अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: दिवालियापन के नए मामले में 1 साल तक कार्रवाई पर रोक और छोटी-छोटी तकनीकी भूल अपराध से मुक्त

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने रविवार को कंपनी कानून में बदलाव की घोषणा करते हुए कहा कि सरकार ने छोटी-छोटी तकनीकी और प्रक्रियात्मक भूलों से कंपनी कानून के उल्लंघन के मामलों को अपराध से मुक्त करने का फैसला लिया है। दिवालियापन कोई नया मामला एक साल तक दर्ज नहीं किया जाएगा।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कंपनी कानून में बदलाव, छोटी-छोटी तकनीकी भूल अपराध से मुक्त

केंद्रीय वित्त एवं कंपनी कार्य मंत्री निर्मला सीतारमण ने रविवार को कंपनी कानून में बदलाव की घोषणा करते हुए कहा कि सरकार ने छोटी-छोटी तकनीकी और प्रक्रियात्मक भूलों से कंपनी कानून के उल्लंघन के मामलों को अपराध से मुक्त करने का फैसला लिया है।

ऐसी चूकों को पहले अपराध की श्रेणी में रखा जाता है लेकिन अब इन्हें आपराधिक सूची से हटा दिया जाएगा। मसलन, कारोपोरेट सोशल रिस्पांबिलीटी यानी सीएसआर की रिपोटिर्ंग में अगर कहीं कोई कमी रह गई हो या बोर्ड रिपोर्ट में चूक हो गई हो या फाइलिंग के समय कोई कमी रह गई हो या फिर सालाना आम बैठक यानी एजीएम में देरी हो गई, ऐसी चूकों या भूलों को अब अपराध नहीं माना जाएगा।

दिवालियापन के नए मामले में 1 साल तक कार्रवाई पर रोक

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने रविवार को एक बड़ा एलान करते हुए कहा कि कोरोना वायरस के मद्देनजर दिवालियापन कोई नया मामला एक साल तक दर्ज नहीं किया जाएगा। इस प्रकार सरकार ने एक साल तक दिवालियापन की कार्रवाई पर रोक लगा दी है।

वित्तमंत्री ने कहा कि दिवाला कोड की धारा 240 ए के तहत सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम के लिए स्पेशल इन्सॉल्वेंसी फ्रेमवर्क बनाया जाएगा और उन पर दिवालियापन की कार्रवाई के लिए न्यूनतम सीमा को एक लाख से बढ़ाकर एक करोड़ करने का फैसला लिया गया जिससे एमएसएमई सेक्टर की चिंता दूर होगी। इसके अलावा स्पेशल इन्सॉल्वेंसी रेज्यूलेशन फ्रेमवर्क को आईबीसी के 240 ए में जोड़ दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि कोरोनावायरस के कारण होने वाले कर्ज को चूक की श्रेणी में नहीं रखा जाएगा जिससे उस पर दिवालियापन की कार्यवाही नहीं होगी।

अप्रैल में फेसबुक गेमिंग में 238 फीसदी वृद्धि, ट्विच पर सबसे ज्यादा समय गेम खेला गया

कोविड-19 महामारी के कारण लागू बंद की वजह से अधिकतर लोग घर पर बैठकर ऑनलाइन गेमिंग के जरिए अपना समय बिता रहे हैं। अप्रैल (साल-दर-साल) महीने के दौरान फेसबुक गेमिंग के घंटों में 238 फीसदी की भारी बढ़ोतरी दर्ज की गई है। इसके बाद लाइव गेम स्ट्रीमिंग प्लेटफार्म ट्विच का स्थान आता है, जिसमें गेमिंग के घंटों में 101 फीसदी और यूट्यूब व्यूअरशिप में 65 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई है। लाइव स्ट्रीमिंग डेटा एनालिटिक्स प्लेटफार्म स्ट्रीमएलीमेंट और आर्सेनल की रिपोर्ट में बताया गया है कि गेमिंग में सबसे ज्यादा घंटे किस प्लेटफार्म पर बिताए गए हैं। इसमें सबसे ऊपर ट्विच का नाम आता है, जिसे 1.65 अरब घंटे देखा गया है। वहीं यूट्यूब को 46.1 करोड़ घंटे और फेसबुक गेमिंग को 29.1 करोड़ घंटे (अप्रैल 2019 में सिर्फ 8.6 करोड़ घंटे था) तक देखा गया।

हालांकि सबसे कम बढ़ोतरी माइक्रोसॉफ्ट मिक्सर में देखी गई, जिसके गेमिंग के घंटों में सिर्फ 0.2 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई।

चीन ने विश्व व्यापार संगठन के सदस्यों से सहयोग मजबूत करने की अपील की

विश्व व्यापार संगठन के परिषद की वीडियो कान्फ्रेंस पर डब्ल्यूटीओ स्थित चीनी स्थाई प्रतिनिधि चांग श्यांग छन ने बताया कि कोविड-19 महामारी से सदस्यों पर अल्पकाल और दीर्घकाल का प्रभाव पड़ा है। वैश्विक संकट में सदस्य आपसी सहयोग और संपर्क मजबूत करने से ही कठिनाई से पार पा सकेंगे ।

उन्होंने कहा कि संकट के निपटारे के लिए चीन तीन सूत्रीय सुझाव पेश करता है। पहला, व्यापार नियंत्रण कदम उठाने से बचना चाहिए। दूसरा, व्यवस्थित रूप से डब्ल्यूटीओ के सामान्य कार्य की बहाली की जाए। तीसरा, विकासशील देशों खासकर अति अविकसित देशों की कठिनाइयों पर कड़ी नजर रखकर लक्षित मदद दी जाए।

29 प्रतिशत पुरुष, 25 प्रतिशत महिलाएं पहली बार घरों से कर रहे काम

कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने के लिए लागू राष्ट्रव्यापी बंद के दौरान देश भर के विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े लोग अपने घरों से ही काम (वर्क फ्रॉम होम) कर रहे हैं। लगभग 29 प्रतिशत पुरुष और 25 प्रतिशत महिलाओं ने पहली बार घर से काम शुरू किया है। यह बात आईएएनएस-सीवोटर सर्वेक्षण में शनिवार को सामने आई। सर्वेक्षण के अनुसार, लगभग 29.7 प्रतिशत पुरुषों ने पहली बार घर से काम करना शुरू किया है, जबकि 5.3 प्रतिशत पहले भी ऐसा कर चुके हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि 56.9 फीसदी लोगों ने कहा कि बंद के बीच वे घर से काम नहीं कर रहे हैं।

इसी तरह महिला कर्मचारियों की बात करें तो लगभग 25 प्रतिशत महिलाओं ने बंद के बीच पहली बार घर से काम करना शुरू कर दिया है।

सर्वेक्षण के अनुसार, 7.4 प्रतिशत महिलाएं पहले से ही घर से काम कर रही हैं, जबकि 63.8 प्रतिशत से अधिक महिलाओं ने कहा कि वे घर से काम नहीं कर रही हैं।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय