अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: कोरोना के कारण तिरंगे की बिक्री में भारी गिरावट और शेयर बाजार में बहार

घरेलू शेयर बाजार में सोमवार को तेजी के रुझानों के साथ कारोबार हुआ और सत्र के आखिर में सेंसेक्स और निफ्टी दोनों बढ़त के साथ बंद हुए। कोरोना वायरस महामारी के कारण स्कूल, कॉलेज और ज्यादातर निजी प्रतिष्ठान बंद हैं, जिसके चलते स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रमों को लेकर भी अनिश्चितता है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

सेंसेक्स 142 अंक चढ़कर 38182 पर, निफ्टी 11275 पर बंद

घरेलू शेयर बाजार में सोमवार को तेजी के रुझानों के साथ कारोबार हुआ और सत्र के आखिर में प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स करीब 142 अंकों की बढ़त के साथ 38,182 के ऊपर बंद हुआ और निफ्टी ने भी करीब 61 अंकों की तेजी के साथ 11,275 के करीब विराम लिया। हेल्थकेयर सेक्टर के शेयरों में जोरदार लिवाली रही। सेंसेक्स बीते सत्र से 141.51 अंकों यानी 0.37 फीसदी की तेजी के साथ 38,182.08 पर बंद हुआ जबकि निफ्टी पिछले सत्र से 60.65 अंकों यानी 0.54 फीसदी की बढ़त के साथ 11,274.70 पर ठहरा।बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र से 127.85 अंकों की तेजी के साथ 38,168.42 पर खुला और 38,430.69 तक उछला, जबकि दिनभर के कारोबार के दौरान सेंसेक्स का निचला स्तर 38,073.29 रहा।नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी पिछले सत्र से 56.20 अंकों की तेजी के साथ 11,270.25 पर खुला और 11,337.30 तक चढ़ा, जबकि दिनभर के कारोबार के दौरान निफ्टी का निचला स्तर 11,238 रहा।

आसुस ने भारत में नए गेमिंग लैपटॉप लॉन्च किए

ताइवान की प्रौद्योगिकी दिग्गज आसुस ने सोमवार को भारतीय बाजार में 79,990 रुपये की शुरूआती कीमत के साथ नए गेमिंग लैपटॉप लॉन्च करने की घोषणा की। आरओजी स्ट्रिक्स जी15/जी17 (जी512/जी712) और स्ट्रिक्स स्कार 15/17 (जी532/जी732) लैपटॉप 10वीं जनरल इंटेल कोर आई7 एच-सीरीज प्रोसेसर के साथ नए एडिशन हैं।आसुस इंडिया में सिस्टम बिजनेस ग्रुप और कंज्यूमर एंड गेमिंग पीसी के व्यवसाय प्रमुख अर्नोल्ड सु ने कहा, आरओजी लैपटॉप की नई रेंज के साथ हमारा उद्देश्य सबसे शक्तिशाली गेमिंग हार्डवेयर को एक हल्के, पोर्टेबल और बजट के अनुकूल चेसिस में इंजीनियर करना है।15-इंच और 17-इंच स्ट्रिक्स जी और स्ट्रिक्स स्कार लैपटॉप एक शानदार गेमिंग अनुभव के लिए तीन एमएस (मिलीसेकंड) प्रतिक्रिया समय के साथ एक शक्तिशाली 300 हाट्र्ज उच्च ताजा दर (हाई रिफ्रेश रेट) तक बेहतरीन प्रदर्शन करता है।लैपटॉप डीडीआर4 3200 मेगाहट्र्ज रैम और नविदिया जीई-फोर्स आरटीएक्स 2080 सुपर जीपीयू के साथ शानदार फीचर्स के साथ आता है।


व्हाटस चैट हिस्ट्री को कई डिवाइसों पर कर सकेंगे सिंक

फेसबुक के स्वामित्व वाले व्हाट्सएप पर आजकल एक नए फीचर पर काम जारी है, जिससे यूजर्स अपनी चैट हिस्ट्री को कम से कम अलग-अलग चार डिवाइसों पर सिंक कर सकेंगे। फिलहाल व्हाट्सएप केवल एक ही डिवाइस पर काम करने में सक्षम है। यूजर्स अपने अकांउट को अलग-अलग डिवाइसों पर इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं और काफी लंबे अर्से से यूजर्स की तरफ से इस फीचर को उपलब्ध कराए जाने की मांग थी।व्हाट्सएप बीटा को ट्रैक करने वाली एक फैन वेबसाइट वाबेटाइन्फो के मुताबिक, यह मैसेजिंग ऐप एक ही अकांउट को अलग-अलग डिवाइसों पर चलाए जाने की संभावना पर काम कर रही है।रविवार को इस रपट में कहा गया, एक ही समय में चार डिवाइसों पर अकांउट को चलाए जाने की दिशा में वह काम कर रहे हैं।व्हाट्सएप पहले से ही एंड्रॉयड के साथ-साथ आईओएस के लिए एक इंटरफेस के निर्माण पर काम कर रही है।

महामारी के कारण तिरंगे की बिक्री में आई भारी गिरावट

कोरोनावायरस महामारी के कारण स्कूल, कॉलेज और ज्यादातर निजी प्रतिष्ठान बंद हैं, जिसके चलते स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रमों को लेकर भी अनिश्चितता है। इसका सीधा असर खादी ग्राम उद्योग द्वारा बनाए गए तिरंगों की बिक्री पर पड़ा है। लखनऊ में खादी आश्रम के एक कर्मचारी ने कहा, "हर साल हम राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री में वृद्धि देखते आ रहे हैं। लेकिन इस साल इसकी मांग न के बराबर है। सरकारी कार्यालयों को छोड़कर, अधिकांश निजी प्रतिष्ठान ध्वजारोहण समारोह नहीं कर रहे हैं। उनका कहना है कि चूंकि हर कोई घर से काम कर रहा है, ऐसे में समारोह के लिए कर्मचारियों को बुलाने का कोई मतलब नहीं है।"उन्होंने आगे कहा कि लगभग 70 फीसदी बिक्री स्कूलों, कॉलेजों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों में होती है, लेकिन इस साल उनकी ओर से शायद ही कोई ऑर्डर मिले हैं। लिहाजा कारोबार में 90 फीसदी तक की गिरावट आई है।ब्रिकी में कमी के पीछे एक और कारण एमेजॉन जैसी साइट्स के जरिए तिरंगों की ऑनलाइन बिक्री होना है।


कोविड-19 ने 'भारतीय उपभोक्ताओं' को स्थायी रूप से बदल दिया है

कोविड -19 महामारी ने भारत में उपभोक्ताओं के व्यवहार को स्थायी रूप से बदल दिया है। सोमवार को एक रिपोर्ट में सामने आया है कि एक सर्वे में शामिल 90 प्रतिशत लोगों में उनके रहने, काम करने के तरीके, खरीदने में ऐसे स्थायी बदलाव आए हैं, जो अब शायद महामारी फैलने के पहले के दिनों की तरह फिर से नहीं हो पाएंगे। एक्सेंचर की 'कोविड-19 कंज्यूमर पल्स रिसर्च' के अनुसार, 85 फीसदी लोगों ने कहा कि उन्होंने स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए खरीदारी की। वहीं 85 फीसदी ने कहा कि उन्होंने खाने की बर्बादी को रोकने पर फोकस किया। यह सर्वे मार्च और जून के बीच भारत में 2,500 (वैश्विक स्तर पर कुल 45,000 के बीच) उपभोक्ताओं के बीच किया गया था।भारत में एक्सेंचर के स्ट्रेटजी और कंसल्टिंग के मैनेजिंग एडिटर अनुराग गुप्ता ने कहा, "महामारी ने ब्रांड लॉयलटी को लेकर खासा बदलाव लाया है, अब उपभोक्ता पहले से अधिक सामाजिक, पर्यावरणीय रूप से टिकाऊ और स्वस्थ के लिहाज से बेहतर विकल्प चुन रहे हैं।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia