अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: शेयर बाजार में भूचाल, सेंसेक्स धड़ाम और IMF ने का भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर बड़ी भविष्यवाणी

बैंकिंग और वित्तीय सेक्टरों के शेयरों में बिकवाली के भारी दबाव के चलते बुधवार को घरेलू शेयर बाजार में कोहराम का आलम रहा। अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) ने 2021 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 11.5 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है।

फोटो : IANS
फोटो : IANS
user

नवजीवन डेस्क

सेंसेक्स 938 अंक लुढ़का, निफ्टी 14,000 के नीचे बंद

बैंकिंग और वित्तीय सेक्टरों के शेयरों में बिकवाली के भारी दबाव के चलते बुधवार को घरेलू शेयर बाजार में कोहराम का आलम रहा। सेंसेक्स 938 अंकों का गोता लगाकर 47,410 के करीब बंद हुआ और निफ्टी भी 271 अंक लुढ़ककर 13,967 पर बंद हुआ। सेंसेक्स पिछले सत्र से 937.66 अंकों यानी 1.94 फीसदी की गिरावट के साथ 47,409.93 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 271.40 अंकों यानी 1.91 फीसदी की गिरावट के साथ 13,967.50 पर ठहरा।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र से 37.69 अंकों की बढ़त के साथ 48,385.28 पर खुला और 48,387.25 तक चढ़ने के बाद बिकवाली के दबाव में बंद होने से पहले फिसलकर 47,269.60 पर आ गया।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी पिछले सत्र से महज 0.95 अंकों की बढ़त के साथ 14,237.95 पर खुला और दिनभर के कारोबार के दौरान13,929.30 तक टूटा।

पेट्रोल, डीजल के दाम में लगातार दूसरे दिन वृद्धि जारी

अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: शेयर बाजार में भूचाल, सेंसेक्स धड़ाम और IMF ने का भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर बड़ी भविष्यवाणी

पेट्रोल और डीजल के दाम में बुधवार को फिर लगातार दूसरे दिन बढ़ोतरी हुई जिससे पेट्रोल का दाम फिर एक नई उंचाई पर चला गया है। तेल विपणन कंपनियों ने पेट्रोल के दाम में फिर दिल्ली में 25 पैसे, कोलकाता और मुंबई में 24 पैसे जबकि चेन्नई में 22 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि की है। वहीं, डीजल के दाम में दिल्ली और कोलकाता में 25 पैसे, मुंबई में 27 पैसे और चेन्नई में 24 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि की गई है। इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल का भाव बढ़कर क्रमश: 86.30 रुपये, 87.69 रुपये, 92.86 रुपये और 88.82 रुपये प्रति लीटर पर हो गया है।

डीजल की कीमतें भी बढ़कर दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में क्रमश: 76.48 रुपये, 80.08 रुपये, 83.30 रुपये और 81.71 रुपये प्रति लीटर हो गई हैं।


अभियान के तौर पर चल रहा 10000 नए एफपीओ बनाने का काम : तोमर

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर
कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर
फोटो : सोशल मीडिया

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास, पंचायत राज तथा खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बुधवार को कहा कि देशभर में 10,000 नए कृषक उत्पादक संगठन (एफपीओ) बनाने का काम अभियान के तौर पर चल रहा है। उन्होंने कहा कि एफपीओ की मदद से किसानों को अपनी कृषि उपज का वाजिब दाम मिलेगा और वे महंगी फसलों की खेती के प्रति उनका रुझान बढ़ेगा। केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि एफपीओ की मदद से किसानों के लिए नई प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करना सुगम हो जाएगा और उनको खाद्य प्रसंस्करण उद्योग का भी फायदा मिल पाएगा।

कृषि मंत्री तोमर लघु कृषक कृषि व्यापार संघ (एसएफएसी) की 25वीं प्रबंधन बोर्ड (बीओएम) एवं 20वीं वार्षिक साधारण सभा (एजीएम) की बैठक को संबोधित कर रहे थे।

दुनिया में सबसे तेज़ बढ़ेगी भारत की अर्थव्यवस्था, 2021 में 11.5 फीसदी रहेगी आर्थिक वृद्धि : IMF

अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) ने 2021 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 11.5 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है। कोरोना वायरस महामारी के बीच बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में भारत एकमात्र देश है जिसकी आर्थिक वृद्धि दर इस साल दहाई अंक में होगी। आईएमएफ ने मंगलवार को जारी अपने ताजा विश्व आर्थिक परिदृश्य में वृद्धि का अनुमान जताया है। यह अर्थव्यवस्था में तेजी से पुनरूद्धार को बताता है।

वर्ष 2020 में महामारी के कारण इसमें 8 प्रतिशत की गिरावट का अनुमान है। मुद्राकोष ने अद्यतन रिपोर्ट में 2021 में 11.5 प्रतिशत वृद्धि का अनुमान जताया। इस लिहाज से अगले साल भारत बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में एकमात्र देश होगा जिसकी वृद्धि दर दहाई अंक में होगी। वृद्धि के लिहाज से चीन 2021 में 8.1 प्रतिशत के साथ दूसरे स्थान पर होगा। उसके बाद क्रमश: स्पेन (5.9 प्रतिशत) और फ्रांस (5.5) का स्थान रहने का अनुमान है।


2020 में चीन के बड़े उद्यमों के मुनाफे की वृद्धि दर 4.1 प्रतिशत रही

चीनी राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो द्वारा 27 जनवरी को जारी आंकड़ों के अनुसार, 2020 के अंत तक देश में बड़े औद्योगिक उद्यमों का कुल लाभ 64 खरब 51 अरब 61 करोड़ युआन रहा, जिसकी वृद्धि दर वर्ष 2019 से 4.1 फीसदी अधिक रही। 2020 में 41 प्रमुख औद्योगिक क्षेत्रों में 26 उद्योगों के कुल मुनाफे में इजाफा देखा गया, जिनमें विशेष उपकरण निर्माण उद्योग का कुल लाभ 24.4 फीसदी बढ़ा, रासायनिक कच्चे माल और रासायनिक उत्पाद निर्माण उद्योग में 20.9 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई। वहीं अलौह धातु गलाने और रोलिंग प्रसंस्करण उद्योग में 20.3 प्रतिशत की वृद्धि हुई। जबकि कंप्यूटर, संचार और अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण विनिर्माण उद्योग में 17.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई। उधर, तेल और गैस निष्कर्षण उद्योग में 83.2 फीसदी की गिरावट देखी गयी, वहीं कोयला खनन और धुलाई उद्योग में भी 21.1 प्रतिशत की कमी आयी।

आंकड़ों के अनुसार पिछले दिसंबर में बड़े चीनी औद्योगिक उद्यमों की वृद्धि दर 20.1 प्रतिशत रही, जो नवंबर से 4.6 प्रतिशत अधिक रही।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia