अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: HLL बायोटेक का वैक्सीन निर्माण के लिए उपयोग नहीं और सैमसंग, सोनी, हिताची ने हेल्थटेक फर्म में किया निवेश

तमिलनाडु के एचएलएल बायोटेक का 100 एकड़ का विशाल परिसर सभी आधुनिक सुविधाओं से लैस है और टीके के निर्माण के लिए यहां अत्याधुनिक तकनीक है। सैमसंग, सोनी और हिताची ने यूके की हेल्थटेक कंपनी हुमा थैरेप्यूटिक्स लिमिटेड में लगभग 130 मिलियन डॉलर का निवेश किया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

तमिलनाडु की एचएलएल बायोटेक कंपनी का वैक्सीन निर्माण के लिए नहीं हो रहा उपयोग

तमिलनाडु के चेंगलपेट में चेन्नई से 55 किलोमीटर दूर स्थित एचएलएल बायोटेक का 100 एकड़ का विशाल परिसर सभी आधुनिक सुविधाओं से लैस है और टीके के निर्माण के लिए यहां अत्याधुनिक तकनीक है। इसके बावजूद कोविड-19 महामारी की पहली लहर के दौरान वैक्सीन निर्माण के लिए इसका उपयोग नहीं किया गया। वैक्सीन के निर्माण के लिए एकीकृत वैक्सीन कॉम्प्लेक्स (आईवीसी) के लिए निविदा जारी किए जाने के बाद भी सार्वजनिक क्षेत्र के इस उपक्रम की सुविधा का उपयोग करने के लिए कोई आगे नहीं आया।

एचएलएल बायोटेक की वार्षिक क्षमता 58.5 करोड़ वैक्सीन खुराक बनाने की है । इसका उद्देश्य भारत सरकार के यूनिवर्सल टीकाकरण कार्यक्रम (यूआईपी) के तहत टीके बनाना था। कंपनी का गठन यूआईपी के तहत टीकों की निर्बाध आपूर्ति के लिए किया गया था। किसी भी महामारी की स्थिति में जरूरत पूरी करने के लिए यहां अत्याधुनिक बहु-जीवाणु और बहु-वायरल सुविधाएं हैं।

टेक महिंद्रा और एचसीएल ने ऑक्सीजन आपूर्ति में मदद की घोषणा की

फोटो: IANS
फोटो: IANS

भारत में कोविड की दूसरी लहर का कहर जारी है। इस बीच प्रौद्योगिकी कंपनियों एचसीएल और टेक महिंद्रा ने बुधवार को कोविड के खिलाफ देश की लड़ाई को मजबूत करने के लिए अपना समर्थन देने की घोषणा की है।

टेक महिंद्रा की सीएसआर शाखा टेक महिंद्रा फाउंडेशन ने डेमोक्रेसी पीपुल्स फाउंडेशन की एक पहल मिशन ऑक्सीजन को अपना समर्थन देने की घोषणा की, ताकि पूरे भारत में ऑक्सीजन की आपूर्ति का अंतिम-मील वितरण सुनिश्चित किया जा सके।

साझेदारी यह सुनिश्चित करने का प्रयास करेगी कि अस्पताल, नसिर्ंग होम और चिकित्सा देखभाल सुविधाएं, विशेष रूप से टियर-2 शहरों में ऑक्सीजन तक तत्काल पहुंच प्राप्त हो।

श्याओमी को काली सूची से हटाने के लिए सहमत अमेरिका, कंपनी के शेयरों में उछाल

फोटो: IANS
फोटो: IANS

जो बाइडेन प्रशासन स्मार्टफोन बनाने वाली चीनी कंपनी श्याओमी को काली सूची (ब्लैकलिस्ट) से हटाने के लिए सहमत हो गया है। इससे पहले डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने कंपनी को काली सूची में डाल दिया था। ट्रंप प्रशासन ने इसे कम्युनिस्ट चीनी सैन्य कंपनी करार दिया था और इसे अमेरिकी कंपनियों के साथ व्यवसाय करने से रोक दिया था।

श्याओमी को इस साल जनवरी में कथित चीनी सैन्य कंपनियों की अमेरिकी सैन्य सूची में डाल दिया गया था। वहीं चीनी की ओर से प्रतिबंध के खिलाफ मुकदमा दायर किया गया था।

अब अमेरिकी रक्षा विभाग ने मंगलवार को श्याओमी को ब्लैकलिस्ट से हटाने के लिए सहमति व्यक्त की है। इस खबर के चलते श्याओमी के शेयरों में 6.5 प्रतिशत से ज्यादा की तेजी आई है।

सैमसंग, सोनी, हिताची ने यूके की हेल्थटेक फर्म हुमा में निवेश किया

फोटो: IANS
फोटो: IANS

सैमसंग, सोनी और हिताची ने अपनी नवीनतम सीरीज सी फंडिंग दौर में यूके की हेल्थटेक कंपनी हुमा थैरेप्यूटिक्स लिमिटेड में लगभग 130 मिलियन डॉलर का निवेश किया है। ये जानकारी कंपनी ने बुधवार को दी है।

बेयर और हिताची वेंचर्स द्वारा लीप्स ने सी फंडिंग राउंड का नेतृत्व किया, जिसमें सैमसंग नेक्स्ट के रणनीतिक और वित्तीय निवेशक, आईजीवी द्वारा सोनी इनोवेशन फंड, एचएटी द्वारा यूनिलीवर वेंचर्स और एचएटी टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन फंड, साथ ही व्यक्तियों में निको अरोरा ( सॉफ्टबैंक के पूर्व प्रेसिडेंट) और माइकल डाइकमैन (एलियांज के अध्यक्ष) को भी देखा गया।

कंपनी ने एक बयान में कहा कि निवेश हुमा के मॉड्यूलर प्लेटफॉर्म को राष्ट्रीय स्तर पर डिजिटली घर पर अस्पतालों को राष्ट्रीय स्तर पर पावर दे सकता है और सबसे बड़े विकेंद्रीकृत क्लिनिकल ट्रायल को चलाने के लिए फार्मास्युटिकल और रिसर्च इंडस्ट्रीज का समर्थन कर सकता है।

एप्पल ने 2020 में धोखाधड़ी वाले 1.5 अरब डॉलर के लेनदेन से ग्राहकों को बचाया

फोटो: IANS
फोटो: IANS

एप्पल ने अपने ऐप स्टोर पर संभावित धोखाधड़ी वाले लेनदेन में 1.5 अरब डॉलर से अधिक के मूल्य वाले मामले में अपने ग्राहकों की रक्षा की, उनके पैसे, सूचना और समय की चोरी की कोशिश को रोका और पिछले साल लगभग दस लाख जोखिम भरे नए ऐप को अपने सिस्टम से दूर रखा। इसकी घोषणा कंपनी ने की है। 2020 में, लगभग दस लाख समस्याग्रस्त नए ऐप और अतिरिक्त 10 लाख ऐप अपडेट को उन जैसे कई कारणों की वजह से हटा दिया गया था।

टेक दिग्गज ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि 2020 में, धोखाधड़ी के उल्लंघन के लिए ऐप स्टोर से लगभग 95,000 ऐप हटा दिए थे।

एप्पल ने बताया, "जब इस तरह के ऐप का पता चलता है, तो उन्हें स्टोर से तुरंत खारिज या हटा दिया जाता है और डेवलपर्स को उनके खातों को स्थायी रूप से समाप्त करने से पहले 14 दिन की अपील प्रक्रिया के बारे में सूचित किया जाता है।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia