अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: शेयर बाजार को रास नहीं आया राहत पैकेज, सेंसेक्स और निफ्टी दोनों धड़ाम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इकोनॉमी को बूस्‍टर डोज के तौर पर 20 लाख करोड़ के पैकेज का पिछले हफ्ते ऐलान किया था। लेकिन लगता है शेयर बाजार को ये पैकेज रास नहीं आया है। आज खुलते ही शेयर बाजार लाल निशान में पहुंच गया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

शेयर बाजार को रास नहीं आया राहत पैकेज, सेंसेक्स और निफ्टी दोनों धड़ाम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इकोनॉमी को बूस्‍टर डोज के तौर पर 20 लाख करोड़ के पैकेज का पिछले हफ्ते ऐलान किया था। इसके बाद लगातार पांच दिन वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर इससे परदा पूरी तरह से हटा दिया है। लेकिन लगता है शेयर बाजार को ये पैकेज रास नहीं आया है। आज खुलते ही शेयर बाजार लाल निशान में पहुंच गया। थोड़ी ही देर में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का सेंसेक्स करीब 972 अंकों की गिरावट के साथ 30,125 पर पहुंच गया। कारोबार के अंत में सेंसेक्स 1,068.75 अंक टूटकर 30028.98 पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 9,158.30 पर खुला और थोड़ी देर में यह 8,894.78 तक पहुंच गया। निफ्टी 313.60 अंक या 3.43 फीसदी टूटकर 8823.25 पर बंद हुआ। करीब 580 शेयरों में तेजी और 1702 शेयरों में गिरावट आई।

कोरोना संकट में GDP का 10% खर्च करने का दावा करने वाली मोदी सरकार ने दिया 1% से भी कम: चिदंबरम

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने निराश व्यक्त की है। पी चिदंबरम ने सरकार की ओर से घोषित आर्थिक पैकेज में गरीबों, किसानों और श्रमिकों की अनदेखी किए जाने का भी आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि सरकार को इस पर पुनर्विचार करना चाहिए और 10 लाख करोड़ रुपये के वित्तीय प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा करनी चाहिए। चिदंबरम ने कहा कि हम इस बात पर गहरा खेद व्यक्त करते हैं कि राजकोषीय प्रोत्साहन पैकेज में कई वर्गों को बेसहारा छोड़ दिया गया है। पूर्व वित्त मंत्री ने यह दावा भी किया कि सरकार की ओर से घोषित पैकेज में सिर्फ 1,86,650 करोड़ रुपये की वित्तीय प्रोत्साहन राशि है जो भारत की जीडीपी का सिर्फ 0.91 फीसदी है।

जैक मा ने सॉफ्टबैंक बोर्ड से दिया इस्तीफा

चीन की प्रमुख ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा के सह-संस्थापक जैक मा ने लगभग 13 वर्षो तक सेवा देने के बाद जापानी समूह सॉफ्टबैंक ग्रुप के बोर्ड इस्तीफा दे दिया। यह जानकारी कंपनी ने सोमवार को दी। सॉफ्टबैंक ने अभी तक कोई कारण नहीं बताया है, लेकिन मा पिछले कुछ समय से परोपकारी कार्यों की ओर ज्यादा ध्यान दे रहे थे और अपने दैनिक भूमिकाओं से दूर हो रहे थे। मा सॉफ्टबैंक के संस्थापक और सीईओ मासायोशी सोन के करीबी हैं। सॉफ्टबैंक ग्रुप में वर्तमान 11 निदेशक हैं। इसमें से केवल जैक मा ने अपने पद से इस्तीफा दिया है।

देशभर में 19 फीसदी घटा चीनी का उत्पादन, यूपी में रिकॉर्ड स्तर पर

देशभर में जहां इस साल चीनी का उत्पादन करीब 19 फीसदी घट गया है, वहां भारत के सबसे बड़े गन्ना उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश में चीनी का उत्पादन अब तक के सबसे उंचे स्तर पर पहुंच चुका है और पूरे प्रदेश में 46 चीनी मिलें अब तक चालू हैं।

निजी चीनी मिलों का संगठन इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन यानी इस्मा के ताजा आंकड़ों के अनुसार, चालू चीनी उत्पादन व विपणन वर्ष 2019-20(अक्टूबर-सितंबर) के दौरान 15 मई तक चीनी का उत्पादन 264.65 लाख टन हुआ है जोकि बीते सीजन के मुकाबले 61.54 लाख टन यानी 18.86 फीसदी कम है जबकि उत्तर प्रदेश में चीनी का उत्पादन 122.28 लाख टन हो चुका है जोकि अब तक का सबसे उंचा स्तर है। इससे पहले उत्तर प्रदेश में 2017-18 के दौरान चीनी का उत्पादन 120.45 लाख टन हुआ था।

एप्पल फिर से खोल रही दुनियाभर में 100 रिटेल स्टोर

एप्पल कंपनी दुनियाभर में अपने 500 से अधिक खुदरा (रिटेल) स्टोरों में से 100 को फिर से खोल रही है। कंपनी का उद्देश्य संचालन को सुरक्षित तरीके से फिर से शुरू करना है। एप्पल ने कोरोना महामारी फैलने के कारण मार्च में ग्रेटर चीन के बाहर अपने सभी रिटेल स्टोर बंद कर दिए थे। ग्रेटर चीन के सभी एप्पल स्टोर अब खुले हैं।

कंपनी की योजना अगले सप्ताह में अमेरिका में 25, कनाडा में 12 और इटली में 10 और स्टोर खोलने की है। एप्पल ने अमेरिका में कुछ स्टोर फिर से खोल दिए हैं, जिनकी शुरुआत इडाहो, दक्षिणी कैरोलिना, अलबामा और अलास्का से हुई है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय