अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: दिसंबर में टाटा मोटर्स ने किया कमाल और इस साल दिवालिया हो सकता है श्रीलंका!

ऑटोमोबाइल निर्माता टाटा मोटर्स के पैसेंजर व्हीकल्स वर्टिकल ने दिसंबर में हुंडई मोटर इंडिया की तुलना में ज्यादा यूनिट्स की बिक्री की। श्रीलंका एक गहरे वित्तीय और मानवीय संकट का सामना कर रहा है, क्योंकि वहां मंहगाई रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

साल 2022 के पहले सत्र में सेंसेक्स 929 अंक उपर चढ़ा

फोटो: IANS
फोटो: IANS

भारतीय इक्विटी सूचकांक - एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स और एनएसई निफ्टी 50 ने साल 2021 से अपनी बढ़त का सिलसिला जारी रखा और सोमवार को नए साल के पहले कारोबारी सत्र में उच्च स्तर पर बंद हुआ। सेंसेक्स और निफ्टी क्रमश: 59,183 अंक और 17,625 अंक पर बंद हुए, जो शुक्रवार के बंद भाव से 1.6 प्रतिशत ऊपर थे।

एनएसई के आंकड़ों से पता चला है कि कारोबारी सत्र के दौरान, निफ्टी हेल्थकेयर और फार्मा को छोड़कर, सभी सेक्टोरल इंडेक्स हरे रंग में कारोबार कर रहे थे, जबकि बैंकिंग और ऑटो शेयरों में सबसे ज्यादा तेजी आई।

टॉप शेयरों में कोल इंडिया, आयशर मोटर्स, बजाज फाइनेंस, टाटा स्टील और आईसीआईसीआई बैंक क्रमश: 6.4 फीसदी, 4.7 फीसदी, 3.6 फीसदी, 3.5 फीसदी और 3.4 फीसदी की बढ़त के साथ शीर्ष पर बने रहे।

रांची की बिरसा मुंडा जेल ने कैदियों के बनाये मास्क बेचकर लाखों कमाये

रांची के होटवार स्थित बिरसा मुंडा सेंट्रल जेल के कैदियों ने कोरोना काल के दौरान बड़े पैमाने पर मास्क बनाए और इससे जेल प्रशासन को 12 लाख रुपये से भी ज्यादा की कमाई हुई। अब कोविड की तीसरी लहर की आशंकाओं को देखते हुए यहां एक बार फिर से मास्क बनाने का काम शुरू करने की तैयारी चल रही है। कोविड की पिछली दो लहरों के दौरान यहां के कैदियों ने लगभग 32 हजार मास्क बनाए थे और इनकी आपूर्ति विभिन्न सरकारी कार्यालयों और संस्थानों में की गई थी। बिरसा मुंडा सेंट्रल जेल के जेलर मोहम्मद नसीम का कहना है कि यहां के कैदियों द्वारा बनाया गया मास्क लोगों को खूब पसंद आया। तीन लेयर वाले मास्क सूती कपड़ों से बनाए जाते हैं, जिन्हें धोकर कई बार इस्तेमाल किया जा सकता है। पिछली बार यहां तैयार किए गए मास्क रिम्स के विशेषज्ञों के पास भेजे गए थे। वहां से इसे निर्धारित मापदंडों पर उपयुक्त बताए जाने के बाद बड़े पैमाने पर मास्क बनाए गए।


सैमसंग ने मॉनिटर लाइनअप में स्मार्ट टीवी जैसी कार्यक्षमता वाले मॉडल किए पेश

सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स ने सोमवार को अपने मॉनिटर लाइनअप में नए 2022 मॉडल पेश किए जो स्मार्ट टीवी जैसी कार्यक्षमता प्रदान करते हैं। इनमें उच्च प्रदर्शन वाले गेमिंग, घर और कार्यालयों में आईओटी उपकरणों को नियंत्रित करना शामिल है। कंपनी ने एक बयान में कहा कि नया लाइनअप सुंदर तस्वीर की गुणवत्ता और सहज विशेषताएं प्रदान करता है, जो उपभोक्ताओं को उनकी सटीक जरूरतों के अनुरूप मॉनिटर का चयन करते समय अधिक विकल्प देता है।

लेटेस्ट मॉनीटरों में ओडिसी के क्वांटम मिनी एलईडी बैकलाइट पैनल और एचडीआर 2000 जैसे उच्च-प्रदर्शन गेमिंग के साथ-साथ स्मार्ट और प्रो-लेवल तत्वों के लिए सुविधाएं शामिल हैं।

सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स में विजुअल डिस्प्ले बिजनेस के कार्यकारी उपाध्यक्ष हाइसुंग हा ने कहा, "सैमसंग का 2022 लाइनअप मॉनिटर इनोवेशन में अगली पीढ़ी का प्रतिनिधित्व करता है, जो प्रतिस्पर्धी गेमर्स, पेशेवर डिजाइनरों और बीच में सभी की मांगों को पूरा करता है। जैसा कि काम और मनोरंजन की दुनिया का विकास जारी है, हमें ऐसे मॉनिटर देने पर गर्व है जो यूजर्स के अनुभवों को उनके घरों में आराम से बढ़ाते हैं।"

दिसंबर में टाटा मोटर्स की पैंसेजर व्हीकल्स की बिक्री हुंडई से आगे निकली

ऑटोमोबाइल निर्माता टाटा मोटर्स के पैसेंजर व्हीकल्स वर्टिकल ने दिसंबर में हुंडई मोटर इंडिया की तुलना में ज्यादा यूनिट्स की बिक्री की। इसके अलावा, पीवी, टाटा मोटर्स की वाणिज्यिक वाहन खंड में एक प्रमुख उपस्थिति है। टाटा मोटर्स की कुल घरेलू यात्री वाहन बिक्री दिसंबर 2020 में 23,545 यूनिट ऑफ-टेक से 50 प्रतिशत बढ़कर 35,299 यूनिट हो गई।

टाटा मोटर्स के पैसेंजर व्हीकल्स बिजनेस यूनिट के प्रेसिडेंट शैलेश चंद्रा ने कहा, "टाटा मोटर्स पीवी की व्यवसायी बढ़त जारी रही और तिमाही के दौरान और ज्यादा बढ़ गई जबकि महामारी के चलते सेमीकंडक्टर के उत्पादन में कमी देखी गई।" चंद्रा ने यह भी कहा कि नेक्सॉन ईवी और टिगोर ईवी की लगातार बढ़ती मांग के साथ-साथ ईवी फ्लीट सेगमेंट के प्रगतिशील पुनरुद्धार ने इस तेज वृद्धि को चलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।


इस साल दिवालिया हो सकता है श्रीलंका : रिपोर्ट

श्रीलंका एक गहरे वित्तीय और मानवीय संकट का सामना कर रहा है, क्योंकि वहां मंहगाई रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है। खाद्य कीमतें आसमान छू रही हैं जिसके कारण उसके खजाने समाप्त हो रहे हैं। इसी के साथ आशंका है कि 2022 में श्रीलंका दिवालिया हो सकता है। ये जानकारी द गार्जियन की रिपोर्ट से सामने आई है। रिपोर्ट में कहा गया कि राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे के नेतृत्व में सरकार मंदी, कोरोना संकट के तत्काल प्रभाव और पर्यटन के नुकसान का सामना कर रही है, लेकिन उच्च सरकारी खर्च और कर कटौती से राज्य के राजस्व में कमी, विशाल ऋण चुकौती एक जटिल समस्या बन गई है। चीन और विदेशी मुद्रा भंडार एक दशक में अपने सबसे निचले स्तर पर पहुच गया हैं।

इस बीच, सरकार द्वारा घरेलू ऋणों और विदेशी बांडों का भुगतान करने के लिए नोट छापने से मंहगाई को और बढ़ावा मिला है। विश्व बैंक का अनुमान है कि महामारी की शुरूआत के बाद से 500,000 लोग गरीबी रेखा से नीचे आ गए हैं। द गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार, नवंबर में मंहगाई 11.1 प्रतिशत की रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गई और बढ़ती कीमतों के कारण लोग अब अपने परिवारों का पेट पालने में भी अक्षम हो गए हैं।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia