अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: कच्चे तेल में गिरावट, लेकिन ग्राहकों को राहत का इंतजार और जानें शेयर बाजार का हाल

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में इस महीने 15 से 16 फीसदी तक की गिरावट आ चुकी है। कमजोर कारोबारी रुझानों के बीच बुधवार को सेंसेक्स 171 अंक फिसल कर 38,194 पर बंद हुआ और निफ्टी बीते सत्र से 39 अंक नीचे 11,278 पर ठहरा।

फोटो : IANS
फोटो : IANS
user

नवजीवन डेस्क

सेंसेक्स 171 अंक फिसलकर बंद हुआ, 11,278 पर निफ्टी

कमजोर कारोबारी रुझानों के बीच बुधवार को सेंसेक्स 171 अंक फिसल कर 38,194 पर बंद हुआ और निफ्टी बीते सत्र से 39 अंक नीचे 11,278 पर ठहरा। विदेशी बाजारों से भी उत्साहवर्धक संकेत नहीं मिलने से घरेलू शेयर बाजार में निवेशकों का रुझान कमजोर रहा। सेंसेक्स पिछले सत्र से 171.43 अंकों यानी 0.45 फीसदी की गिरावट के साथ 38,193.92 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी बीते सत्र से 39.35 अंकों यानी 0.35 फीसदी की गिरावट के साथ 11,278 पर बंद हुआ।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 376.79 अंकों की गिरावट के साथ 37,988.56 पर खुला और 37,935.26 तक लुढ़का, जबकि दिनभर के कारोबार के दौरान सेंसेक्स का ऊपरी स्तर 38,252.67 रहा।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी 98.75 अंकों की गिरावट के साथ 11,218.60 पर खुला और 11,185.15 तक लुढ़का, जबकि दिनभर के कारोबार के दौरान निफ्टी का ऊपरी स्तर 11,298.15 रहा।

कच्चे तेल में गिरावट से पेट्रोल, डीजल में राहत मिलने के आसार


डीजल के दाम में बुधवार को लगातार दूसरे दिन स्थिरता बनी रही जबकि पेट्रोल के दाम में एक सितंबर के बाद से कोई बदलाव नहीं हुआ है। हालांकि कच्चे तेल के दाम में हालिया गिरावट के बाद तेल विपणन कंपनियां पेट्रोल और डीजल के दाम में आने वाले दिनों में कटौती कर सकती है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में इस महीने 15 से 16 फीसदी तक की गिरावट आ चुकी है। तेल विपणन कंपनियां अगर इस गिरावट के बाद पेट्रोल और डीजल के दाम में कटौती करती है तो आम उपभोक्ताओं को महंगाई से थोड़ी राहत मिलेगी।

एंजेल ब्रोकिंग के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट (एनर्जी व करेंसी) अनुज गुप्ता बताते हैं कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतों में आई हालिया गिरावट का असर पेट्रोल और डीजल के दाम में अगले सप्ताह तक देखने को मिल सकता है। उन्होंने कहा कि अगर कच्चे तेल के दाम में गिरावट का सिलसिला दो हफ्ते तक जारी रहा तो आने वाले दिनों में पेट्रोल और डीजल एक से दो रुपये प्रति लीटर तक सस्ते हो सकते हैं।

रिलायंस रिटेल में 7500 करोड़ रुपये का निवेश करेगा सिल्वर लेक


रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) ने बुधवार को घोषणा की है कि रिलायंस रिटेल वेन्चर्स लिमिटेड (आरआरवीएल) में सिल्वर लेक 1.75 प्रतिशत की इक्विटी के लिए 7,500 करोड़ रुपये का निवेश करेगा। इस सौदे में रिलायंस रिटेल की प्री-मनी इक्विटी मूल्य 4.21 लाख करोड़ रुपये आंकी गई है। जियो प्लेटफॉर्म्स में निवेश के बाद सिल्वर लेक अब रिलायंस रिटेल में भी निवेश कर रहा है। सिल्वर लेक को दुनिया में टेक्नॉलोजी सेक्टर के सबसे बड़े निवेशकों में माना जाता है। सिल्वर लेक का रिलायंस रिटेल में निवेश करना इस बात का साफ संकेत है कि रिलायंस रिटेल भारतीय रिटेल सेक्टर में बड़े खिलाड़ी के रूप में उभरा है। हाल ही में रिलायंस रिटेल ने फ्यूचर ग्रुप का अधिग्रहण किया था।

सिल्वर लेक इससे पहले, 1.35 अरब डॉलर यानी करीब 10,200 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश जियो प्लेटफॉर्म्स में कर चुका है। रिलायंस रिटेल और जियो प्लेटफॉर्म्स का कुल वैल्यूएशन 9 लाख करोड़ रुपये पार कर गया है।

2020 राष्ट्रीय उपभोग संवर्धन माह की गतिविधि पेइचिंग में शुरू


चीनी वाणिज्य मंत्रालय और सीएमजी द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित 2020 राष्ट्रीय उपभोग संवर्धन माह यानी पेइचिंग फेशनबल उपभोग माह, 8 सितंबर की रात को पेइचिंग के छ्येनमन वॉकिंग स्ट्रीट में शुरू हुआ। इस गतिविधि की थीम है 100 शहरों और लाखों उद्यमों द्वारा उपभोग का संवर्धन करना। 9 सितंबर से 8 अक्तूबर के बीच चीन के 1 लाख से अधिक उद्यम और 20 लाख से ज्यादा ऑनलाइन और ऑफलाइन दुकानें इस गतिविधि में हिस्सा लेंगी। मौके पर चीन के विभिन्न शहरों में विविधतापूर्ण गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा।

उदाहरण के लिए शनजन में वैज्ञानिक व तकनीक और फेशनबल उपभोग दो थीम के प्रदर्शन क्षेत्रों का तैनात किया जाएगा, जहां रोज हजारों रोबोट प्रदर्शन, फैशन शो, सांस्कृतिक गतिविधियां आदि आयोजित होंगी। थ्येनचिन शहर के प्रदर्शन क्षेत्रों में उपभोक्ता सामान खरीदकर सीधे कूरियर के जरिए घर वापस भेज सकते हैं।

इस अगस्त में चीन की सीपीआई में 2.4 प्रतिशत की वृद्धि


चीनी राजकीय सांख्यिकी ब्यूरो द्वारा 9 सितंबर को जारी आंकड़ों के अनुसार, इस अगस्त में राष्ट्रीय नागरिक उपभोग कीमत सूचकांक (सीपीआई) पिछले साल की समान अवधि से 2.4 प्रतिशत बढ़ा और वृद्धि दर में पिछले महीने से 0.3 प्रतिशत की गिरावट हुई। इस अगस्त में खाद्य उत्पाद, तंबाकू और शराब के सामानों के मूल्यों में पिछले साल की तुलना में 8.8 प्रतिशत इजाफा हुआ, जिसने सीपीआई की वृद्धि में 2.71 प्रतिशत का योगदान दिया। उल्लेखनीय बात है कि सुअर के मांस की कीमत पिछले साल की समान अवधि से 52.6 प्रतिशत बढ़ी और सब्जियों की कीमत 11.7 प्रतिशत बढ़ी। यातायात व दूरसंचार, आवास, कपड़े और जीवन उपयोगी वस्तुओं के मूल्यों में गिरावट आयी है।

उधर, इस अगस्त में प्रोड्यूसर प्राइस इंडेक्स यानी पीपीआई पिछले साल की समान अवधि से 2 प्रतिशत कम हुआ और गिरावट का पैमाना पिछले महीने से 0.4 प्रतिशत कम हुआ ।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय
next