अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: निर्यात के मुकाबले अगस्त में ज्यादा घटा भारत का आयात और जानें कैसे पटरेगी पर लौटेगी अर्थव्यवस्था

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बुधवार को कहा कि कोविड-19 महामारी के प्रतिकूल प्रभाव से थमी भारतीय अर्थव्यवस्था धीरे-धीरे पटरी पर लौटेगी। कोरोना काल में निर्यात के मुकाबले देश के आयात में ज्यादा गिरावट आई है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

बांग्लादेश की अर्थव्यवस्था में होगी 6.8 फीसदी की रिकवरी : एडीबी

एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने वित्तीय वर्ष 2020-21 में बांग्लादेश के लिए मजबूत आर्थिक सुधार का अनुमान लगाया है। एडीबी ने इस दौरान बांग्लादेश का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) 6.8 प्रतिशत बढ़ने की उम्मीद जताई है।

ढाका में एडीबी के स्थानीय निदेशक मनमोहन प्रकाश ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि बांग्लादेश में 2021 में मालदीव, भारत और चीन के बाद एशिया-प्रशांत क्षेत्र में उल्लेखनीय वृद्धि देखी जा सकती है। महामारी के समय पड़ोसी अर्थव्यवस्थाएं काफी नीचे चली गई हैं, जिनमें ऐतिहासिक तौर पर चढ़ाव देखने को मिलेगा।

सितंबर 2020 तक बांग्लादेश इस क्षेत्र में 46 देशों के बीच सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाली अर्थव्यवस्था रहा है, जिसमें ऐसी कई अर्थव्यवस्थाएं भी शामिल हैं, जिनकी वृद्धि नकारात्मक दर्ज की गई है। हालांकि अर्थव्यवस्थाओं की रिकवरी भी तेजी से और बड़े पैमाने पर होगी। अगर मालदीव की बात करें तो इसकी अर्थव्यवस्था जो फिलहाल माइनस 20.5 प्रतिशत है, वह एक वर्ष में बड़े उछाल के साथ 10.5 प्रतिशत तक पहुंच जाएगी।

महामारी के प्रभाव से धीरे-धीरे पटरेगी पर लौटेगी अर्थव्यवस्था

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बुधवार को कहा कि कोविड-19 महामारी के प्रतिकूल प्रभाव से थमी भारतीय अर्थव्यवस्था धीरे-धीरे पटरी पर लौटेगी। फिक्की की राष्ट्रीय कार्यकारी समिति की बैठक को संबोधित करते हुए दास ने कहा कि देश अभी भी कोरोना वायरस के प्रभाव में है और विकास की रफ्तार धीरे-धीर लौटेगी। वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में स्थितियां सुधरी हैं।

उन्होंने कहा, फिर भी, कृषि गतिविधियों और विनिर्माण और निजीकरण के लिए परचेिंजंग मैनेजिंग इंडेक्स (पीएमआई) से जो संकेत मिले हैं, उससे लगता है कि दूसरी तिमाही में आर्थिक गतिविधियों का स्थिरीकरण हो सकता है। इसके अलावा कई क्षेत्रों में संकुचन (कांट्रैक्शन) भी कम हो रहे हैं।

रिकवरी, हालांकि अभी तक पूरी तरह से नहीं है लेकिन कुछ क्षेत्रों में जून और जुलाई में सुधार हुआ है। सभी संकेतों से लगता है कि रिकवरी धीरे-धीरे होने की संभावना है क्योंकि अर्थव्यवस्था को फिर से खोलने की दिशा में प्रयासों को बढ़ते संक्रमण का सामना करना पड़ रहा है।

ऐप्पल का नया आईपैड 8 : किफायती व मजबूत


ऐप्पल ने आठवीं पीढ़ी के आईपैड लांच की है जिसमें पॉवरफूल ए12 बायोनिक चिप है। इसके वाई-फाई मॉडल की शुरुआती कीमत 29,900 रुपये रखी गई है, जबकि वाई-फाई प्लस सेल्युलर मॉडल की कीमत 41,900 रुपये है। ए12 बायोनिक चिप के साथ आठवीं पीढ़ी के इस आईपैड का मकसद बेहतरीन प्रदर्शन दिलाना है, जिसमें सीपीयू का परफॉर्मेस 40 फीसदी तेज और ग्राफिक्स की क्षमता पहले से दोगुनी है।

ऐप्पल के वर्ल्डवाइड मार्केटिंग के वरिष्ठ उपाध्यक्ष ग्रेग जोसिऐक ने मंगलवार को एक बयान में कहा, "इसमें 10.2 इंच रेटिना डिस्प्ले, शानदार कैमरे, बेहतरीन परफॉर्मेस के लिए ए12 बायोनिक चिप सहित और भी काफी कुछ है। यह आईपैड पहले से कहीं अधिक बेहतर है और वक्त के हिसाब से इसकी जरूरत भी पहले से कहीं ज्यादा है क्योंकि हमारे ग्राहकों को काम करने, खेलने, सीखने और अपने प्रियजनों संग जुड़े रहने के लिए का एक पॉवरफु ल और बहु उपयोगी माध्यम की आवश्यकता है।"

कच्चे तेल में दूसरे दिन तेजी जारी, पेट्रोल, डीजल के दाम में गिरावट पर लगा ब्रेक


तूफान के चलते अमेरिका में कच्चे तेल का उत्पादन प्रभावित होने और तेल का भंडार घटने के अनुमानों के बीच अंतर्राष्ट्रीय बाजार में बुधवार को लगतार दूसरे दिन तेल की कीमतों में तेजी जारी रहा। वहीं, भारत में बीते दो दिनों से जारी पेट्रोल और डीजल के दाम में गिरावट पर ब्रेक लग गया है। तेल विपणन कंपनियों ने बुधवार को पेट्रोल के दाम में कोई बदलाव नहीं किया, जबकि एक दिन पहले पेट्रोल के दाम में दिल्ली, कोलकाता और मुंबई में 17 पैसे, जबकि चेन्नई में 15 पैसे प्रति लीटर की कटौती की गई थी। वहीं, डीजल के दाम में दिल्ली और कोलकाता में 22 पैसे जबकि मुंबई में 24 पैसे और चेन्नई में 21 पैसे प्रति लीटर की कटौती की गई थी।

इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल का दाम बिना किसी बदलाव के क्रमश: 81.55 रुपये, 83.06 रुपये, 88.21रुपये और 84.57 रुपये प्रति लीटर पर बना हुआ है। डीजल की कीमत भी चारों महानगरों में क्रमश: 72.56 रुपये, 76.06 रुपये, 79.05 रुपये और 77.91 रुपये प्रति लीटर पर स्थिर बनी हुई है।

निर्यात के मुकाबले अगस्त में ज्यादा घटा भारत का आयात


कोरोना काल में निर्यात के मुकाबले देश के आयात में ज्यादा गिरावट आई है। केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय की ओर से मंगलवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, अगस्त में भारत का निर्यात 12.66 फीसदी घटा है जबकि आयात में 26.04 फीसदी की गिरावट रही। भारत ने बीते महीने अगस्त में 22.70 अरब डॉलर मूल्य के व्यापारिक वस्तुओं का निर्यात किया जबकि एक साल पहले इसी महीने में देश से 25.99 अबर डॉलर मूल्य के व्यापारिक वस्तुओं का निर्यात हुआ था। इस प्रकार, व्यापारिक वस्तुओं के निर्यात में पिछले साल के मुकाबले 12.66 फीसदी की गिरावट आई।

वहीं, भारत ने इस साल अगस्त में 29.47 अरब डॉलर मूल्य का आयात किया जबकि पिछले साल इसी महीने में देश का आयात 39.85 अरब डॉलर था। इस प्रकार आयात में पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले बीते महीने 26.04 फीसदी की गिरावट आई।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय
next