करने से अब वाहन ऋण महंगा हो जायेगा।

उन्होंने कहा कि अभी वाहन उद्योग गिरावट के दौर से ठीक से उबरा भी नहीं है कि आरबीआई ने यह घोषणा कर दी। यह बिल्कुल ही अप्रत्याशित घोषणा थी, जिसने एकबारगी सबको चौैंका दिया। उन्होंने कहा कि अप्रैल 2019 की कुल खुदरा बिक्री की तुलना में अप्रैल 2022 के बिक्री के आंकड़ें अब भी छह प्रतिशत की गिरावट में हैं।


जगह की तलाश कर रहे स्टार्टअप्स के लिए एक हब के तौर पर उभर रहा गुरुग्राम

फोटो: IANS
फोटो: IANS

भारत में कुल मिलाकर 61,400 स्टार्टअप और 83 यूनिकॉर्न हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 16 जनवरी को राष्ट्रीय स्टार्टअप दिवस की घोषणा के बाद यह संख्या लगातार बढ़ने वाली है। यह उस विश्वास को भी दर्शाता है जो सरकार को स्टार्टअप और यूनिकॉर्न पर है। इसे विश्वास है कि इसमें जीडीपी और रोजगार सृजन में योगदान के माध्यम से भारतीय अर्थव्यवस्था की गतिशीलता को बदलने की क्षमता है।

सरकार ने 2021 में 14,000 नए स्टार्टअप को मान्यता दी थी। जनवरी 2022 तक, भारत के 83 यूनिकॉर्न की वैल्यूएशन 277 अरब अमेरिकी डॉलर तक आंकी गई है। कई रिपोर्ट्स यह भी बताती हैं कि भारत में जल्द ही कम से कम 50 और यूनिकॉर्न देखने को मिलेंगे। कोई आश्चर्य नहीं कि भारत अमेरिका और चीन के बाद दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप इकोसिस्टम बनकर उभरा है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia