अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: लगातार 14वें दिन बढ़े तेल के दाम और उर्जित पटेल को मिली नई जिम्मेदारी

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में आई तेजी के चलते दो सप्ताह से पेट्रोल और डीजल के दाम वृद्धि का सिलसिला लगातार जारी है। तेल विपणन कंपनियों ने शनिवार को 14वें दिन पेट्रोल और डीजल कीमतें बढ़ाईं। रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर उर्जित पटेल को नई जिम्मेदारी मिली है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

लगातार 14वें दिन बढ़े तेल के दाम, 8 रुपये से भी ज्यादा महंगा हुआ डीजल

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में आई तेजी के चलते दो सप्ताह से पेट्रोल और डीजल के दाम वृद्धि का सिलसिला लगातार जारी है। तेल विपणन कंपनियों ने शनिवार को 14वें दिन पेट्रोल और डीजल कीमतें बढ़ाईं। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में पिछले सत्र में बेंचमार्क कच्चा तेल ब्रेंट क्रूड का भाव 42 डॉलर से उपर तक उछला। बीते एक महीने ब्रेंट कड्र के दाम में 18 फीसदी की तेजी आई है।

दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल की कीमतों में क्रमश: 51 पैसे, 49 पैसे, 49 पैसे और 45 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी हो गई। डीजल के दाम में चारों महानगरों में क्रमश: 61 पैसे, 54 पैसे, 58 पैसे और 52 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई है।

97 प्रतिशत लोग प्रमुख चीनी ब्रांड्स का बहिष्कार करेंगे : लोकल सर्कल्स

लोकल सर्कल्स के एक सर्वेक्षण के अनुसार, देश में चीन विरोधी मनोदशा के मद्देनजर 97 प्रतिशत लोगों का कहना है कि वे प्रमुख चीनी ब्रांडों जैसे कि शाओमी, वीवो, ओप्पो, वीचैट, टिकटॉक का बहिष्कार करेंगे। वहीं 87 फीसदी भारतीयों का कहना है कि वे हालिया भारत-चीन विवाद के बाद अगले एक साल तक चीनी उत्पादों का बहिष्कार करने को तैयार हैं, जबकि 78 प्रतिशत नागरिक सरकार द्वारा चीनी आयात पर 200 प्रतिशत शुल्क लगाने का समर्थन करते हैं।

करीब 90 प्रतिशत भारतीयों का कहना है कि चीन में उत्पादित सभी उत्पादों को अनिवार्य रूप से बीआईएस, सीआरएस, सीडीएससीओ, एफएसएसएआई या प्रासंगिक इंडियन स्टैंडर्ड प्रमाणीकरण के साथ भारत में बेचा जाना चाहिए।

आखिरी सत्रों में लौटी रौनक से करीब 3 फीसदी चढ़े सेंसेक्स, निफ्टी

कोरोना के गहराते कहर और भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर दोनों देशों के बीच तनाव के बावजूद घरेलू शेयर बाजार में इस सप्ताह रौनक रही। सप्ताह के आखिरी दो सत्रों में आई जोरदार लिवाली से सेंसेक्स और निफ्टी दोनों पिछले सप्ताह के मुकाबले तकरीबन तीन फीसदी की तेजी के साथ बंद हुए। विदेशी बाजारों से मिले सकारात्मक संकेतों से भी घरेलू बाजार को प्रोत्साहन मिला। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सप्ताह से 950.84 अंकों यानी 2.81 फीसदी की तेजी के साथ 34,731.73 पर बंद हुआ। वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी पिछले सप्ताह के मुकाबले 271.50 अंकों यानी 2.72 फीसदी की तेजी के साथ 10,244.40 पर बंद हुआ।

बीएसई मिडकैप सूचकांक पिछले सप्ताह के मुकाबले 203.69 अंकों यानी 1.62 फीसदी की तेजी के साथ 12,803.84 पर बंद हुआ, जबकि स्मॉलकैप सूचकांक पिछले सप्ताह के मुकाबले जोरदार 431.84 अंकों यानी 3.65 फीसदी की तेजी के साथ 12,277.11 पर बंद हुआ।

PMC बैंक पर प्रतिबंध 6 माह के लिए बढ़ा, कैश निकालने की लिमिट में इजाफा

आरबीआई की पाबंदी झेल रहे पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (पीएमसी) बैंक के ग्राहकों के लिए एक बुरी और एक राहत की खबर है। दरअसल, रिजर्व बैंक ने पीएमसी बैंक पर लगे प्रतिबंध को 6 माह के लिए बढ़ा दिया है। वहीं ग्राहकों को राहत देते हुए कैश निकालने की लिमिट बढ़ा दी है। अब बैंक के डिपॉजिटर्स 1 लाख रुपये तक निकाल सकेंगे। अब तक ये लिमिट 50 हजार रुपये की थी। आरबीआई के इस फैसले से करीब 84 फीसदी डिपॉजिटर्स को राहत मिलेगी।

3 महीने के लिए बैंक के प्रतिबंध की अवधि बढ़ा दी थी। दरअसल, 23 सितंबर, 2019 को आरबीआई ने पीएमसी बैंक पर 6 महीने के लिए प्रतिबंध लगाया था। इस प्रतिबंध की अवधि 22 मार्च 2020 को खत्म होने वाली थी। इस अवधि के समाप्त होने के कुछ दिन पहले प्रतिबंध को 3 महीने के लिए बढ़ा दिया गया। अब नए बदलाव के बाद प्रतिबंध के समाप्त होने की नई डेडलाइन 22 दिसंबर 2020 है।

उर्जित पटेल को मिली नई जिम्मेदारी

रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर उर्जित पटेल को नई जिम्मेदारी मिली है। दरअसल, उर्जित पटेल नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक फाइनेंस एंड पॉलिसी (एनआईपीएफपी) के चेयरमैन नियुक्त किए गए हैं। उर्जित पटेल से पहले इस पद पर विजय केलकर थे। केलकर ने 2014 में पद संभाला था। बहरहाल, उर्जित पटेल 22 जून को एनआईपीएफपी के चेयरमैन पद को संभालेंगे।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय